Sunday, July 14, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजनडाबर ने 'लेस्बियन करवा चौथ' वाला विज्ञापन वापस लिया तो नाराज हो गईं पूजा...

डाबर ने ‘लेस्बियन करवा चौथ’ वाला विज्ञापन वापस लिया तो नाराज हो गईं पूजा भट्ट, कहा- बस यही करते रहो

करवा चौथ से जुड़े फेम ब्लीच विज्ञापन पर विवाद गहराने के बाद डाबर ने इसे वापस लिया था। कंपनी ने भावनाएँ आहत होने पर दुख जताया और इसके लिए माफी भी माँगी।

डाबर ने माफी माँगते हुए लेस्बियन कपल के करवा चौथ मनाने वाला विज्ञापन वापस ले लिया है। यह बॉलीवुड अभिनेत्री पूजा भट्ट को बेहद नागवार गुजरा है और उन्होंने कंपनी पर अपना गुस्सा व्यक्त किया है। उन्होंने लोकतंत्र की दुहाई देते हुए डाबर के अपने विज्ञापन पर पीछे हटने के लिए आपत्ति जताई है। उनका कहना है कि डाबर जैसी दिग्गज कंपनी को अपने स्टैंड पर कायम रहना चाहिए था। उसे इस तरह से पीछे नहीं हटना चाहिए था। 

उन्होंने ट्वीट किया, “बस यही करते रहो, स्लैम, बम, बैन। डाबर जैसी दिग्गज कंपनी ने अपने विज्ञापन के साथ खड़े होने से इनकार कर दिया। मैं सैद्धांतिक तौर पर फेयरनेस क्रीम का समर्थन नहीं करती। फिर भी मैंने प्रतिक्रिया नहीं दी क्योंकि वे बराबरी और गर्व को सेलिब्रेट कर रहे थे, लेकिन अब क्यों छुपाना?”

बता दें कि करवा चौथ से जुड़े फेम ब्लीच विज्ञापन पर विवाद गहराने के बाद डाबर ने इसे वापस लिया था। डाबर ने सोमवार (25 अक्टूबर 2021) को एक बयान जारी कर इस विज्ञापन को वापस लेने की जानकारी दी। कंपनी ने सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर कर लोगों की भावनाएँ आहत होने पर दुख जताया और इसके लिए माफी भी माँगी।

करवा चौथ को ध्यान में रखते हुए डाबर ने फेयरनेस प्रोडक्ट फेम का एक विज्ञापन जारी किया था जिसमें दो समलैंगिक महिलाएँ एक-दूसरे के लिए व्रत रखती दिखाई दी थीं। मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी इसकी आलोचना की थी और कार्रवाई की धमकी दी थी। वहीं सोशल मीडिया पर भी इसे हिंदुओं के त्याहारों को निशाना बनाने को लेकर ट्रोल किया गया। लोगों ने आक्रोश जताते हुुए सवाल किया था कि क्या त्योहारों को उसी रूप में नहीं रहने देना चाहिए, जिस रूप में हम उन्हें मनाते आ रहे हैं? हमेशा हिंदू त्योहारों से ही क्यों छेड़छाड़ की जाती है, मुस्लिम या ईसाई त्योहारों से क्यों नहीं? विवाद बढ़ने के बाद डाबर ने इस विज्ञापन को वापस ले लिया और माफी माँग ली, लेकिन इसके बाद भी सोशल मीडिया यूजर्स का आक्रोश कम नहीं हुआ है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -