Monday, July 15, 2024
Homeहास्य-व्यंग्य-कटाक्षजबान के पक्के अजीत अंजुम, योगी आदित्यनाथ को दे रहे सलामी: वीडियो वायरल हो...

जबान के पक्के अजीत अंजुम, योगी आदित्यनाथ को दे रहे सलामी: वीडियो वायरल हो गया… हम कड़ी निंदा करते हैं

सलाम ठोकते महान अजीत अंजुम अब सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहे हैं। वीडियो में सलामी ठोक रहे हैं। बेरोजगारी में वो सह लेंगे थोड़ा लेकिन "सलाम_ठोक_अजीत_अंजुम" और "झुक_अंजुम_और_सलामी_दे" जैसे हैशटैग की ऑपइंडिया संपादकीय टीम कड़ी आलोचना करती है।

अजीत अंजुम नाम के एक पत्रकार हैं। बहुत बड़ा नाम है उनका। जिस भी मीडिया कंपनी में रहे, न्यूजरूम में लोग उनको झुक कर सलाम करते थे। जब मीडिया कंपनियों को लात मारी, तब भी जलवा-जलाल कम न हुआ। बेरोजगारी में YouTube पर वीडियो बनाने लगे, फिर भी लोगों ने सलामी नहीं छोड़ी।

‘वीडियो बना कर YouTube से पैसा कमाने वाले अजीत अंजुम नहीं होते तो किसान दिखने वालों का आंदोलन सफल नहीं होता’ – यह जानकारी खुफिया विभाग से मिली है। दरअसल यह जानकारी नहीं है, बल्कि अजीत अंजुम की महानता की निशानी है।

इतिहास गवाह है, महान अजीत अंजुम ने कभी घमंड नहीं किया। किसान दिखने वालों के क्रांतिकारी वीडियो से कमाई घट गई तो बिना घमंड दिखाए उत्तर प्रदेश की ओर चल दिए। जब भी उत्तर प्रदेश से वीडियो डालते हैं, बैकग्राउंड से आवाज आती है:

गाँव-गाँव घूम रहे
बना रहे वीडियो
वीडियो-दर-वीडियो
हो रहे जलील
निपोर रहे दाँत
जरा पूछो तो सही…
आया चुनाव है क्या?

गाली, मुँह पर बेइज्जती, हर सवाल पर जवाब ऐसा कि बंदा शर्म-हया से बेहोश हो जाए… लेकिन अंदर का पत्रकार ऐसा कि अजीत अंजुम को कर्तव्य पथ से डिगा न सका। उत्तर प्रदेश के ‘गँवार’ लोगों ने बार-बार अपने जवाब से अंजुम जी को बता दिया कि लहर किसकी है, लेकिन उनके अंदर का अजीत हारा नहीं… फिर एक घटना हुई।

इस घटना की शुरुआत होती है एक चैलेंज से। चैलेंज अजीत अंजुम देते हैं। किसे? एक आदमी को, जो भगवा पहने रहता है… नाम है योगी आदित्यनाथ। अंजुम का अजीत यहीं हार जाता है। चैलेंज का घमंड टूट जाता है।

सलाम ठोकते महान अजीत अंजुम अब सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहे हैं। “सलाम_ठोक_अजीत_अंजुम” और “झुक_अंजुम_और_सलामी_दे” जैसे हैशटैग चलाए जा रहे हैं। लेकिन क्या यही हमारी भारतीय संस्कृति है? किसी इंसान के साथ जोर-जबरदस्ती सही नहीं है। साँप-बिच्छू के साथ ऐसा हो तो समझा जा सकता है। इसलिए ऐसे हैशटैग की ऑपइंडिया संपादकीय टीम कड़ी आलोचना करती है।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। बताया जा रहा है कि अजीत अंजुम ही इस वीडियो में सलामी ठोक रहे हैं। पत्रकार धर्म का पालन करते हुए हमने इस वीडियो को एडिट करके अजीत अंजुम जी के चेहरे पर किसी आम इंसान का चेहरा चिपका दिया है। कृपया इस वीडियो को देखिए और बताइए कि कहीं भी, किसी भी सेकंड उनका चेहरा गलती से भी दिख तो नहीं गया? एडिटिंग खराब तो नहीं हुई?

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

चंदन कुमार
चंदन कुमारhttps://hindi.opindia.com/
परफेक्शन को कैसे इम्प्रूव करें :)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बैकफुट पर आने की जरूरत नहीं, 2027 भी जीतेंगे’: लोकसभा चुनावों के बाद हुई पार्टी की पहली बैठक में CM योगी ने भरा जोश,...

लोकसभा चुनावों के बाद पहली बार भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की लखनऊ में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यकर्ताओं में जोश भरा।

जिसने चलाई डोनाल्ड ट्रंप पर गोली, उसने दिया था बाइडेन की पार्टी को चंदा: FBI लगा रही उसके मकसद का पता

पेंसिल्वेनिया के मतदाता डेटाबेस के मुताबिक, डोनाल्ड ट्रंप पर हमला करने वाला थॉमस मैथ्यू क्रूक्स रिपब्लिकन के मतदाता के रूप में पंजीकृत था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -