Wednesday, July 24, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिक्रिकेटर रिंकू सिंह ने अलीगढ़ के अपने गाँव में बनवाया कुलदेवी का मंदिर, IPL...

क्रिकेटर रिंकू सिंह ने अलीगढ़ के अपने गाँव में बनवाया कुलदेवी का मंदिर, IPL के 5 छक्कों ने दिलाई थी पहचान: एशियन गेम्स से भी विजेता बनकर लौटे हैं

क्रिकेटर रिंकू सिंह के परिवार की कुलदेवी माँ चौडेरे देवी हैं। उन्होंने कुलदेवी से आईपीएल और भारतीय क्रिकेट टीम में अच्छे प्रदर्शन के लिए मनोकामना माँगी थी। मंदिर में मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा होनी अभी बाकी है।

क्रिकेटर रिंकू सिंह ने अलीगढ़ जिले स्थित अपने गाँव में कुलदेवी के मंदिर का निर्माण करवाया है। इस पर करीब 11 लाख रुपए का खर्च आया है। अपनी मनोकामना पूरी होने के बाद उन्होंने अलीगढ़ के कमालपुर गाँव में इस मंदिर का निर्माण करवाया है।

क्रिकेटर रिंकू सिंह के परिवार की कुलदेवी माँ चौडेरे देवी हैं। उन्होंने कुलदेवी से आईपीएल और भारतीय क्रिकेट टीम में अच्छे प्रदर्शन के लिए मनोकामना माँगी थी। मंदिर में मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा होनी अभी बाकी है।

रिंकू सिंह के बड़े भाई सोनू सिंह ने बताया कि इस मंदिर में 16 अक्टूबर 2023 को मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा की जाएगी। लेकिन रिंकू प्राण-प्रतिष्ठा के समय नहीं होंगे। वह इस समय दिलीप ट्रॉफी में खेल रहे हैं। दिलीप ट्रॉफी खेलने के बाद वे दीपावली के मौके पर अपने घर अलीगढ़ लौटेंगे। मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा उनके परिवार द्वारा की जाएगी।

रिंकू सिंह ने आईपीएल 2023 में अपनी टीम कोलकाता नाइट राइडर्स की तरफ से शानदार प्रदर्शन किया था। उन्होंने कई मैच जिताऊ पारियाँ खेली थी। गुजरात टाइटंस के विरुद्ध अंतिम ओवर में उन्होंने पाँच छक्के लगाए थे। उन्होंने इस पारी में 21 गेंदों में 48 रन बनाए थे। इस प्रदर्शन के बाद उनकी काफी चर्चा हुई थी।

रिंकू सिंह को उनके अच्छे प्रदर्शन के चलते चीन में एशियाई खेलों में ऋतुराज गायकवाड़ के नेतृत्व वाली टीम का हिस्सा भी बनाया गया था। रिंकू सिंह ने एशियाई खेलों के क्वार्टर फ़ाइनल मुकाबले में नेपाल के विरुद्ध मात्र 15 गेंदों में 37 रन की महत्वपूर्ण पारी खेली थी। इस टीम ने एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता है।

26 वर्ष के रिंकू सिंह की पारिवारिक पृष्ठभूमि काफी साधारण है। उनके पिता खानचन्द्र सिंह रसोई गैस सिलेंडर की डिलीवरी का काम करते हैं। उनका कहना है कि उन्होंने इसी काम से परिवार को पाला है, इसलिए वह यह काम नहीं छोड़ेंगे। रिंकू की माँ एक गृहिणी हैं। रिंकू कुल पाँच भाई-बहन हैं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मेरे बेटे को मार डाला’: आधुनिक पश्चिमी सभ्यता ने दुनिया के सबसे अमीर शख्स को भी दे दिया ऐसा दर्द, कहा – Woke वाले...

लिंग-परिवर्तन कराने वाले को उसके पुराने नाम से पुकारना 'Deadnaming' कहलाता है। उन्होंने कहा कि इसका अर्थ है कि उनका बेटा मर चुका है।

‘बंद ही रहेगा शंभू बॉर्डर, JCB लेकर नहीं कर सकते प्रदर्शन’: सुप्रीम कोर्ट ने ‘आंदोलनजीवी’ किसानों को दिया झटका, 15 अगस्त को दिल्ली कूच...

सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब और हरियाणा के बीच शंभू बॉर्डर को अभी बंद ही रखने का आदेश दिया है। कोर्ट ने कहा किसान JCB लेकर प्रदर्शन नहीं कर सकते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -