Saturday, June 15, 2024
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेककश्मीरी पत्थरबाज का खूनी चेहरा अब किसान आंदोलन में प्रोपेगेंडा के लिए, इस्लामी-वामपंथी गैंग...

कश्मीरी पत्थरबाज का खूनी चेहरा अब किसान आंदोलन में प्रोपेगेंडा के लिए, इस्लामी-वामपंथी गैंग फैला रहे फेक न्यूज: ऐसे अकाउंट पर क्यों नहीं लगे बैन

हाल में श्याम मीरा ने ये दिखाने के लिए कि किसान प्रदर्शनकारियों के खिलाफ पुलिस पैलेट गन का प्रयोग कर रही है, एक लड़के की फोटो शेयर की और कहा ये किसान आंदोलन में घायल लड़का है... श्याम मीरा सिंह द्वारा दी गई जानकारी पूरी तरह फर्जी थी और इसका किसान आंदोलन से कोई लेना-देना नहीं है।

किसान आंदोलन के बीच कानून व्यवस्था को बनाए रखना पुलिस के लिए बड़ी चुनौती हो गई है। सुरक्षाकर्मी लगातार कोशिश कर रहे हैं कि अराजक तत्व सीमा से दूर रहें लेकिन वामपंथियों और लिबरलों को उनकी ये कोशिश खास रास नहीं आ रही। फेक न्यूज फैलाकर पुलिस के खिलाफ माहौल बनाया जा रहा है। हाल में यूट्यूबर श्याम मीरा सिंह ने कुछ यही किया, जिसपर उसे आरजे सायमा का भी समर्थन मिल गया।

श्याम मीरा सिंह ने दरअसल ये दिखाने के लिए पुलिस किस तरीके से पैलेट गन का प्रयोग करके प्रदर्शनकारियों पर अत्याचार कर रही है, एक फोटो शेयर की। इस फोटो में एक युवक के चेहरे पर पैलेट गन के निशान थे और आँख पूरी लाल थी। श्याम मीरा सिंह ने इसे शेयर करके लिखा- इस तस्वीर को देखना भी मुश्किल हो रहा है। ये तस्वीर किसान आंदोलन के घायल लड़की है।

श्याम मीरा सिंह का पुराना ट्वीट, जिसे आरजे सायमा ने भी रिपोस्ट किया

इसके बाद इस फोटो को आरजे सायमा ने भी तुरंत रिपोस्ट कर दिया, जैसे वो ऐसे किसी मौके के इंतजार में हों कि ऐसी तस्वीरें उन्हें कब देखने को मिलेंगी।

अपने आपको आरजे और पत्रकार कहने वाले इन दोनों ने लोगों ने एक भी बार इस फोटो को साझा करने से पहले इसकी प्रमाणिकता नहीं जानी। जब हमने इसकी पड़ताल की तो हमें 2016 की न्यू इंडियन एक्सप्रेस रिपोर्ट में इस लड़के की यही तस्वीर मिली।

न्यू इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट

साफ है कि ये फोटो पुरानी और किसान आंदोलन से इसका कोई लेना-देना नहीं। इस खबर में बताया गया है कि युवक का नाम मोहम्मद इमरान पारे हैं। कश्मीर में पत्थरबाजी के खिलाफ जब सुरक्षाबलों ने अपना बचाव पैलेट गन से किया था, उसमें इसके ये चोट आई थी।

इस फोटो की हकीकत का पता लगाकर श्याम मीरा सिंह और सायमा को भी सचेत किया जिसके बाद दोनों ने अपने सोशल मीडिया से ये पोस्ट हटा लिए। लेकिन तब तक लोग इसका स्क्रीनशॉट ले चुके थे। आरजे सायमा से जब एक जब पूछा गया कि उन्होंने ऐसी हरकत क्यों की तो उन्होंने सफाई में कहा इसमें उनकी मंशा गलत नहीं थी इसलिए हकीकत पता लगने पर उसे हटा लिया।

श्याम मीरा सिंह का नया ट्वीट

वहीं श्याम मीरा सिंह ने तो बड़ी चालाकी से अपने ट्वीट को डिलीट किया। फेक न्यूज फैलाने की गलत जानकारी देने की माफी माँगने के बजाय उसने इस फोटो के साथ खुद को फैक्टचेकर बन दिखाते हुए कहा- ये तस्वीर अभी के किसान आंदोलन की नहीं है। कृपया इसे शेयर ना करें। ये तस्वीर जुलाई 2016 की है। तस्वीर में- Mohammad Imran Parray हैं। जो कश्मीर से हैं। चेहरे पर पैलेट गन के निशान हैं। जैसे अभी किसान आंदोलन के दौरान किसानों के शरीर पर मेडिकल जाँच में भी प्रूव हुए।

बता दें कि किसान आंदोलन के समय पुलिस के पैलेट गन के इस्तेमाल पर जो इतना बवाल मचाया जा रहा है। उसे लेकर मालूम हो कि कोर्ट भी यह कह चुका है कि अगर प्रदर्शन शांतिपूर्वक न हो और पुलिसकर्मियों पर भीड़ हमला करें तो बचाव में इन पैलेट गनों का इस्तेमाल किया जा सकता है। ये कहते हुए जम्मू-कश्मीर की कोर्ट ने पैलेट गन को बैन लगाने वाली याचिका को खारिज किया था। फैसला सुनाने वाले जजों का नाम जस्टिस धीरज सिंह ठाकुर और अली मोहम्मद मागरे था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NSA, तीनों सेनाओं के प्रमुख, अर्धसैनिक बलों के निदेशक, LG, IB, R&AW – अमित शाह ने सबको बुलाया: कश्मीर में ‘एक्शन’ की तैयारी में...

NSA अजीत डोभाल के अलावा उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा, तीनों सेनाओं के प्रमुख के अलावा IB-R&AW के मुखिया व अर्धसैनिक बलों के निदेशक भी मौजूद रहेंगे।

अब तक की सबसे अधिक ऊँचाई पर पहुँचा भारत का विदेशी मुद्रा भंडार, उधर कंगाली की ओर बढ़ा पाकिस्तान: सिर्फ 2 महीने का बचा...

एक तरफ पाकिस्तान लगातार बर्बादी की कगार पर पहुँच रहा है, तो दूसरी तरफ भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार बढ़ता जा रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -