Friday, July 23, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकमीडिया फ़ैक्ट चेकअजित पवार को जाँच एजेंसियों ने दी क्लीन चिट: मीडिया व कॉन्ग्रेस के दुष्प्रचार...

अजित पवार को जाँच एजेंसियों ने दी क्लीन चिट: मीडिया व कॉन्ग्रेस के दुष्प्रचार का Fact Check

महाराष्ट्र एंटी-करप्शन ब्यूरो के डायरेक्टर परमबीर सिंह ने मीडिया के सामने आकर इस दुष्प्रचार का ख़ुद खंडन किया। उन्होंने बताया कि एजेंसी सिंचाई घोटाले से जुड़े 3000 टेंडरों की जाँच कर रही है। उन्होंने.....

मीडिया में ऐसी ख़बरें चल रही हैं कि एंटी-करप्शन ब्यूरो ने अजित पवार के ख़िलाफ़ चल रहे सारे मामलों में जाँच बंद कर के उन्हें क्लीन चिट दे दिया है। साथ ही सोशल मीडिया में इस ख़बर को आधार बना कर यह पूछा गया कि क्या भाजपा के साथ आते ही अजित पवार ‘क्लीन’ हो गए हैं और उन्हें देवेंद्र फडणवीस की सरकार का समर्थन करने के बदले यह इनाम दिया गया है? आजतक और न्यू इंडियन एक्सप्रेस जैसे मुख्यधारा के मीडिया संस्थानों का अलावा नेशनल हेराल्ड जैसे प्रोपेगंडा पोर्टल्स तक, सबने झूठ फैलाया। पत्रकार राजदीप सरदेसाई और कॉन्ग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला भी नहीं चूके।

आजतक ने पूछा कि क्या भाजपा के साथ आते अजित पवार ‘क्लीन’ हो गए हैं? साथ ही लिखा कि उनसे जुड़े सिंचाई घोटाले के 9 मामलों को बंद कर दिया गया है।

आजतक जैसे बड़े मीडिया संस्थान भी नहीं रहे पीछे

राजदीप सरदेसाई ने ‘गोलमाल है भाई, सब गोलमाल है’ गाने का प्रयोग करते हुए तंज कसा कि केस को बंद करने की टाइमिंग संदेहास्पद है।

इसी तरह कॉन्ग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने लिखा कि भ्रष्टाचार के मामलों को बंद किए जाने के एवज में समर्थन माँगा जा रहा है। उन्होंने इसे लोकतंत्र पर धब्बा करार किया।

इधर कॉन्ग्रेस मुखपत्र ‘नेशनल हेराल्ड’ ने लिखा कि अजित पवार को इरीगेशन स्कैम मामले में क्लीन चिट दे दी गई है।

नेशनल हेराल्ड ने फैलाया झूठ: अजित पवार को मिली क्लीन चिट

लेकिन, सच्चाई कुछ और ही निकली। दरअसल, जिन 9 सिंचाई घोटालों की फाइलें बंद की गई थीं, उनमें से एक भी अजित पवार से सम्बंधित नहीं थीं। उन घोटालों का अजित पवार से दूर-दूर तक नाता नहीं था लेकिन मीडिया ने इसे ग़लत तरीके से फैलाया। हालाँकि, जिन केसों को बंद किया गया, वो भी सशर्त रूप से। अगर कुछ और आता है तो उन्हें फिर से खोला जा सकता है।

महाराष्ट्र एंटी-करप्शन ब्यूरो के डायरेक्टर परमबीर सिंह ने मीडिया के सामने आकर इस दुष्प्रचार का ख़ुद खंडन किया। उन्होंने बताया कि एजेंसी सिंचाई घोटाले से जुड़े 3000 टेंडरों की जाँच कर रही है। उन्होंने 9 मामले बंद होने पर टिप्पणी करते हुए कहा कि ये रूटीन इन्क्वाइरी थी। साथ ही उन्होंने साफ़ कर दिया कि इनमें से कोई भी मामला महाराष्ट्र के उप-मुख्यमंत्री अजित पवार से जुड़ा नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कौन है स्वरा भास्कर’: 15 अगस्त से पहले द वायर के दफ्तर में पुलिस, सिद्धार्थ वरदराजन ने आरफा और पेगासस से जोड़ दिया

इससे पहले द वायर की फर्जी खबरों को लेकर कश्मीर पुलिस ने उनको 'कारण बताओ नोटिस' जारी किया था। उन पर मीडिया ट्रॉयल में शामिल होने का भी आरोप है।

जिस भास्कर में स्टाफ मर्जी से ‘सूसू-पॉटी’ नहीं कर सकते, वहाँ ‘पाठकों की मर्जी’ कॉर्पोरेट शब्दों की चाशनी है बस

"भास्कर में चलेगी पाठकों की मर्जी" - इस वाक्य में ईमानदारी नहीं है। पाठक निरीह है, शब्दों का अफीम देकर उसे मानसिक तौर पर निर्जीव मत बनाइए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,862FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe