Monday, May 10, 2021
Home हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष बाबरी ढॉंचे के नीचे बिरियानी बनाता मिला मुगल, आज भी है चूल्हे में आग:...

बाबरी ढॉंचे के नीचे बिरियानी बनाता मिला मुगल, आज भी है चूल्हे में आग: शेख की दाढ़ी चूसने वाले लिबरलों ने देखा

शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद लेने वालों में भारत के कुछ बुद्धिजीवी और वाम उदारवादी लोग भी शामिल थे। व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी पर प्रकाशित एक लेख में बताया गया है कि ये जमात शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद चूसने के बाद ही वाम-उदारवादी बने थे।

मुस्लिमों का महिमामंडन एक बार फिर चर्चा का विषय है। या यूँ कहें कि एक वर्ग की पहचान ही मुस्लिमों का महिमामंडन रह गया है। अयोध्या रामजन्मभूमि निर्माण कार्य के दोबारा शुरू होने के बाद निर्माण स्थल से प्राचीन अवशेष और मन्दिर की कलाकृतियाँ मिली हैं।

इनमें शिवलिंग हैं। मन्दिर के मेहराब हैं। ऐसी ही कई और चीजें समतलीकरण की प्रक्रिया में ऊपर आई हैं, जिन्होंने मुगलों की महानता के दोहे गाने वाले नव-उदारवादियों को एक बार फिर रोजगार दे दिया है।

मन्दिर निर्माण की जगह से मिल रहे साक्ष्यों के फौरन बाद मुस्लिम पक्ष के वकील ने बयान दिया कि ये साक्ष्य मन्दिर के नहीं हैं। बदले में लोग उनका शुक्रिया कहना भूल गए कि उन्होंने ये नहीं कहा कि जो शिवलिंग आज निकला है, उसकी स्थापना बाबर ने की थी और लगे हाथ ये भी साबित हो जाता कि बाबर सेकुलर आक्रांता था।

रसीले आम का शौक़ीन शेख

सभ्यताओं के ‘मुगलीकरण’ से एक कहानी याद आती है। एक बार अरब का एक शेख व्यापार के लिए भारत की ओर आया और रसीले आमों का गुलाम हो गया। वो वहाँ अपने पूरे दल-बल और लाव-लश्कर के साथ पहुँचा था।

मेजबान के घर उसकी खूब खातिरदारी की गई। जब उसने भारत का स्वादिष्ट भोजन निपटा लिया, उसके बाद अंत में उसे आम परोसे गए। आम का स्वाद इतना जबरदस्त था कि शेख ने मन बना लिया कि वह इन आमों को अपने कबायली साथियों को वापस लौट कर जरूर खिलाएगा।

इसी उम्मीद में उसने अपने साथ लाए सभी ऊँट और घोड़ों में जितना संभव हो सका उतने आम लाद लिए। फिर शेख ने अपने मेजबान से विदा माँगी और वापस अपने रेतीले देश निकल पड़ा।

लेकिन वापस लौटते वक्त वह कई दुर्गम रास्तों से गुजरा। रास्ता बहुत लंबा था और धूप तेज थी। जिस कारण उसके साथी थकने लगे और उसके ऊँट और घोड़े बदहाल होते गए। उसके साथियों ने शेख को सलाह दी कि उसे अगर अपने ऊँट और घोड़े सही सलामत चाहिए तो उसे आमों के बोझ को कम करना ही होगा।

यह बात शेख को पसंद तो नहीं आई। लेकिन मजबूरी में उसने फैसला किया कि कुछ ऊँटों से आम का बोझ कम किया जा सकता है। ऐसा करते-करते उसके कई ऊँट रास्ते में मर भी गए। अब उसके साथ उसके कुछ साथी ही बच गए थे। बाकी बचे कुछ ऊँट और घोड़े लगभग सब थक चुके थे और एक कदम आगे चलने में भी असमर्थ थे।

शेख के लिए अभी भी मुद्दा उसके रसीले आम थे। आखिर उसने फैसला किया अगर उसे अपने साथियों को आम का स्वाद बताना है तो उसे कम से कम एक आम तो अपने साथ रखना होगा। लेकिन कई दिनों के इस लम्बे सफर में अब आम भी बहुत ज्यादा चलने वाला नहीं था।

शेख के एक साथी ने उसे एक नेक सलाह दी कि वह उस आम को निचोड़ कर उसमें अब अपनी दाढ़ी भिगो ले। शेख ने ऐसा ही किया। आम के रस से उसकी दाढ़ी में भी नई जान आ गई और इतिहासकारों को भी मुगलों की दाढ़ी से उनकी पहचान करने में आसानी हुई। कुछ महीनों के सफर के बाद आखिर वह अपने घर पहुँचा।

उसने बिना साँस लिए फौरन अपने सभी साथियों को इकट्ठा किया। उसने सबको उस रसीले आम के स्वाद की महिमा के बारे में बताया और कहा कि अब वह सब एक-एक करके उस आम का स्वाद लेने के लिए उसकी दाढ़ी को चूसेंगे।

उसके सभी कबायली साथियों ने यही किया। आखिरकार शेख खुश था कि उसने अपने साथियों को अपने दोस्त के घर पर खाए हुए रसीले आमों का स्वाद बता पाया।

असली रहस्य यहाँ से शुरू होता है। दरअसल, शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद लेने वालों में भारत के कुछ बुद्धिजीवी और वाम उदारवादी लोग भी शामिल थे। बल्कि व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी पर प्रकाशित एक लेख में बताया गया है कि ये जमात शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद चूसने के बाद ही वाम-उदारवादी बने थे।

व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी में ये किस्सा उसी अध्याय के साथ दिया गया है, जिसमें बसों को ऑटो-रिक्शा और स्कूटर में तब्दील करने की कला के बारे में बताया गया है।

शेख की दाढ़ी चूसने के बाद नव-उदारवादियों ने फौरन वहाँ से लौटकर भारत का इतिहास लिखा और उसमें बताया कि भारत के आम स्वादिष्ट तो थे, लेकिन शेख की दाढ़ी से टपकने वाले रस की बात ही कुछ और थी।

भारत के वामपंथी उदारवादियों का मुगल-प्रेम इस कहानी के प्रत्येक पात्र घटना से संयोग ही नहीं रखता, बल्कि ऐसा लगता है मानो वो इसका ही हिस्सा रहे थे।

कल सुबह भारत का प्रोग्रेसिव विचारक वर्ग अगर यह कहता है कि अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि के निर्माण स्थल को अगर थोड़ा सा और खोदा जाए तो वहाँ से बाबर के बिरयानी के पतीले भी निकल सकते हैं। अगर लिखने वाले नेहरूवादी नमक में डूबे पत्रकार हों, तो यह दावा भी कर सकते हैं कि जिस चूल्हे में बाबर बिरयानी पका रहा था, उसमें अभी भी आग बाकी है।

वामपंथी रिपोर्टर्स कल सुबह उठकर अपनी व्यक्तिगत जिम्मेदारी पर उस निर्माण स्थल को पाताल लोक तक खोदने का भी प्रयास कर सकते हैं और इस पूरे घटनाक्रम का उद्देश्य सिर्फ यही साबित करना होगा कि शेख की दाढ़ी के निकले आम का रस आज भी वामपंथी इतिहासकारों, साहित्यकारों और पत्रकारों की रगों में दौड़ रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

विमान बनाने वाली ‘बोइंग’ गोरखपुर में बनाएगी कोविड हॉस्पिटल, CM योगी आदित्यनाथ ने जगह का किया निरीक्षण

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पहल पर विमान निर्माता कंपनी बोइंग गोरखपुर में 200 बेड वाला कोविड हॉस्पिटल बनाने जा रही है।

हिन्दुओ… इस आदेश को रट लो, क्योंकि यह केवल एक गाँव-एक प्रांत की समस्या नहीं

ऐसे हालात में अमूमन हिंदू मन मसोस रह जाते हैं। अब इससे इतर मद्रास हाई कोर्ट ने एक रास्ता दिखाया है।

लेफ्ट मीडिया नैरेटिव के आधार पर लैंसेट ने PM मोदी को बदनाम करने के लिए प्रकाशित किया ‘प्रोपेगेंडा’ लेख, खुली पोल

मेडिकल क्षेत्र के जर्नल लैंसेट ने शनिवार को एक लेख प्रकाशित किया जहाँ भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते संक्रमण का पूरा ठीकरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर फोड़ दिया गया।

गाँधी का कुत्ता… न कॉन्ग्रेस का, न असम का: बिस्कुट खाता है, कुर्सी गँवाता है

कहानी में कुत्ते को बिस्कुट खिलाने का जिक्र है। कहानी में असम से ज्यादा कुत्ते को प्राथमिकता दिए जाने का भी जिक्र है।

‘BMC ने किया कोविड से मौत की आँकड़ों में हेरफेर, PR एजेंसीज और सेलिब्रिटीज चला रहे फेक नैरेटिव’: देवेंद्र फडणवीस

देवेन्द्र फडणवीस ने अपने पत्र में मुंबई में कम टेस्टिंग का आरोप लगाते हुए कहा की मुंबई में रोजाना 1 लाख आरटी-पीसीआर टेस्टिंग की सुविधा उपलब्ध है जबकि यहाँ मात्र 34,000 टेस्ट ही रोजाना की जा रहे हैं।

जावेद अख्तर ने कहा- Covid पर महाराष्ट्र सरकार से सीखें, लोगों ने ‘जोक ऑफ द डे’ कह किया ट्रोल

“पता नहीं आपको महाराष्ट्र सरकार की कौन सी क्षमता दिखाई दी क्योंकि कई जगह पर लॉकडाउन लगा होने के कारण भी राज्य में रोजाना 50,000 से अधिक नए संक्रमित मिल रहे हैं साथ ही संक्रमण दर भी लगभग 15% बनी हुई है।“

प्रचलित ख़बरें

हिंदू त्योहार ‘पाप’, हमारी गलियों से नहीं निकलने दें जुलूस: मुस्लिम बहुल इलाके की याचिका, मद्रास HC का सॉलिड जवाब

मद्रास हाई कोर्ट ने धार्मिक असहिष्णुता को देश के धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने के लिए खतरनाक बताया। कोर्ट ने कहा कि त्योहारों के आयोजन...

रेप होते समय हिंदू बच्ची कलमा पढ़ के मुस्लिम बन गई, अब नहीं जा सकती काफिर माँ-बाप के पास: पाकिस्तान से वीडियो वायरल

पाकिस्तान में नाबालिग हिंदू लड़की को इ्स्लामी कट्टरपंथियों ने किडनैप कर 4 दिन तक उसके साथ गैंगरेप किया और उसका जबरन धर्मान्तरण कराया।

रमजान का आखिरी जुमा: मस्जिद में यहूदियों का विरोध कर रहे हजारों नमाजियों पर इजरायल का हमला, 205 रोजेदार घायल

इजरायल की पुलिस ने पूर्वी जेरुसलम स्थित अल-अक़्सा मस्जिद में भीड़ जुटा कर नमाज पढ़ रहे मुस्लिमों पर हमला किया, जिसमें 205 रोजेदार घायल हो गए।

टीकरी बॉर्डर: आंदोलन में शामिल होने आई युवती के साथ दुष्‍कर्म मामले में 4 किसान नेताओं सहित 6 पर FIR

आरोपित अनूप सिंह हिसार क्षेत्र का है और आम आदमी पार्टी (AAP) का सक्रिय कार्यकर्ता भी है जिसकी पुष्टि आप सांसद सुशील गुप्ता ने की। अनिल मलिक भी दिल्ली में AAP का कार्यकर्ता बताया जा रहा है।

कोरोना संक्रमित शवों के कफन चुराते थे, ब्रैंडेड लेबल लगाकर बेचते थे बाजार में, 520 कफन बरामद: 7 गिरफ्तार

गिरफ्तार किए गए आरोपितों के पास से पास से 520 कफन, 127 कुर्ते, 140 कमीज, 34 धोती, 12 गर्म शॉल, 52 साड़ी, तीन रिबन के पैकेट, 1 टेप कटर और 158 ग्वालियर की कंपनी के स्टीकर बरामद हुए हैं।

‘2015 से ही कोरोना वायरस को हथियार बनाना चाहता था चीन’, चीनी रिसर्च पेपर के हवाले से ‘द वीकेंड’ ने किया खुलासा: रिपोर्ट

इस रिसर्च पेपर के 18 राइटर्स में पीएलए से जुड़े वैज्ञानिक और हथियार विशेषज्ञ शामिल हैं। मैग्जीन ने 6 साल पहले 2015 के चीनी वैज्ञानिकों के रिसर्च पेपर के जरिए दावा किया है कि SARS कोरोना वायरस के जरिए चीन दुनिया के खिलाफ जैविक हथियार बना रहा था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,393FansLike
91,519FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe