Monday, May 25, 2020
होम हास्य-व्यंग्य-कटाक्ष बाबरी ढॉंचे के नीचे बिरियानी बनाता मिला मुगल, आज भी है चूल्हे में आग:...

बाबरी ढॉंचे के नीचे बिरियानी बनाता मिला मुगल, आज भी है चूल्हे में आग: शेख की दाढ़ी चूसने वाले लिबरलों ने देखा

शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद लेने वालों में भारत के कुछ बुद्धिजीवी और वाम उदारवादी लोग भी शामिल थे। व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी पर प्रकाशित एक लेख में बताया गया है कि ये जमात शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद चूसने के बाद ही वाम-उदारवादी बने थे।

ये भी पढ़ें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

मुस्लिमों का महिमामंडन एक बार फिर चर्चा का विषय है। या यूँ कहें कि एक वर्ग की पहचान ही मुस्लिमों का महिमामंडन रह गया है। अयोध्या रामजन्मभूमि निर्माण कार्य के दोबारा शुरू होने के बाद निर्माण स्थल से प्राचीन अवशेष और मन्दिर की कलाकृतियाँ मिली हैं।

इनमें शिवलिंग हैं। मन्दिर के मेहराब हैं। ऐसी ही कई और चीजें समतलीकरण की प्रक्रिया में ऊपर आई हैं, जिन्होंने मुगलों की महानता के दोहे गाने वाले नव-उदारवादियों को एक बार फिर रोजगार दे दिया है।

मन्दिर निर्माण की जगह से मिल रहे साक्ष्यों के फौरन बाद मुस्लिम पक्ष के वकील ने बयान दिया कि ये साक्ष्य मन्दिर के नहीं हैं। बदले में लोग उनका शुक्रिया कहना भूल गए कि उन्होंने ये नहीं कहा कि जो शिवलिंग आज निकला है, उसकी स्थापना बाबर ने की थी और लगे हाथ ये भी साबित हो जाता कि बाबर सेकुलर आक्रांता था।

रसीले आम का शौक़ीन शेख

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

सभ्यताओं के ‘मुगलीकरण’ से एक कहानी याद आती है। एक बार अरब का एक शेख व्यापार के लिए भारत की ओर आया और रसीले आमों का गुलाम हो गया। वो वहाँ अपने पूरे दल-बल और लाव-लश्कर के साथ पहुँचा था।

मेजबान के घर उसकी खूब खातिरदारी की गई। जब उसने भारत का स्वादिष्ट भोजन निपटा लिया, उसके बाद अंत में उसे आम परोसे गए। आम का स्वाद इतना जबरदस्त था कि शेख ने मन बना लिया कि वह इन आमों को अपने कबायली साथियों को वापस लौट कर जरूर खिलाएगा।

इसी उम्मीद में उसने अपने साथ लाए सभी ऊँट और घोड़ों में जितना संभव हो सका उतने आम लाद लिए। फिर शेख ने अपने मेजबान से विदा माँगी और वापस अपने रेतीले देश निकल पड़ा।

लेकिन वापस लौटते वक्त वह कई दुर्गम रास्तों से गुजरा। रास्ता बहुत लंबा था और धूप तेज थी। जिस कारण उसके साथी थकने लगे और उसके ऊँट और घोड़े बदहाल होते गए। उसके साथियों ने शेख को सलाह दी कि उसे अगर अपने ऊँट और घोड़े सही सलामत चाहिए तो उसे आमों के बोझ को कम करना ही होगा।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

यह बात शेख को पसंद तो नहीं आई। लेकिन मजबूरी में उसने फैसला किया कि कुछ ऊँटों से आम का बोझ कम किया जा सकता है। ऐसा करते-करते उसके कई ऊँट रास्ते में मर भी गए। अब उसके साथ उसके कुछ साथी ही बच गए थे। बाकी बचे कुछ ऊँट और घोड़े लगभग सब थक चुके थे और एक कदम आगे चलने में भी असमर्थ थे।

शेख के लिए अभी भी मुद्दा उसके रसीले आम थे। आखिर उसने फैसला किया अगर उसे अपने साथियों को आम का स्वाद बताना है तो उसे कम से कम एक आम तो अपने साथ रखना होगा। लेकिन कई दिनों के इस लम्बे सफर में अब आम भी बहुत ज्यादा चलने वाला नहीं था।

शेख के एक साथी ने उसे एक नेक सलाह दी कि वह उस आम को निचोड़ कर उसमें अब अपनी दाढ़ी भिगो ले। शेख ने ऐसा ही किया। आम के रस से उसकी दाढ़ी में भी नई जान आ गई और इतिहासकारों को भी मुगलों की दाढ़ी से उनकी पहचान करने में आसानी हुई। कुछ महीनों के सफर के बाद आखिर वह अपने घर पहुँचा।

उसने बिना साँस लिए फौरन अपने सभी साथियों को इकट्ठा किया। उसने सबको उस रसीले आम के स्वाद की महिमा के बारे में बताया और कहा कि अब वह सब एक-एक करके उस आम का स्वाद लेने के लिए उसकी दाढ़ी को चूसेंगे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

उसके सभी कबायली साथियों ने यही किया। आखिरकार शेख खुश था कि उसने अपने साथियों को अपने दोस्त के घर पर खाए हुए रसीले आमों का स्वाद बता पाया।

असली रहस्य यहाँ से शुरू होता है। दरअसल, शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद लेने वालों में भारत के कुछ बुद्धिजीवी और वाम उदारवादी लोग भी शामिल थे। बल्कि व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी पर प्रकाशित एक लेख में बताया गया है कि ये जमात शेख की दाढ़ी से आम का स्वाद चूसने के बाद ही वाम-उदारवादी बने थे।

व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी में ये किस्सा उसी अध्याय के साथ दिया गया है, जिसमें बसों को ऑटो-रिक्शा और स्कूटर में तब्दील करने की कला के बारे में बताया गया है।

शेख की दाढ़ी चूसने के बाद नव-उदारवादियों ने फौरन वहाँ से लौटकर भारत का इतिहास लिखा और उसमें बताया कि भारत के आम स्वादिष्ट तो थे, लेकिन शेख की दाढ़ी से टपकने वाले रस की बात ही कुछ और थी।

भारत के वामपंथी उदारवादियों का मुगल-प्रेम इस कहानी के प्रत्येक पात्र घटना से संयोग ही नहीं रखता, बल्कि ऐसा लगता है मानो वो इसका ही हिस्सा रहे थे।

कल सुबह भारत का प्रोग्रेसिव विचारक वर्ग अगर यह कहता है कि अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि के निर्माण स्थल को अगर थोड़ा सा और खोदा जाए तो वहाँ से बाबर के बिरयानी के पतीले भी निकल सकते हैं। अगर लिखने वाले नेहरूवादी नमक में डूबे पत्रकार हों, तो यह दावा भी कर सकते हैं कि जिस चूल्हे में बाबर बिरयानी पका रहा था, उसमें अभी भी आग बाकी है।

वामपंथी रिपोर्टर्स कल सुबह उठकर अपनी व्यक्तिगत जिम्मेदारी पर उस निर्माण स्थल को पाताल लोक तक खोदने का भी प्रयास कर सकते हैं और इस पूरे घटनाक्रम का उद्देश्य सिर्फ यही साबित करना होगा कि शेख की दाढ़ी के निकले आम का रस आज भी वामपंथी इतिहासकारों, साहित्यकारों और पत्रकारों की रगों में दौड़ रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

अब नहीं ढकी जाएगी ‘भारत माता’, हिन्दुओं के विरोध से झुका प्रशासन: मिशनरियों ने किया था प्रतिमा का विरोध

कन्याकुमारी में मिशनरियों के दबाव में आकर भारत माता की प्रतिमा को ढक दिया गया था। अब हिन्दुओं के विरोध के बाद प्रशासन को ये फ़ैसला...

‘दोबारा कहूँगा, राजीव गाँधी हत्यारा था’ – छत्तीसगढ़ में दर्ज FIR के बाद भी तजिंदर बग्गा ने झुकने से किया इनकार

तजिंदर पाल सिंह बग्गा के खिलाफ FIR हुई है। इसके बाद बग्गा ने राजीव गाँधी को दोबारा हत्यारा बताया और कॉन्ग्रेस के सामने झुकने से इनकार...

महाराष्ट्र के पूर्व CM और ठाकरे सरकार के मंत्री अशोक चव्हाण कोरोना पॉजिटिव, राज्य के दूसरे मंत्री वायरस के शिकार

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और उद्धव ठाकरे के मंत्रिमंडल में पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर, अशोक चव्हाण कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्हें तुरंत...

पिंजरा तोड़ की दोनों सदस्य जमानत पर बाहर आईं, दिल्ली पुलिस ने फिर कर लिया गिरफ्तार: इस बार हत्या का है मामला

हिंदू विरोधी दंगों को भड़काने के आरोप में पिंजरा तोड़ की देवांगना कालिता और नताशा नरवाल को दिल्ली पुलिस ने फिर गिरफ्तार कर...

जिन लोगों ने राम को भुलाया, आज वे न घर के हैं और न घाट के: मीडिया संग वेबिनार में CM योगी

"हमारे लिए राम और रोटी दोनों महत्वपूर्ण हैं। राज्य सरकार ने इस कार्य को बखूबी निभाया है। जिन लोगों ने राम को भुलाया है, वे घर के हैं न घाट के।"

Covid-19: 24 घंटों में 6767 संक्रमित, 147 की मौत, देश में लगातार दूसरे दिन कोरोना के रिकॉर्ड मामले सामने आए

इस समय देश में संक्रमितों की संख्या 1,31,868 हो चुकी है। अब तक 3867 लोगों की मौत हुई है। 54,440 लोग ठीक हो चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

गोरखपुर में चौथी के बच्चों ने पढ़ा- पाकिस्तान हमारी प्रिय मातृभूमि है, पढ़ाने वाली हैं शादाब खानम

गोरखपुर के एक स्कूल के बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के लिए बने व्हाट्सएप ग्रुप में शादाब खानम ने संज्ञा समझाते-समझाते पाकिस्तान प्रेम का पाठ पढ़ा डाला।

‘न्यूजलॉन्ड्री! तुम पत्रकारिता का सबसे गिरा स्वरुप हो’ कोरोना संक्रमित को फ़ोन कर सुधीर चौधरी के विरोध में कहने को विवश कर रहा NL

जी न्यूज़ के स्टाफ ने खुलासा किया है कि फर्जी ख़बरें चलाने वाले 'न्यूजलॉन्ड्री' के लोग उन्हें लगातार फ़ोन और व्हाट्सऐप पर सुधीर चौधरी के खिलाफ बयान देने के लिए विवश कर रहे हैं।

रवीश ने 2 दिन में शेयर किए 2 फेक न्यूज! एक के लिए कहा: इसे हिन्दी के लाखों पाठकों तक पहुँचा दें

NDTV के पत्रकार रवीश कुमार ने 2 दिन में फेसबुक पर दो बार फेक न्यूज़ शेयर किया। दोनों ही बार फैक्ट-चेक होने के कारण उनकी पोल खुल गई। फिर भी...

राजस्थान के ‘सबसे जाँबाज’ SHO विष्णुदत्त विश्नोई की आत्महत्या: एथलीट से कॉन्ग्रेस MLA बनी कृष्णा पूनिया पर उठी उँगली

विष्णुदत्त विश्नोई दबंग अफसर माने जाते थे। उनके वायरल चैट और सुसाइड नोट के बाद कॉन्ग्रेस विधायक कृष्णा पूनिया पर सवाल उठ रहे हैं।

तब भंवरी बनी थी मुसीबत का फंदा, अब विष्णुदत्त विश्नोई सुसाइड केस में उलझी राजस्थान की कॉन्ग्रेस सरकार

जिस अफसर की पोस्टिंग ही पब्लिक डिमांड पर होती रही हो उसकी आत्महत्या पर सवाल उठने लाजिमी हैं। इन सवालों की छाया सीधे गहलोत सरकार पर है।

हमसे जुड़ें

206,772FansLike
60,088FollowersFollow
241,000SubscribersSubscribe
Advertisements