Wednesday, July 28, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकFact-check: भारतीय वायुसेना ने लॉकडाउन के बीच पैदल घर जा रहे प्रवासी मजदूरों पर...

Fact-check: भारतीय वायुसेना ने लॉकडाउन के बीच पैदल घर जा रहे प्रवासी मजदूरों पर नहीं बरसाए फूल

इस तस्वीर को कॉन्ग्रेस सांसद मनिकम टैगोर समेत कई लोगों ने रीट्वीट किया। टोरल वरिया, जो कि खुद को पूर्व पत्रकार बताती हैं, ने भी इस तस्वीर को शेयर किया। हालाँकि उनका कहना है कि वो इस तस्वीर की पुष्टि नहीं करती हैं।

सोमवार (मई 4, 2020) को फूल बरसाते हुए एक हेलीकॉप्टर की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जिसमें दिखाया जा रहा है कि हेलीकॉप्टर से पैदल चल रहे प्रवासी मजदूरों पर फूल बरसाया जा रहा है। भारतीय सेना के तीनों अंगों ने मेडिकल कर्मचारियों, पुलिस, सफाईकर्मियों और नागरिकों को कोरोना वायरस आपदा के बीच देशहित में योगदान देने के लिए रविवार (मई 3, 2020) को अपने अंदाज में धन्यवाद दिया। वायुसेना ने अस्पताल के ऊपर फूल बरसा कर कोरोना वॉरियर्स को शुक्रिया अदा किया।

अहमदाबाद मिरर के संपादक दीपल त्रिवेदी ने इस तस्वीर की तुलना फ्लाईपास्ट से करते हुए प्रवासी मजदूरों की समस्या से जोड़ने की कोशिश की।

इसके बाद इस तस्वीर को कॉन्ग्रेस सांसद मनिकम टैगोर समेत कई लोगों ने रीट्वीट किया। टोटल वरिया, जो कि खुद को पूर्व पत्रकार बताती हैं, ने भी इस तस्वीर को शेयर किया। हालाँकि उनका कहना है कि वो इस तस्वीर की पुष्टि नहीं करती हैं। उन्हें यह तस्वीर व्हाट्सएप के माध्यम से मिली।

इंडियन स्क्रिप्टर राइटर मयूर पुरी ने भी इस असत्यापित तस्वीर को ट्विटर पर यह कहते हुए शेयर किया कि उन्हें यह फेसबुक पर मिला।

इस तस्वीर को प्रसिद्ध फोटोग्राफर अतुल कसबेकर ने भी रीट्वीट किया।

Photographer Atul Kasbekar’s retweet (image courtesy: @saumyadipta on Twitter)

इसके अलावा कई अन्य लोगों द्वारा इस तस्वीर को शेयर किया गया।

हालाँकि यह तस्वीर डिजिटल तकनीक की मदद से एडिट करके बनाई गई है।

प्रवासी मजदूरों पर हेलीकॉप्टर से फूल बरसाते तस्वीर की सच्चाई क्या है

यह तस्वीर मार्च 2020 की है, जब लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूर सड़कों पर चल रहे थे। यानी कि यह तस्वीर फ्लाईपास्ट के एक महीने पहले की है।

इस तस्वीर को AFP फोटोग्राफर मनी शर्मा ने 27 मार्ट 2020 को फरीदाबाद में लिया था।

और ये फूल बरसाते हेलीकॉप्टर की तस्वीर पीआईबी भुवनेश्वर ने 3 मई 2020 को ट्विटर पर शेयर किया था।

गौरतलब है कि 3 मई को पूरे देश में 23 स्थानों पर वायुसेना ने फ्रंटलाइन वॉरियर्स को धन्यवाद देते हुए पुष्पवर्षा की। दिल्ली एनसीआर के अलावा मुंबई, जयपुर, गुवाहाटी, अहमदाबाद, पटना, लखनऊ और श्रीनगर में भी भारतीय वायुसेना ने कोरोना वॉरियर्स को धन्यवाद देने के लिए फ्लाईपास्ट किया। सीडीएस विपिन रावत ने दिल्ली में नेशनल वॉर मेमोरियल पर वीरगति को प्राप्त जवानों को भी श्रद्धांजलि दी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,573FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe