Saturday, December 5, 2020
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष बाबरी ढॉंचे के नीचे बिरियानी बनाता मिला मुगल, आज भी है चूल्हे में आग:...

बाबरी ढॉंचे के नीचे बिरियानी बनाता मिला मुगल, आज भी है चूल्हे में आग: शेख की दाढ़ी चूसने वाले लिबरलों ने देखा

शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद लेने वालों में भारत के कुछ बुद्धिजीवी और वाम उदारवादी लोग भी शामिल थे। व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी पर प्रकाशित एक लेख में बताया गया है कि ये जमात शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद चूसने के बाद ही वाम-उदारवादी बने थे।

मुस्लिमों का महिमामंडन एक बार फिर चर्चा का विषय है। या यूँ कहें कि एक वर्ग की पहचान ही मुस्लिमों का महिमामंडन रह गया है। अयोध्या रामजन्मभूमि निर्माण कार्य के दोबारा शुरू होने के बाद निर्माण स्थल से प्राचीन अवशेष और मन्दिर की कलाकृतियाँ मिली हैं।

इनमें शिवलिंग हैं। मन्दिर के मेहराब हैं। ऐसी ही कई और चीजें समतलीकरण की प्रक्रिया में ऊपर आई हैं, जिन्होंने मुगलों की महानता के दोहे गाने वाले नव-उदारवादियों को एक बार फिर रोजगार दे दिया है।

मन्दिर निर्माण की जगह से मिल रहे साक्ष्यों के फौरन बाद मुस्लिम पक्ष के वकील ने बयान दिया कि ये साक्ष्य मन्दिर के नहीं हैं। बदले में लोग उनका शुक्रिया कहना भूल गए कि उन्होंने ये नहीं कहा कि जो शिवलिंग आज निकला है, उसकी स्थापना बाबर ने की थी और लगे हाथ ये भी साबित हो जाता कि बाबर सेकुलर आक्रांता था।

रसीले आम का शौक़ीन शेख

सभ्यताओं के ‘मुगलीकरण’ से एक कहानी याद आती है। एक बार अरब का एक शेख व्यापार के लिए भारत की ओर आया और रसीले आमों का गुलाम हो गया। वो वहाँ अपने पूरे दल-बल और लाव-लश्कर के साथ पहुँचा था।

मेजबान के घर उसकी खूब खातिरदारी की गई। जब उसने भारत का स्वादिष्ट भोजन निपटा लिया, उसके बाद अंत में उसे आम परोसे गए। आम का स्वाद इतना जबरदस्त था कि शेख ने मन बना लिया कि वह इन आमों को अपने कबायली साथियों को वापस लौट कर जरूर खिलाएगा।

इसी उम्मीद में उसने अपने साथ लाए सभी ऊँट और घोड़ों में जितना संभव हो सका उतने आम लाद लिए। फिर शेख ने अपने मेजबान से विदा माँगी और वापस अपने रेतीले देश निकल पड़ा।

लेकिन वापस लौटते वक्त वह कई दुर्गम रास्तों से गुजरा। रास्ता बहुत लंबा था और धूप तेज थी। जिस कारण उसके साथी थकने लगे और उसके ऊँट और घोड़े बदहाल होते गए। उसके साथियों ने शेख को सलाह दी कि उसे अगर अपने ऊँट और घोड़े सही सलामत चाहिए तो उसे आमों के बोझ को कम करना ही होगा।

यह बात शेख को पसंद तो नहीं आई। लेकिन मजबूरी में उसने फैसला किया कि कुछ ऊँटों से आम का बोझ कम किया जा सकता है। ऐसा करते-करते उसके कई ऊँट रास्ते में मर भी गए। अब उसके साथ उसके कुछ साथी ही बच गए थे। बाकी बचे कुछ ऊँट और घोड़े लगभग सब थक चुके थे और एक कदम आगे चलने में भी असमर्थ थे।

शेख के लिए अभी भी मुद्दा उसके रसीले आम थे। आखिर उसने फैसला किया अगर उसे अपने साथियों को आम का स्वाद बताना है तो उसे कम से कम एक आम तो अपने साथ रखना होगा। लेकिन कई दिनों के इस लम्बे सफर में अब आम भी बहुत ज्यादा चलने वाला नहीं था।

शेख के एक साथी ने उसे एक नेक सलाह दी कि वह उस आम को निचोड़ कर उसमें अब अपनी दाढ़ी भिगो ले। शेख ने ऐसा ही किया। आम के रस से उसकी दाढ़ी में भी नई जान आ गई और इतिहासकारों को भी मुगलों की दाढ़ी से उनकी पहचान करने में आसानी हुई। कुछ महीनों के सफर के बाद आखिर वह अपने घर पहुँचा।

उसने बिना साँस लिए फौरन अपने सभी साथियों को इकट्ठा किया। उसने सबको उस रसीले आम के स्वाद की महिमा के बारे में बताया और कहा कि अब वह सब एक-एक करके उस आम का स्वाद लेने के लिए उसकी दाढ़ी को चूसेंगे।

उसके सभी कबायली साथियों ने यही किया। आखिरकार शेख खुश था कि उसने अपने साथियों को अपने दोस्त के घर पर खाए हुए रसीले आमों का स्वाद बता पाया।

असली रहस्य यहाँ से शुरू होता है। दरअसल, शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद लेने वालों में भारत के कुछ बुद्धिजीवी और वाम उदारवादी लोग भी शामिल थे। बल्कि व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी पर प्रकाशित एक लेख में बताया गया है कि ये जमात शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद चूसने के बाद ही वाम-उदारवादी बने थे।

व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी में ये किस्सा उसी अध्याय के साथ दिया गया है, जिसमें बसों को ऑटो-रिक्शा और स्कूटर में तब्दील करने की कला के बारे में बताया गया है।

शेख की दाढ़ी चूसने के बाद नव-उदारवादियों ने फौरन वहाँ से लौटकर भारत का इतिहास लिखा और उसमें बताया कि भारत के आम स्वादिष्ट तो थे, लेकिन शेख की दाढ़ी से टपकने वाले रस की बात ही कुछ और थी।

भारत के वामपंथी उदारवादियों का मुगल-प्रेम इस कहानी के प्रत्येक पात्र घटना से संयोग ही नहीं रखता, बल्कि ऐसा लगता है मानो वो इसका ही हिस्सा रहे थे।

कल सुबह भारत का प्रोग्रेसिव विचारक वर्ग अगर यह कहता है कि अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि के निर्माण स्थल को अगर थोड़ा सा और खोदा जाए तो वहाँ से बाबर के बिरयानी के पतीले भी निकल सकते हैं। अगर लिखने वाले नेहरूवादी नमक में डूबे पत्रकार हों, तो यह दावा भी कर सकते हैं कि जिस चूल्हे में बाबर बिरयानी पका रहा था, उसमें अभी भी आग बाकी है।

वामपंथी रिपोर्टर्स कल सुबह उठकर अपनी व्यक्तिगत जिम्मेदारी पर उस निर्माण स्थल को पाताल लोक तक खोदने का भी प्रयास कर सकते हैं और इस पूरे घटनाक्रम का उद्देश्य सिर्फ यही साबित करना होगा कि शेख की दाढ़ी के निकले आम का रस आज भी वामपंथी इतिहासकारों, साहित्यकारों और पत्रकारों की रगों में दौड़ रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हैदराबाद में ओवैसी पस्त, TRS को तगड़ा नुकसान: 4 साल में 12 गुना बढ़ी बीजेपी की सीटें, ट्रेंड में ‘भाग्यनगर’; कॉन्ग्रेस 2 पर सिमटी

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन चौंकाने वाला रहा है। AIMIM को बीजेपी ने तीसरे नंबर पर धकेल दिया है।

‘हर शुक्रवार पोर्क खाने को करते हैं मजबूर’: उइगरों के इलाकों को ‘सूअर का हब’ बना रहा है चीन

प्रताड़ना शिविर में रह चुकी उइगर महिलाओं ने दावा किया है कि चीन पोर्क खाने को मजबूर करता है। इनकार करने पर प्रताड़ित करता है।

‘इंदिरा सरकार के कारण देश छोड़ना पड़ा, पति ने दम तोड़ दिया’: आपातकाल के जख्म लेकर 94 साल की विधवा पहुँचीं सुप्रीम कोर्ट

आजाद भारत के इतिहास में आपातकाल का काला दौर आज भी लोगों की स्मृतियों से धुँधला नहीं हुआ है। यही वजह है कि 94 साल की विधवा वीरा सरीन 45 साल बाद इंसाफ माँगने सुप्रीम कोर्ट पहुँची हैं।

टेरर फंडिंग वाले विदेशी संगठनों से AIUDF के अजमल फाउंडेशन को मिले करोड़ों, असम में कॉन्ग्रेस की है साथी

LRO ने तुर्की, फिलिस्तीन और ब्रिटेन के उन इस्लामी आतंकी समूहों के नाम का खुलासा किया है, जिनसे अजमल फाउंडेशन को फंड मिला है।

हिजाब वाली पहली मॉडल का इस्लाम पर करियर कुर्बान, कहा- डेनिम पहनने के बाद खूब रोई; नमाज भी कई बार छोड़ी

23 वर्ष की हिजाब वाली मॉडल हलीमा अदन ने इस्लाम के लिए फैशन इंडस्ट्री को अलविदा कहने का फैसला किया है।

राहुल गाँधी की क्षमता पर शरद पवार ने फिर उठाए सवाल, कहा- उनमें निरंतरता की कमी, पर ओबामा को नहीं कहना चाहिए था

शरद पवार ने कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी की नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठाते हुए कहा है कि उनमें 'निरंतरता' की कमी लगती है।

प्रचलित ख़बरें

जब नक्सलियों की ‘क्रांति के मार्ग’ में डिल्डो अपनी जगह बनाने लगता है तब हथियारों के साथ वाइब्रेटर भी पकड़ा जाता है

एक संघी ने कहा, "डिल्डो मिलने का मतलब वामपंथी न तो क्रांति कर पा रहे न वामपंथनों को संतुष्ट। कामपंथियों के बजाय रबर-यंत्र चुनने पर वामपंथनों को सलाम!"

‘ओ चमचे चल, तू जिनकी चाट के काम लेता है, मैं उनकी रोज बजाती हूँ’: कंगना और दिलजीत दोसांझ में ट्विटर पर छिड़ी जंग

कंगना ने दिलजीत को पालतू कहा, जिस पर दिलजीत ने कंगना से पूछा कि अगर काम करने से पालतू बनते हैं तो मालिकों की लिस्ट बहुत लंबी हो जाएगी।

‘तारक मेहता…’ के राइटर ने की आत्‍महत्‍या: परिवार ने कहा- उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे, हमें दे रहे हैं धमकी

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के लेखक अभिषेक मकवाना ने आत्महत्या कर ली है। शव कांदि‍वली स्‍थ‍ित उनके फ्लैट से 27 नवंबर को मिला।

घर के बहाने जुबैर साथ ले गया, जावेद ने नाबालिग राहुल को चाकू से मार डाला: देखें हत्या का दिल दहला देने वाला वीडियो

घटना के वीडियो साफ़ देखा जा सकता है कि जावेद पूरी निर्दयता से नाबालिग लड़के पर धारदार हथियार से लगातार कई वार करता है। जिसकी वजह से नाबालिग लड़के की मौके पर ही मौत हो गई।

हैदराबाद में ओवैसी पस्त, TRS को तगड़ा नुकसान: 4 साल में 12 गुना बढ़ी बीजेपी की सीटें, ट्रेंड में ‘भाग्यनगर’; कॉन्ग्रेस 2 पर सिमटी

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन चौंकाने वाला रहा है। AIMIM को बीजेपी ने तीसरे नंबर पर धकेल दिया है।

PFI के औरंगाबाद कार्यालय में छापा: कट्टरपंथी भीड़ ने ED अधिकारियों को धमकाया, लगे ‘अल्लाह-हू-अकबर’ के नारे

इस वीडियो में मौजूद लोगों को ‘अल्लाह-हू-अकबर’ का नारा लगाते हुए भी सुना जा सकता है। इसी बीच एक व्यक्ति मीडिया वालों से बात करते हुए मोदी सरकार पर आपत्तिजनक टिप्पणी करता है और कहता है कि हम रास्ते जाम कर सकते हैं।

किसान संगठनों का 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान, दिल्ली के सड़कों को ब्लॉक करने की धमकी भी दी

प्रदर्शन कर रहे किसान समूह ने ऐलान किया है कि वे 5 दिसंबर को प्रधानमंत्री मोदी का पुतला फूँकेंगे, 7 दिसंबर को अवॉर्ड वापसी और 8 दिसंबर को भारत बंद करेंगे।

हैदराबाद में ओवैसी पस्त, TRS को तगड़ा नुकसान: 4 साल में 12 गुना बढ़ी बीजेपी की सीटें, ट्रेंड में ‘भाग्यनगर’; कॉन्ग्रेस 2 पर सिमटी

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन चौंकाने वाला रहा है। AIMIM को बीजेपी ने तीसरे नंबर पर धकेल दिया है।

TV पर कंडोम और ‘लव ड्रग्स’ के विज्ञापन पॉर्न फिल्मों जैसे: मद्रास HC ने अश्लील एड को प्रसारित करने से किया मना

टीवी चैनलों पर अश्लील और आपत्तिजनक विज्ञापन दिखाने के मामले में मद्रास हाईकोर्ट ने अंतरिम आदेश पास किया है।

‘हर शुक्रवार पोर्क खाने को करते हैं मजबूर’: उइगरों के इलाकों को ‘सूअर का हब’ बना रहा है चीन

प्रताड़ना शिविर में रह चुकी उइगर महिलाओं ने दावा किया है कि चीन पोर्क खाने को मजबूर करता है। इनकार करने पर प्रताड़ित करता है।

फ्रांस में ED ने विजय माल्या की 1.6 मिलियन यूरो की संपत्ति जब्त की, किंगफिशर के अकाउंट से भेजा था पैसा

ED ने भगोड़े विजय माल्या के ख़िलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए फ्रांस में उसकी 1.6 मिलियन यूरो की प्रॉपर्टी जब्त की है।

‘तारक मेहता…’ के राइटर ने की आत्‍महत्‍या: परिवार ने कहा- उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे, हमें दे रहे हैं धमकी

'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के लेखक अभिषेक मकवाना ने आत्महत्या कर ली है। शव कांदि‍वली स्‍थ‍ित उनके फ्लैट से 27 नवंबर को मिला।

‘हमने MP और शाजापुर को शाहीन बाग बना दिया’: जमानत देते हुए अनवर से हाईकोर्ट ने कहा- जाकर काउंसलिंग करवाओ

सीएए-एनआरसी को लेकर भड़काऊ मैसेज भेजने वाले अनवर को बेल देते हुए मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने काउंसलिंग का आदेश दिया है।

भारत ने कनाडा के उच्चायुक्त को किया तलब, ‘किसानों के प्रदर्शन’ पर जस्टिन ट्रूडो ने की थी बयानबाजी

कनाडा के उच्चायुक्त को तलब कर भारत ने जस्टिन ट्रूडो और वहाँ के अन्य नेताओं की टिप्पणी को देश के आंतरिक मामलों में "अस्वीकार्य हस्तक्षेप" के समान बताया है।

‘इंदिरा सरकार के कारण देश छोड़ना पड़ा, पति ने दम तोड़ दिया’: आपातकाल के जख्म लेकर 94 साल की विधवा पहुँचीं सुप्रीम कोर्ट

आजाद भारत के इतिहास में आपातकाल का काला दौर आज भी लोगों की स्मृतियों से धुँधला नहीं हुआ है। यही वजह है कि 94 साल की विधवा वीरा सरीन 45 साल बाद इंसाफ माँगने सुप्रीम कोर्ट पहुँची हैं।

‘विरोध-प्रदर्शन से कोरोना भयावह होने का खतरा’: दिल्ली बॉर्डर से प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका

कोविड 19 महामारी के ख़तरे का हवाला देते हुए दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र की सीमा के नज़दीक से किसानों को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,533FollowersFollow
359,000SubscribersSubscribe