Wednesday, July 17, 2024
Homeविविध विषयधर्म और संस्कृतिजिस बक्सर में था महर्षि विश्वामित्र का आश्रम, वहीं के जनसेवक ने निभाया उनका...

जिस बक्सर में था महर्षि विश्वामित्र का आश्रम, वहीं के जनसेवक ने निभाया उनका किरदार: लाल किले वाली रामलीला में मोदी के मंत्री अश्विनी चौबे का अभिनय

उन्होंने कहा कि बीते 9 साल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बक्सर का सर्वांगीण विकास हुआ है। बक्सर पर्यटन के नजरिये से भारत सहित दुनिया के नक्शे में पर पहचाने जाना लगा है।

दिल्ली के ऐतिहासिक लाल किला परिसर में ‘लव कुश कमेटी’ की तरफ से आयोजित हो रही मशहूर रामलीला में इस बार केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे खास रहे। उन्होंने मर्यादा पुरुषोत्तम राम के गुरु महर्षि विश्वामित्र का किरदार निभाया।

बक्सर के सांसद ने इस दौरान महर्षि विश्वामित्र से अपने कनेक्शन के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि उनकी कर्मभूमि बक्सर ऐसा पावन स्थल है जहाँ खुद महर्षि विश्वामित्र ने अपना आश्रम बनाया था। इस वजह से उन्होंने रामलीला में गुरु विश्वामित्र का पात्र निभाने पर खुद को भाग्यशाली कहा। अश्विनी कुमार चौबे मोदी सरकार में केंद्रीय उपभोक्ता मामलों, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण के अलावा पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मामलों के राज्य मंत्री हैं।

केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने आगे कहा कि बिहार के बक्सर से सांसद होने के नाते रामलीला में महर्षि विश्वामित्र जी का किरदार निभाना और भी खास हो जाता है। बक्सर महर्षि विश्वामित्र की तपोस्थली है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ये भगवान विष्णु के प्रथम मनुज अवतार वामनावतार का स्थल है। उन्होंने कहा कि बक्सर की पावन भूमि पर पहुँच कर भगवान विष्णु के मानव अवतार श्रीराम ने गुरु विश्वामित्र के मार्गदर्शन में ताड़का राक्षसी का वध किया था।

केंद्रीय मंत्री ने ये भी कहा कि ये मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम की पहली कर्मभूमि है। उन्होंने यह भी कहा कि भारतीय संस्कृति को रामलीला मंचन के जरिए नई पीढ़ी तक पहुँचाने की परंपरा अति सराहनीय है। उन्होंने कहा इससे युवा अपनी सांस्कृतिक जड़ों से जुड़ते हैं। इस मंचन से पूरी दुनिया ये संदेश जाएगा कि भगवान राम को उनके गुरु विश्वामित्र ने अच्छी शिक्षा दी थी।

केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे हास्य कलाकार ब्रजेन्द्र काला के साथ (फोटो साभार: केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार चौबे एक्स हैंडल)

उन्होंने कहा कि बीते 9 साल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बक्सर का सर्वांगीण विकास हुआ है। बक्सर पर्यटन के नजरिये से भारत सहित दुनिया के नक्शे में पर पहचाने जाना लगा है।

केंद्रीय मंत्री चौबे ने कहा कि बक्सर के रामायण सर्किट से जुड़ने और भारत की कई दिशाओं से सैलानी यहाँ पहुँचे हैं। गंगा में बड़े क्रूज के चलने से बड़ी संख्या में विदेशी सैलानियों को इस जगह के आध्यात्मिक और सांस्कृतिक महत्व को जानने मौका मिला। बक्सर के चारों तरफ सड़कों का जाल बिछने से सैलानियों को पटना से वाराणसी आने में सुविधा हुई। उन्होंने आगे कहा कि रामलीला में अभिनय करने का उद्देश्य भी यही है कि बक्सर के बारे में पूरी दुनिया और युवा पीढ़ी को जानकारी मिले।

उन्होंने कहा कि दुनिया तेजी से आधुनिकता की तरफ बढ़ रही है, इस वजह से पर्यटन के जरिए रोजगार के नए दरवाजे खुल रहे हैं। ऐसे में बक्सर के बारे में अधिक से अधिक प्रचार करने से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। इस दौरान उन्होंने बॉलीवुड के कलाकारों मुकेश ऋषि और ब्रजेन्द्र काला के साथ हुई आत्मीय मुलाकात के बारे में भी बताया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

अब सरकार की हो गई माफिया अतीक अहमद की ₹50 करोड़ की प्रॉपर्टी, किसानों-गरीबों को धमका कर किया था अवैध कब्ज़ा

उत्तर प्रदेश में ऑपरेशन माफिया के तहत चल रही कार्रवाई में कमिश्नरेट पुलिस प्रयागराज और राज्य सरकार ने बड़ी सफलता हासिल की है। माफिया अतीक अहमद की करीब 50 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति अब राज्य सरकार की हो गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -