Monday, July 15, 2024
Homeविविध विषयमनोरंजन'13वीं शताब्दी से पहले राजपूतों का अस्तित्व नहीं': अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज' पर राजपूत...

’13वीं शताब्दी से पहले राजपूतों का अस्तित्व नहीं’: अक्षय कुमार की ‘पृथ्वीराज’ पर राजपूत और गुर्जर समाज आमने-सामने, रिलीज रोकने की माँग

गुर्जर संगठनों का आरोप है कि अक्षय कुमार की फिल्म में सम्राट पृथ्वीराज चौहान को राजपूत समाज से बताया गया है, जो सही नहीं है।

अक्षय कुमार की आगामी फिल्म ‘पृथ्वीराज’ रिलीज से पहले ही विवादों में फँस गई है। फिल्म को लेकर राजपूत और गुर्जर समाज में ठन गई है। राजस्थान के अजमेर में फिल्म के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहा है। असल में राजपूत और गुर्जर समाज, दोनों के संगठन उन्हें अपना बता रहे हैं। गुर्जर संगठनों का आरोप है कि फिल्म में सम्राट पृथ्वीराज चौहान को राजपूत समाज से बताया गया है, जो सही नहीं है। यही कारण है कि अजमेर के वैशाली में स्थित भगवान देवनारायण मंदिर में प्रदर्शन हुआ।

‘यश राज फिल्म्स’ की इस मूवी का निर्देशन चंद्रप्रकाश द्विवेदी कर रहे हैं, जो नब्बे के दशक में ‘चाणक्य’ का किरदार निभा कर घर-घर में लोकप्रिय हो गए थे। राजपूत संगठनों का कहना है कि ये साबित करने की कोई ज़रूरत नहीं है कि पृथ्वीराज चौहान राजपूत थे, क्योंकि यही वास्तविकता है। राजपूत नेता भँवर सिंह ने कहा कि असलियत को बदला नहीं जा सकता है। वहीं गुर्जर समाज ने अजमेर जिला प्रशासन के समक्ष याचिका दायर कर फिल्म की रिलीज को रोकने की माँग की है।

ज्ञापन में गुर्जर संगठनों की तरफ से माँग रखी गई है कि फिल्म को रिलीज होने से पहले उनके समाज के प्रतिनिधियों को दिखाया जाए। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पास भी इस सम्बन्ध में पत्र भेजा गया है। 2017 में ‘मिस वर्ल्ड’ प्रतियोगिता की विजेता रहीं मानुषी छिल्लर भी इस फिल्म से बॉलीवुड में कदम रख रही हैं। फिल्म में उन्होंने संयोगिता का किरदार निभाया है। वहीं संजय दत्त और सोनू सूद के अलावा 2007 में ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’ से चर्चा बटोरने वाले मानव विज भी इस फिल्म में महत्वपूर्ण किरदारों में दिखेंगे।

फिल्म की रिलीज डेट 21 जनवरी, 2022 ही रखी गई थी, लेकिन कोरोना संक्रमण के फिर सिर उठाने के कारण ये तय तारीख़ पर रिलीज नहीं हो पाएगी। शाहिद कपूर की ‘जर्सी’ से लेकर बड़े बजट की एसएस राजामौली की ‘RRR’ तक, कई फिल्मों ने अपनी रिलीज टाल दी है। ‘श्री राजपूत करणी सेना’ के राष्ट्रीय प्रवक्ता विजेंद्र सिंह शक्तावत का कहना है कि प्राचीन काल में गोचर हुआ करते थे, जो बार में गुज्जर और फिर गुर्जर बन गए। उन्होंने गुर्जर शब्द को जाति नहीं, स्थान सूचक बताया। राजपूत संगठनों का कहना है कि फिल्म का नाम ‘पृथ्वीराज’ सम्मानसूचक नहीं है, इसे ‘पृथ्वीराज चौहान’ होना चाहिए।

वहीं गुर्जर नेता हिम्मत सिंह ने ‘पृथ्वीराज रासो’ महाकाव्य को पूरी तरह काल्पनिक बताते हुए कहा कि चंदबरदाई ने इसे 16वीं शताब्दी में मिश्रित स्थानीय भाषाओं में लिखा था, पृथ्वीराज चौहान के निधन के कई वर्षों बाद। उन्होंने कहा कि कवि ने प्रिंगल भाषा का उपयोग किया है, जबकि पृथ्वीराज चौहान के समय संस्कृत का इस्तेमाल होता था। हिम्मत सिंह ने 13वीं शताब्दी से पहले राजपूतों के अस्तित्व को नकारते हुए कहा कि पृथ्वीराज चौहार के पिता सोमेश्वर गुर्जर जाति से ताल्लुक रखते थे, इसीलिए वो भी गुर्जर हुए। इससे पहले सम्राट मिहिर भोज को लेकर भी ऐसा ही विवाद सामने आया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

IAS बेटी ऑडी पर बत्ती लगाकर बनाती थी भौकाल, माँ-बाप FIR के बाद फरार: पूजा खेडकर को जाँच के बाद डॉक्टरों ने नहीं माना...

पूजा खेडकर का मामला मीडिया में उठने के बाद उनके माता-पिता से जुड़ी कई वीडियो सामने आई है। ऐसे में पुलिस ने उनकी माँ के खिलाफ एफआईआर की है।

शूटिंग क्लब का सदस्य था डोनाल्ड ट्रम्प पर गोली चलाने वाला, शिकारी वाली वेशभूषा थी पसंद: रिपब्लिकन पार्टी ने बुलाया राष्ट्रीय सम्मेलन, पूर्व राष्ट्रपति...

वो लगभग 1 साल से पास में ही स्थित 'क्लेयरटन स्पोर्ट्समेन क्लब' का सदस्य भी था। इसमें कई शूटिंग रेंज हैं। पहले से कोई भी आपराधिक या ट्रैफिक चालान का मामला दर्ज नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -