Sunday, April 21, 2024
Homeविविध विषयकला-साहित्यमैं मुन्ना हूँ: कहानी उस बच्चे की जो कभी अंधेरी कोठरी में दाखिल होकर...

मैं मुन्ना हूँ: कहानी उस बच्चे की जो कभी अंधेरी कोठरी में दाखिल होकर अपनी आँखें मूँद उजाले की कल्पना में लीन हो गया था

मुन्ना कहानी है, आपकी, मेरी और हम सभी में छुपे उस बच्चे की जो कभी ना कभी, किसी ना किसी रूप में अनजाने में ही सही, एक अंधेरी कोठरी में दाखिल हो गया और कस के आँखें मूँद उजाले की कल्पना में लीन हो गया।

पुस्तक: मैं मुन्ना हूँ/Main Munna Hun
लेखक: श्री मनीष श्रीवास्तव

लेखक परिचय

‘मैं मुन्ना हूँ’ लेखक का दूसरा उपन्यास है, प्रथम उपन्यास का नाम ‘रूही – एक पहेली’ है। इनकी रचनाएँ ऑपइंडिया, मंडली, स्वराज्य, इण्डिक टुडे जैसे मंचों पर प्रकाशित होती रही हैं।ये मुख्य रूप से भावनात्मक कहानियाँ, यात्रा वृत्तांत और मार्मिक संस्मरण लिखते हैं। मनीष जी की रचनाएँ मानवीय संवेदनाओं को स्पर्श करती हुई पाठक के मन पर गहरा प्रभाव छोड़ती हैं।

पुस्तक परिचय

‘मैं मुन्ना हूँ’ बाल यौन शोषण जैसे गंभीर विषय पर लिखा गया उपन्यास है। लेखक विषय की गंभीरता के साथ न्याय करते हुए बीच-बीच में हल्के-फुल्के किस्सों के साथ ही प्रेम का एक शीतल झरना भी प्रस्फुटित करते हैं। वृंदावन वन की कुंज गलियों से होते हुए पशुपति नाथ जी की अविस्मरणीय यात्रा के साथ ही आगरा शहर का ताना-बाना आकर्षित करता है।

पुस्तक समीक्षा

उपन्यास के नायक मुन्ना की कहानी आरंभ होती है उसके श्रापित बचपन से जहाँ वह शारीरिक, मानसिक झंझावतों से जूझता किशोरवय के अल्हड़पन को पार कर प्रेम की अनकही गुत्थियों को सुलझाता जीवन यात्रा में आगे बढ़ता रहा।

नीरा दीदी, रमेश चाचा, वृंदा चाची, बिंदी, जया, ज़ुल्फी, बक्शी अंकल के हाथों की कठपुतली सा मुन्ना, बचपन को किसी अंधरे से कोने में दबा के आया है। किन्नू का सहारा मिलते ही वो मुरझाया सा फूल कुछ खिल सा गया। भैया के संग ने उसे जीवन की नई राहों पर पहुँचा दिया।

दोस्तों का चहेता, यारों का यार है हमारा मुन्ना। जुगाड़ु इतना कि पूछिए मत। आप चाहेंगे कि काश ये मेरी क्लास में होता तो हम भी मस्ती कर लेते। अम्मा की आंँखों का तारा, पिताजी का प्यारा भी बना परन्तु बहुत वक्त लगा दिया। ठाकुर और शेखू ने यारियांँ निभाने में कहीं कोई कसर नहीं छोड़ी है। दोस्त हो तो ऐसे!

मोरपंखी, मानसी, नैना और इन सबका एक मुन्ना….. प्रेम की कई अवस्थाएंँ परत दर परत खुलती जाती हैं और पाठक अचंभित सा, मुग्ध हो बस पढ़ता चला जाता है। केशव का आना एक बार फिर जीवन में बदलाव सा ला देता है और उसी कड़ी में अमोहा मांँ मुन्ना का हाथ थामे उसे वहांँ ले जाती हैं जहांँ वो अपने भीतर का सारा डर, सारी कड़वाहट, सारा संताप निकाल फेंकने को बेकल हो उठता है।

मुन्ना कहानी है, आपकी, मेरी और हम सभी में छुपे उस बच्चे की जो कभी ना कभी, किसी ना किसी रूप में अनजाने में ही सही, एक अंधेरी कोठरी में दाखिल हो गया और कस के आँखें मूँद उजाले की कल्पना में लीन हो गया।

उस पीड़ित बच्चे ने इधर उधर हाथ-पांँव मार खुद को उस डर से निकालने की अनवरत कोशिश जारी रखी। बालपन पर पड़े गहरे निशान भविष्य में किसी ना किसी रूप में सामने आकर व्यथित करने में कोई कसर नहीं छोड़ते। कैसे मुन्ना एक विजेता बन सबके सामने आया? कैसे उसने अपनी यात्रा के हर पड़ाव पर कुछ नवेला सा किया?

जानने के लिए पढ़िए और ज़रूर पढ़िए – मैं मुन्ना हूँ

नोट: यह पुस्तक समीक्षा गरिमा द्वारा लिखी गई है

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

आशीष नौटियाल
आशीष नौटियाल
पहाड़ी By Birth, PUN-डित By choice

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एक ही सिक्के के 2 पहलू हैं कॉन्ग्रेस और कम्युनिस्ट’: PM मोदी ने तमिल के बाद मलयालम चैनल को दिया इंटरव्यू, उठाया केरल में...

"जनसंघ के जमाने से हम पूरे देश की सेवा करना चाहते हैं। देश के हर हिस्से की सेवा करना चाहते हैं। राजनीतिक फायदा देखकर काम करना हमारा सिद्धांत नहीं है।"

‘कॉन्ग्रेस का ध्यान भ्रष्टाचार पर’ : पीएम नरेंद्र मोदी ने कर्नाटक में बोला जोरदार हमला, ‘टेक सिटी को टैंकर सिटी में बदल डाला’

पीएम मोदी ने कहा कि आपने मुझे सुरक्षा कवच दिया है, जिससे मैं सभी चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हूँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe