Monday, March 1, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया दरिंदों को बचाने के लिए पगलाया NewsLaundry, कंगना और निर्भया की माँ को कहा...

दरिंदों को बचाने के लिए पगलाया NewsLaundry, कंगना और निर्भया की माँ को कहा भला-बुरा

बलात्कारियों के प्रति सहानुभूति दिखाते हुए, दरिंदों का बचाव करते हुए और हत्यारों के पक्ष में बोलते हुए न्यूज़लॉन्ड्री लिखता है कि निर्भया की माँ उसी तरीके से बदला लेना चाहती हैं, जैसा उनकी बेटी के साथ हुआ। प्रोपेगेंडा पोर्टल लिखता है कि मौत की सज़ा हटा दी जानी चाहिए, क्योंकि निर्भया की माँ का मन नहीं बदला जा सकता।

क्या आप चाहते हैं कि बलात्कारी दरिंदों के गुनाह माफ कर दिए जाएँ? निर्भया के गुनहगारों के लिए फाँसी आपको बदला लगता है? जो लोग बलात्कारियों से सहानुभूति दिखाने की बात करते हैं, उन्हें माफ करने की वकालत करते हैं, उनकी बातों पर चुप्पी साध ली जाए? ये सवाल इसलिए मौजूॅं हैं क्योंकि वामपंथी प्रोपेगेंडा पोर्टल न्यूजलॉन्ड्री यही चाहता है। वह चाहता है कि वामपंथी गैंग का जो विरोध करे उनके मुॅंह पर टेप चिपका दिया जाए।

प्रोपेगेंडा पोर्टल के एक लेख में अभिनेत्री कंगना रनौत के लिए ‘वर्बल डायरिया’, ‘महिलाओं से घृणा करने वाली’ और ‘पागलों की रानी’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया गया है। यह लेख लिखा भी एक महिला ने है। नाम है राज्यश्री। क्या कंगना रनौत इसलिए महिला विरोधी क्योंकि उन्होंने बलात्कारियों का बचाव करने वालों का विरोध किया? तो फिर बलात्कारियों का बचाव करने वाले क्या हैं? समाज सुधारक?

न्यूज़लॉन्ड्री लिखता है कि कंगना ने ‘ख़ामोशी स्वर्णिम है’ कहावत नहीं सुनी है। लेकिन, न्यूज़लॉन्ड्री ने तो सुन रखी है न? अगर किसी ने इस कहावत को सुन-समझ कर भी ‘इंटेलेक्चुअल प्रदूषण’ फैलाने की हदें पार कर दी हों तो वो तो उससे भी बदतर है, जिसने नहीं सुनी है ये कहावत। लेकिन, फिर बात यही आती है कि कंगना रनौत चुप क्यों रहे? एक महिला को, अपने दम पर हिमाचल की वादियों से निकल कर मुंबई के मायानगरी में झंडा गाड़ने वाली अभिनेत्री को अपनी बात रखने से रोका क्यों जा रहा है?

दरअसल, न्यूज़लॉन्ड्री कंगना रनौत के एक बयान से खफा है। वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह ने निर्भया की माँ आशा देवी से कहा कि वो निर्भया के बलात्कारियों को माफ़ कर दें। ये कैसा प्रोपेगेंडा है? यहाँ बलात्कारियों की माफ़ी का विरोध करने वाली को महिला-विरोधी कहा जाता है और बलात्कारियों का बचाव करने वालों को पूजा जाता है? क्या वामपंथ की परिभाषा में बलात्कारियों और हत्यारों का समर्थन करना महिलाधिकार के तहत आता है?

न्यूज़लॉन्ड्री की नाराज़गी: कंगना बलात्कारियों के विरोध में क्यों हैं?

इंदिरा जयसिंह ने निर्भया की माँ को सोनिया गाँधी से सीखने की सलाह दी थी। उनका कहना था कि जिस तरह सोनिया ने राजीव के हत्यारों को माफ़ किया, उसी तरह निर्भया की माँ भी करें। सबसे पहली बात तो ये कि उस घटना में राजीव गाँधी समेत 15 लोगों की मौत हुई थी और 45 लोग घायल हुए थे। सोनिया गाँधी कौन होती हैं 60 पीड़ित परिवारों का प्रतिनिधित्व करने वाली? क्या उन सभी ने दोषियों की माफ़ी की अर्जी दी है?

इंदिरा जयसिंह के बयान का कंगना रनौत ने अच्छा जवाब दिया। उन्होंने कहा कि बलात्कारियों के प्रति सहानुभूति रखने वाली इंदिरा जयसिंह को भी उन्हीं दरिंदों के साथ 4 दिन जेल में रखा जाना चाहिए, उन्हें अपने बयान का मतलब समझ में आ जाएगा। बेबाक बॉलीवुड की ‘Queen’ ने कहा कि इंदिरा जयसिंह जैसी औरतों के कोख से ही बलात्कारी पैदा होते हैं। कंगना रनौत के बयान का निर्भया की माँ आशा देवी ने भी समर्थन किया। उन्होंने कहा कि वो कंगना की बयान से सहमत हैं और उनका धन्यवाद करती हैं। बकौल आशा देवी, वो ‘महान’ नहीं बनना चाहतीं और 7 साल पहले उनकी बेटी के साथ जो हुआ, उसके लिए न्याय चाहती हैं।

लेकिन, न्यूज़लॉन्ड्री की नज़र में ये ‘न्याय’ नहीं बल्कि ‘बदला’ है। बलात्कारियों के प्रति सहानुभूति दिखाते हुए, दरिंदों का बचाव करते हुए और हत्यारों के पक्ष में बोलते हुए न्यूज़लॉन्ड्री लिखता है कि निर्भया की माँ उसी तरीके से बदला लेना चाहती हैं, जैसा उनकी बेटी के साथ हुआ। प्रोपेगेंडा पोर्टल लिखता है कि मौत की सज़ा हटा दी जानी चाहिए, क्योंकि निर्भया की माँ का मन नहीं बदला जा सकता।

ऐसा लगता है कि एक जघन्यतम अपराध को अंजाम देने वाले दरिंदों के बचाव में पूरा का पूरा गिरोह विशेष सक्रिय हो उठा है। एक सेल्फ-मेड अभिनेत्री को भला-बुरा इसीलिए कहा जा रहा है, क्योंकि वो पीड़ित परिवार के साथ खड़ी हैं, निर्भया की माँ के दर्द को समझती हैं और बलात्कारियों का विरोध करती हैं। ये अजीब विडम्बना है कि बलात्कारियों का बचाव करने वाले कैंडल लेकर उतर जाएँ तो वो आधुनिकता के प्रतीक बन जाते हैं और जो बलात्कारियों को सज़ा देने की माँग करे, उन्हें ‘महिला विरोधी’ ठहराया जाता है। स्पष्ट बात है, निर्भया की माँ को इन वामपंथियों की सलाह, उपदेश और प्रवचन नहीं चाहिए।

कंगना रनौत से गुस्से का दूसरा कारण क्या है? न्यूज़लॉन्ड्री के इसी लेख से हमें वामपंथियों के मन की बात पता चलती है। हाल ही में सैफ अली ख़ान ने कहा था कि ब्रिटिश के आने से पहले ‘इंडिया’ का कोई कांसेप्ट नहीं था। कंगना ने इसका जवाब दिया और पूछा कि अगर ऐसा था कि हज़ारों वर्ष पहले हुए युद्ध का नाम ‘महाभारत’ क्यों है? उस ग्रन्थ को वेद व्यास ने लिखा और उसमें भारत के सभी राजाओं का जिक्र क्या है? यहाँ वामपंथी गैंग एक बार फिर से सैफ अली ख़ान के बयान और अँग्रेजों के पक्ष में खड़ा हो जाता है। आधे लेख में बलात्कारियों के बचाव में तर्क दे रहा न्यूज़लॉन्ड्री अब अँग्रेजों के पक्ष में खड़ा हो जाता है।

महाभारत में कई बार ‘इतिहास’ शब्द का जिक्र है। लेकिन, उलटा राज्यश्री कंगना को सलाह देती हैं कि वो ‘इतिहास’ और ‘मिथक’ के बीच का अंतर समझें। हमारी सलाह है कि न्यूज़लॉन्ड्री वाले ‘महाभारत’ पढ़ें। महाभारत को ‘मिथक’ बता कर कंगना को चुप रहने की सलाह देना उनकी असहिष्णुता को दिखाता है। वो हर उस व्यक्ति को चुप कराना चाहते हैं, जो उनके विरोधी विचारधारा का हो। कंगना बलात्कारियों का बचाव करे, कंगना महाभारत को झूठ कहे और कंगना अँग्रेजों के पक्ष में बोले- उनकी यही तीन चाहत है। अगर वो ऐसा नहीं करती हैं तो उन्हें ‘पागल’ घोषित कर दिया जाएगा। ये जलन की पराकाष्ठा है।

इसका कारण क्या है? इसका कारण ये है कि किसी भी मुद्दे पर बेधड़क राय रखने वाली कंगना रनौत के मुक़ाबले वामपंथी गैंग को कोई अभिनेत्री ऐसी मिल ही नहीं रही है, जिसे मुद्दों की समझ हो और जो वास्तविकता से अनभिज्ञ न हो। वामपंथी गैंग की तरफ़ से बोलने वालों को सीएए और एनआरसी के बीच का अंतर नहीं पता, राज्य और केंद्रशासित प्रदेश की परिभाषा नहीं मालूम और यहाँ तक कि केंद्र और राज्य सरकार के बीच के फर्क का भी कोई अंदाज़ा नहीं। इसीलिए, वो बिलबिलाए हुए हैं। वो बलात्कारियों का बचाव कर रहे हैं, अँग्रेजों के पाँव पूज रहे हैं और हिन्दू धर्म-ग्रंथों को अपमानित कर रहे हैं।

कंगना रनौत बोलेंगी। वो झाँसी की महारानी लक्ष्मीबाई का किरदार भी अदा करेंगी और एक आधुनिक महिला के रोल को भी परदे पर बखूबी उतारेंगी। वो भारत की मौजूदा दौर की सबसे लोकप्रिय और ज़्यादा कमाने वाली अभिनेत्रियों में से एक हैं और यही बात न्यूज़लॉन्ड्री को अखरती है। वामपंथी गैंग का सीना चीर कर जो कोई आगे बढ़े, उन्हें ये अपने हिसाब से घटिया विशेषण दागते रहेंगे। कंगना रनौत का एक-एक शब्द इन वामपंथी पोर्टलों पर बिजली की भाँति गिरता रहेगा। एक महिला को चुप कराने का उनका प्रयास कभी सफल नहीं हो पाएगा।

‘अपनी बेटी के बलात्कारियों को माफ कर दो’ – निर्भया की माँ ने SC की वरिष्ठ महिला वकील को इस सलाह पर लताड़ा

दीपिका जानती हैं कि वो क्या कर रही हैं, लेकिन मैं टुकड़े-टुकड़े गैंग से साथ खड़ी नहीं होती: कंगना

‘इन जैसी कोख से पैदा होते हैं रेपिस्ट, इन्हें 4 दिन बलात्कारियों के साथ रखो’- SC की वकील पर कंगना का गुस्सा

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बंगाल ‘लैंड जिहाद’: मटियाब्रुज में मोहम्मद शेख और उसके गुंडों का उत्पात, दलित परिवारों पर टूटा कहर

हिंदू परिवारों को पीटा गया। महिला, बुजुर्ग, बच्चे किसी के साथ कोई रहम नहीं। पीड़ित अस्पताल से भी लौट आए कि कहीं उनके घर पर कब्जा न हो जाए।

रुपए भर की सिगरेट के लिए जब नेहरू ने फूँकवा दिए थे हजारों: किस्सा भोपाल-इंदौर और हवाई जहाज का

अनगिनत तस्वीरों में नेहरू धूम्रपान करते हुए दिखाई देते हैं। धूम्रपान को स्टेटस सिंबल या 'कूल' दिखने का एक तरीका माना जा सकता है लेकिन...

गोधरा में जलाए गए हिंदू स्वरा भास्कर को याद नहीं, अंसारी की तस्वीर पोस्ट कर लिखा- कभी नहीं भूलना

स्वरा भास्कर ने अंसारी की तस्वीर शेयर करते हुए इस बात को छिपा लिया कि यह आक्रोश गोधरा में कार सेवकों को जिंदा जलाए जाने से भड़का था।

आस मोहम्मद पर 50+ महिलाओं से रेप का आरोप, एक के पति ने तलवार से काट डाला: ‘आज तक’ ने ‘तांत्रिक’ बताया

गाजियाबाद के मुरादनगर थाना क्षेत्र स्थित गाँव जलालपुर में एक फ़क़ीर की हत्या के मामले में पुलिस ने नया खुलासा किया है।

नमाज पढ़ाने वालों को ₹15000, अजान देने वालों को ₹10000 प्रतिमाह सैलरी: बिहार की 1057 मस्जिदों को तोहफा

बिहार स्टेट सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड में पंजीकृत मस्जिदों के पेशइमामों (नमाज पढ़ाने वाला मौलवी) और मोअज्जिनों (अजान देने वालों) के लिए मानदेय का ऐलान।

किसे लगेगा वैक्सीन, कहाँ कराएँ रजिस्ट्रेशन, कितने रुपए होंगे खर्च… 9 सवाल और उसके जवाब से जानें हर एक बात

कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा चरण 1 मार्च 2021 के साथ शुरू हो गया है। दूसरे फेज में 60 साल से ज्यादा और गंभीर रोग से ग्रस्त लोगों को...

प्रचलित ख़बरें

‘अल्लाह से मिलूँगी’: आयशा ने हँसते हुए की आत्महत्या, वीडियो में कहा- ‘प्यार करती हूँ आरिफ से, परेशान थोड़े न करूँगी’

पिता का आरोप है कि पैसे देने के बावजूद लालची आरिफ बीवी को मायके छोड़ गया था। उन्होंने बताया कि आयशा ने ख़ुदकुशी की धमकी दी तो आरिफ ने 'मरना है तो जाकर मर जा' भी कहा था।

पत्थर चलाए, आग लगाई… नेताओं ने भी उगला जहर… राम मंदिर के लिए लक्ष्य से 1000+ करोड़ रुपए ज्यादा मिला समर्पण

44 दिन तक चलने वाले राम मंदिर निधि समर्पण अभियान से कुल 1100 करोड़ रुपए आने की उम्मीद की गई थी, आ गए 2100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा।

कोर्ट के कुरान बाँटने के आदेश को ठुकराने वाली ऋचा भारती के पिता की गोली मार कर हत्या, शव को कुएँ में फेंका

शिकायत के अनुसार, वो अपने खेत के पास ही थे कि तभी आठ बदमाशों ने कन्धों पर रायफल रखकर उन्हें घेर लिया और फायरिंग करने लगे।

असम-पुडुचेरी में BJP की सरकार, बंगाल में 5% वोट से बिगड़ रही बात: ABP-C Voter का ओपिनियन पोल

एबीपी न्यूज और सी-वोटर ओपिनियन पोल के सर्वे की मानें तो पश्चिम बंगाल में तीसरी बार ममता बनर्जी की सरकार बनती दिख रही है।

‘मैं राम मंदिर पर मू$%गा भी नहीं’: कॉन्ग्रेस नेता राजाराम वर्मा ने की अभद्र टिप्पणी, UP पुलिस ने दर्ज किया मामला

खुद को कॉन्ग्रेस का पदाधिकारी बताने वाले राजाराम वर्मा ने सोशल मीडिया पर अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर को लेकर अभद्र टिप्पणी की है।

आस मोहम्मद पर 50+ महिलाओं से रेप का आरोप, एक के पति ने तलवार से काट डाला: ‘आज तक’ ने ‘तांत्रिक’ बताया

गाजियाबाद के मुरादनगर थाना क्षेत्र स्थित गाँव जलालपुर में एक फ़क़ीर की हत्या के मामले में पुलिस ने नया खुलासा किया है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,201FansLike
81,846FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe