Sunday, March 7, 2021
Home विविध विषय भारत की बात अफजल को मारा, शाहिस्ता को हराया और औरंगज़ेब को नाकों चने चबवाया: छत्रपति शिवाजी...

अफजल को मारा, शाहिस्ता को हराया और औरंगज़ेब को नाकों चने चबवाया: छत्रपति शिवाजी के प्रमुख युद्ध

अफजल खान और प्रतापगढ़ में बीजापुरी सेना की पराजय के बाद, शिवाजी ने बीजापुरी क्षेत्र में गहरी पकड़ जारी रखी। कुछ दिनों के भीतर, मराठों ने पन्हाला किले (कोल्हापुर शहर के पास) पर कब्जा कर लिया। इस बीच, नेताजी पालकर के नेतृत्व में एक और मराठा बल, बीजापुर की ओर सीधे बढ़ा। वहाँ भी भीषण युद्ध हुआ।

छत्रपति शिवाजी युवावस्था से ही महायोद्धा थे। उन्होंने 1645 में 15 वर्ष की उम्र में ही तोरण किले के बीजापुरी कमांडर इनायत खान को किला सौंपने को मजबूर कर दिया था। मराठा फिरंगीजी नरसाला, जिन्होंने चाकन किले को धारण किया, ने शिवाजी के प्रति अपनी वफादारी का परिचय दिया और कोंडाना के किले को हासिल किया। 25 जुलाई 1648 को शिवाजी को नियंत्रित करने का आदेश उनके पिता शाहजी को बीजापुर के शासक मोहम्मद आदिलशाह ने दिया था। इसके बाद उन्हें बाजी घोरपडे द्वारा कैद किया गया था।

शाहजी को 1649 में छोड़ा गया था, जब शिवाजी ने दिल्ली में सहजान बादशाह से संपर्क किया था। इन घटनाक्रमों के अनुसार, 1649 से 1655 तक शिवाजी ने अपने विजय अभियान में भाग लिया और चुपचाप अपने लाभ को समेकित किया। छत्रपति शिवाजी की सेना में गजब का अनुशासन था। मजबूत ताकतों और प्रबंधन तकनीकों से वह हर स्थिति पर आसानी से काबू पा लेते थे।

रणनीति

  1. सेना: छत्रपति शिवाजी का सैन्य साम्राज्य सेना पर आधारित था। शिवाजी के पास 2 लाख मावला सैनिकों की सेना थी। शिवाजी ने हमेशा अपनी सेना का इस्तेमाल दुश्मनों के खिलाफ किया।
  2. किले: छत्रपति शिवाजी का किला पहाड़ी बिंदु पर था, जो कि उनके लिए बहुत सुरक्षित जगह थी। शिवाजी के दुश्मनों में किसी को भी पहाड़ी भूखण्ड में लड़ने की आदत नहीं थी। उदाहरण के लिए, आदिलशाह, निज़ामशाह, मुगल, ब्रिटिश आदि।
  3. नौसेना: शिवाजी उन चुनिंदा एशियाई राजाओं में थे जिन्होंने रक्षा में नौसेना बल बनाया। छत्रपति शिवाजी ने भारत के पश्चिम भाग में अपने मजबूत नौसेना बल के कारण अरब सागर पर एकाधिकार स्थापित किया। उन्होंने समुद्र की जड़ों से भारत के साथ विदेशी मामलों पर नियंत्रण रखने के लिए सिंधुदुर्गा जैसे समुद्री किले का निर्माण किया।

विजय

  1. अफ़ज़ल खान के साथ मुकाबला और प्रतापगढ़ की लड़ाई: 1659 में आदिलशाह ने शिवाजी के साम्राज्य को नष्ट करने के लिए 75,000 सैनिकों की सेना के साथ अफ़ज़ल खान को भेजा। छत्रपति शिवाजी ने पूरे कूटनीतिक तरीके से अफजल खान को मार डाला। फिर उन्होंने आदिलशाही सल्तनत पर बड़े हमले शुरू करने के लिए अपने सैनिकों को संकेत दिया।
  2. पान्हला की लड़ाई: अफजल खान और प्रतापगढ़ में बीजापुरी सेना की पराजय के बाद, शिवाजी ने बीजापुरी क्षेत्र में गहरी पकड़ जारी रखी। कुछ दिनों के भीतर, मराठों ने पन्हाला किले (कोल्हापुर शहर के पास) पर कब्जा कर लिया। इस बीच, नेताजी पालकर के नेतृत्व में एक और मराठा बल, बीजापुर की ओर सीधे बढ़ा। वहाँ भी भीषण युद्ध हुआ।

कुछ अन्य प्रमुख लड़ाइयाँ

  1. उबरखिंद की लड़ाई में कलतल्फ खान की हार: शिवाजी ने कुछ मवाले सैनिकों के साथ उबरखिंद की लड़ाई में शाहिस्ता खान के एक सरदार कलतल्फ खान को हराया।
  2. शाहिस्ता खान पर हमला: औरंगजेब ने अपने मामा शाहिस्ता खान को बादीबागम साहिबा, आदिशाही सल्तनत के अनुरोध पर 1,50,000 से अधिक शक्तिशाली सेना के साथ भेजा। अप्रैल 1663 में छत्रपति शिवाजी ने व्यक्तिगत रूप से लाल महल पुणे में शाहिस्ता खान पर आश्चर्यजनक हमला किया। छत्रपति शिवाजी ने आधी रात को 300 सैनिकों के साथ हमला किया, जबकि लालमहल में शाहिस्ता खान के लिए 1,00,000 सैनिकों की कड़ी सुरक्षा थी। इस घटना में छत्रपति शिवाजी ने शाहिस्ता खान के खिलाफ दुनिया को कमांडो ऑपरेशन के लिए महान प्रबंधन तकनीक दिखाई।
  3. सूरत पर रेड: छत्रपति शिवाजी ने 1664 में मुगल साम्राज्य के धनी शहर सूरत पर रेड डाला। सूरत मुगलों की वित्तीय राजधानी थी। ब्रिटिश ने शाहजहाँ बादशाह की अनुमति से सूरत में ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना की।
  4. पुरंदर की संधि: शिवाजी द्वारा सूरत की रेड के कारण औरंगजेब नाराज हो गया। उन्होंने शिवाजी को हराने के लिए मिर्जा जय सिंह और दलेर खान को भेजा। मुगल की सेना ने पुरंधर किले पर कब्जा कर लिया। छत्रपति शिवाजी 23 किले और 4,00,000 रुपए देने के लिए सहमत हुए। अपने बेटे संभाजी को मुगल सरदार बनने के लिए और मुगल की ओर से छत्रपति शिवाजी और मिर्जा राजा जय सिंह के बीच पुरंदर की संधि में औरंगजेब से मिलने के लिए तैयार हो गए।
  5. कर्नाटक अभियान: छत्रपति शिवाजी ने 1677-1678 की अवधि में राज्याभिषेक के बाद कर्नाटक में जिंजी तक का प्रांत प्राप्त किया।

मार्च 1680 के अंत में हनुमान जयंती की पूर्व संध्या पर शिवाजी 52 साल की उम्र में 3 अप्रैल 1680 को बुखार और पेचिश से बीमार पड़ गए। पुतलाबाई, शिवाजी की जीवित पत्नियों में से सबसे बड़ी, उनकी अंतिम संस्कार की चिता में कूदकर सती हो गईं। 21 अप्रैल 1680 को दस वर्षीय राजा राम को सिंहासन पर स्थापित किया गया। हालाँकि, संभाजी ने सेनापति को मारने के बाद रायगढ़ किले पर कब्जा कर लिया और उसी साल 18 जून को रायगढ़ का नियंत्रण हासिल किया। वो औपचारिक रूप से 20 जुलाई को सिंहासन पर बैठ गए।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सबसे बड़ा रक्षक’ नक्सल नेता का दोस्त गौरांग क्यों बना मिथुन? 1.2 करोड़ रुपए के लिए क्यों छोड़ा TMC का साथ?

तब मिथुन नक्सली थे। उनके एकलौते भाई की करंट लगने से मौत हो गई थी। फिर परिवार के पास उन्हें वापस लौटना पड़ा था। लेकिन खतरा था...

अनुराग-तापसी को ‘किसान आंदोलन’ की सजा: शिवसेना ने लिख कर किया दावा, बॉलीवुड और गंगाजल पर कसा तंज

संपादकीय में कहा गया कि उनके खिलाफ कार्रवाई इसलिए की जा रही है, क्योंकि उन लोगों ने ‘किसानों’ के विरोध प्रदर्शन का समर्थन किया है।

‘मासूमियत और गरिमा के साथ Kiss करो’: महेश भट्ट ने अपनी बेटी को साइड ले जाकर समझाया – ‘इसे वल्गर मत समझो’

संजय दत्त के साथ किसिंग सीन को करने में पूजा भट्ट असहज थीं। तब निर्देशक महेश भट्ट ने अपनी बेटी की सारी शंकाएँ दूर कीं।

‘कॉन्ग्रेस का काला हाथ वामपंथियों के लिए गोरा कैसे हो गया?’: कोलकाता में PM मोदी ने कहा – घुसपैठ रुकेगा, निवेश बढ़ेगा

कोलकाता के ब्रिगेड ग्राउंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिम बंगाल में अपनी पहली चुनावी जनसभा को सम्बोधित किया। मिथुन भी मंच पर।

मिथुन चक्रवर्ती के BJP में शामिल होते ही ट्विटर पर Memes की बौछार

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले मिथुन चक्रवर्ती ने कोलकाता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली में भाजपा का दामन थाम लिया।

‘ग्लोबल इनसाइक्लोपीडिया ऑफ रामायण’ का शुभारंभ: CM योगी ने कहा – ‘जय श्री राम पूरे देश में चलेगा’

“जय श्री राम उत्तर प्रदेश में भी चलेगा, बंगाल में भी चलेगा और पूरे देश में भी चलेगा।” - UP कॉन्क्लेव शो में बोलते हुए सीएम योगी ने कहा कि...

प्रचलित ख़बरें

माँ-बाप-भाई एक-एक कर मर गए, अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने दिया: 20 साल विष्णु को किस जुर्म की सजा?

20 साल जेल में बिताने के बाद बरी किए गए विष्णु तिवारी के मामले में NHRC ने स्वत: संज्ञान लिया है।

मौलाना पर सवाल तो लगाया कुरान के अपमान का आरोप: मॉब लिंचिंग पर उतारू इस्लामी भीड़ का Video

पुलिस देखती रही और 'नारा-ए-तकबीर' और 'अल्लाहु अकबर' के नारे लगा रही भीड़ पीड़ित को बाहर खींच लाई।

‘40 साल के मोहम्मद इंतजार से नाबालिग हिंदू का हो रहा था निकाह’: दिल्ली पुलिस ने हिंदू संगठनों के आरोपों को नकारा

दिल्ली के अमन विहार में 'लव जिहाद' के आरोपों के बाद धारा-144 लागू कर दी गई है। भारी पुलिस बल की तैनाती है।

‘शिवलिंग पर कंडोम’ से विवादों में आई सायानी घोष TMC कैंडिडेट, ममता बनर्जी ने आसनसोल से उतारा

बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए टीएमसी ने उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया है। इसमें हिंदूफोबिक ट्वीट के कारण विवादों में रही सायानी घोष का भी नाम है।

आज मनसुख हिरेन, 12 साल पहले भरत बोर्गे: अंबानी के खिलाफ साजिश में संदिग्ध मौतों का ये कैसा संयोग!

मनसुख हिरेन की मौत के पीछे साजिश की आशंका जताई जा रही है। 2009 में ऐसे ही भरत बोर्गे की भी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी।

पिछले 1000-1200 वर्षों से बंगाल में हो रही गोहत्या, कोई नहीं रोक सकता: ममता के मंत्री सिद्दीकुल्लाह का दावा

"उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने यहाँ आकर कहा था कि अगर भाजपा सत्ता में आती है, तो वह राज्य में गोहत्या को समाप्त कर देगी।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,301FansLike
81,967FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe