Thursday, April 15, 2021
Home विविध विषय भारत की बात जामा मस्जिद की सीढ़ियों के नीचे दफ़न की गई थी मंदिरों से लूटी गई...

जामा मस्जिद की सीढ़ियों के नीचे दफ़न की गई थी मंदिरों से लूटी गई हिन्दू प्रतिमाएँ, ये रहा सबूत

'24-25 मई, 1689, दिन- रविवार। ख़ान जहाँ बहादुर जोधपुर से मंदिरों को तबाह कर के लौटा था। हिन्दू देवी-देवताओं की खंडित प्रतिमाओं को देखकर बादशाह औरंगज़ेब बहुत खुश हुआ।' - साक़ी मुस्तक़ ख़ान अपनी पुस्तक में लिखते हैं कि इसके बाद...

आज के ज़माने में जब औरंगजेब को लेकर ऐसी बातें कही जा रही हैं कि उसने मंदिर बनवाए और मंदिरों को ज़मीनें दीं, ऐसे में सच्चाई को छिपाने वाले इन करतूतों को ध्वस्त करना आवश्यक है। औरंगज़ेब को लेकर कोई अनपढ़ व्यक्ति ऐसे दावे करे तो चलता है लेकिन अगर कोई इतिहासकार ऐसा करे तो आप क्या कहेंगे? सर्वेश्वरी डिग्री कॉलेज के प्राध्यापक और कथित इतिहासकार प्रदीप केशरवानी ने कहा था कि उन्होंने (औरंगज़ेब ने) महादेव मंदिर को दान दिया और संरक्षण दिया। आजकल टीपू सुल्तान और औरंगजेब जैसे क्रूर राजाओं को उदार साबित करने की एक होड़ सी चल पड़ी है।

इस सम्बन्ध में औरंगज़ेब की जीवनी में ही कुछ घटनाओं का जिक्र है, जो इन तथाकथित इतिहासकारों की पोल खोलता है। औरंगज़ेब पर साक़ी मुस्तक़ ख़ान द्वारा लिखित पुस्तक ‘मसीर-ई-आलमगीरी’ में एक घटना का जिक्र है, जिसे आज के ज़माने के किसी व्यक्ति ने नहीं लिखा है। ये घटना रविवार (मई 24-25, 1689) की है। उस दिन ख़ान जहाँ बहादुर जोधपुर से मंदिरों को तबाह कर के लौटा। औरंगज़ेब की जीवनी में लिखा हुआ है कि ख़ान जहाँ बहादुर द्वारा मंदिरों को ध्वस्त किए जाने, उन्हें लूटने और प्रतिमाओं को विखंडित किए जाने पर बादशाह बहुत ख़ुश हुआ। बादशाह को बहादुर के इन कृत्यों पर गर्व महसूस हुआ।

‘मसीर-ई-आलमगीरी’ के अनुसार, खान जहाँ बहादुर जोधपुर से कई गाड़ियों में भर कर हिन्दू देवी-देवताओं की प्रतिमाएँ लाया था। ये प्रतिमाएँ उन मंदिरों की थीं, जिन्हें मुगलों ने उसके नेतृत्व में लूटा और तबाह किया। इन लूटी गई प्रतिमाओं को बादशाह औरंगज़ेब के सामने पेश किया गया, जिस देख कर वह अत्यंत प्रसन्न हुआ। इनमें एक से बढ़ कर एक प्रतिमाएँ थीं। कुछ सोने-चाँदी के थे, कुछ पीतल की थीं तो कुछ ताँबे से गढ़े गए थे। इनमें कई ऐसी मूर्तियाँ भी थीं, जो पत्थरों की थीं और उन पर उत्तम नक्काशियाँ की गई थीं।

औरंगज़ेब ने आदेश दिया कि इन प्रतिमाओं को उसके दरबार के जिलाऊखाना में डाल दिया जाए। दीवारों से घिरे आँगन जैसी जगह को जिलाऊखना कहते हैं। इसके बाद औरंगज़ेब ने जो आदेश दिया, वो जानने लायक है। बादशाह ने कहा कि जोधपुर से लूट कर हिन्दू देवी-देवताओं की प्रतिमाएँ जामा मस्जिद की सीढ़ियों के नीचे गाड़ दिए जाएँ। और इस तरह से जामा मस्जिद के नीचे हिन्दू देवी-देवताओं की प्रतिमाओं को दफ़न कर दिया गया। इसी औरंगज़ेब के बारे में आज के कुछ इतिहासकार कहते हैं कि वो उदार था। आज जब राम मंदिर पर फ़ैसला आता है और हिन्दुओं को 500 वर्षों बाद न्याय मिलता है तो ऐसे ही लोगों की सुलगती है, जो ग़लत इतिहास पढ़ा कर लोगों को बरगलाने में लगे हैं।

इस सम्बन्ध में उन्नाव के सांसद साक्षी महाराज का भी एक बयान है, जो उन्होंने नवम्बर 2018 में दिया था। साक्षी महाराज ने कहा था कि दिल्ली के जामा मस्जिद को ढाह देना चाहिए क्योंकि इसे हिन्दू मंदिरों को ध्वस्त कर बनाया गया है। साक्षी महाराज का मानना था कि लोगों को मथुरा, काशी और अयोध्या को छोड़ कर जामा मस्जिद पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने चुनौती दी थी कि अगर जामा मस्जिद की सीढ़ियों के नीचे हिन्दू देवी-देवताओं की प्रतिमाएँ न मिलें तो उन्हें फाँसी पर लटका दिया जाए। साक्षी महाराज के आँकड़ों के अनुसार, अकेले मुगलों ने ही 3000 हिन्दू मंदिरों को ध्वस्त कर उनकी जगह मस्जिदों का निर्माण करवाया।

औरंगज़ेब की जीवनी ‘मसीर-ई-आलमगीरी’ का अंश

जामा मस्जिद के बारे में बता दें कि इसे औरंगज़ेब के पिता शाहजहाँ द्वारा सन 1644-1656 में बनवाया गया था। औरंगज़ेब ने लाहौर में बादशाही मस्जिद का निर्माण करवाया था, जिसकी रूप-रेखा जामा मस्जिद से मिलती है। जामा मस्जिद के निर्माण में 5000 से भी अधिक मजदूरों को खटवाया गया था और मध्य सत्रहवीं सदी में इसके निर्माण में 10 लाख रुपए से भी ज्यादा ख़र्च आया था। 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के बाद जब अंग्रेजों ने दिल्ली जीती तो उन्होंने जामा मस्जिद को भी अपने कब्जे में ले लिया था। अंग्रेजों ने मस्जिद में अपनी आर्मी रखी हुई थी और वो दिल्ली को सज़ा देने के लिए इस मस्जिद को ध्वस्त करना चाहते थे। अंग्रेजों ने दिल्ली के अकबराबादी मस्जिद को ध्वस्त कर दिया था।

औरंगज़ेब पर लिखी गई इसी पुस्तक में इसका भी जिक्र किया गया है कि किस तरह रमजान के महीने में मथुरा के मंदिरों को ध्वस्त किया गया। राजस्थान के खंडेला में 300 लोगों की नृशंस हत्या कर के वहाँ के सबसे बड़े मंदिर को ध्वस्त कर दिया गया। उदयपुर में राणा के महल के सामने स्थित मंदिर को तोड़ डाला गया। राजस्थान के एम्बर से लौटे मुग़ल कमांडर अबू तरब ने 66 मंदिरों को ध्वस्त किए जाने की सूचना बादशाह को दी थी। हामुउद्दीन ख़ान को कर्नाटक के बीजापुर में मंदिरों को ध्वस्त कर उनकी जगह मस्जिदों का निर्माण करवाने के लिए भेजा गया। उसने लौट कर सूचना दी कि मंदिरों को ढहाए जाने से बड़ी संख्या में हिन्दू बेरोजगार हो रहे हैं।

आजकल जब क्रूर बादशाहों को आक्रांता न मानते हुए उन्हें उदार दिखाने की कोशिश हो रही है, उन्हीं के ज़माने की पुस्तक ऐसे प्रयास करने वाले लोगों को लानतें भेज रहे हैं। वहीं वीर शिवाजी के बारे में बात नहीं की जाती, जिन्होंने अपनी सेना को आदेश दे रखा था कि अगर कहीं भी कुरानशरीफ मिलता है तो उसे बाइज्जत आसपास के मस्जिद में रखा जाए। उनका आदेश था कि अगर कोई महिला युद्धबंदी है तो उसे पूरी इज्जत के साथ उसके घर पहुँचाया जाए। उसे कोई नुकसान नहीं पहुँचना चाहिए। लेकिन, यहाँ छत्रपति शिवाजी जैसे वीर राजाओं, जिन्होंने कभी किसी अन्य मजहब के प्रतीकों को नुकसान नहीं पहुँचाया, के मुक़ाबले मंदिरों को तोड़ कर उनकी जगह मस्जिद बनाने वाले मुगलों को महान बनाने की कोशिशें हो रही हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सुशांत सिंह राजपूत पर फेक न्यूज के लिए AajTak को ऑन एयर माँगनी पड़ेगी माफी, ₹1 लाख जुर्माना भी: NBSA ने खारिज की समीक्षा...

AajTak से 23 अप्रैल को शाम के 8 बजे बड़े-बड़े अक्षरों में लिख कर और बोल कर Live माफी माँगने को कहा गया है।

‘आरोग्य सेतु’ डाउनलोड करने की शर्त पर उमर खालिद को जमानत, पर जेल से बाहर ​नहीं निकल पाएगा दिल्ली के हिंदू विरोधी दंगों का...

दिल्ली दंगों से जुड़े एक मामले में उमर खालिद को जमानत मिल गई है। लेकिन फिलहाल वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएगा। जाने क्यों?

कोरोना से जंग में मुकेश अंबानी ने गुजरात की रिफाइनरी का खोला दरवाजा, फ्री में महाराष्ट्र को दे रहे ऑक्सीजन

मुकेश अंबानी ने अपनी रिफाइनरी की ऑक्सीजन की सप्लाई अस्पतालों को मुफ्त में शुरू की है। महाराष्ट्र को 100 टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जाएगी।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।

चीन के लिए बैटिंग या 4200 करोड़ रुपए पर ध्यान: CM ठाकरे क्यों चाहते हैं कोरोना घोषित हो प्राकृतिक आपदा?

COVID19 यदि प्राकृतिक आपदा घोषित हो जाए तो स्टेट डिज़ैस्टर रिलीफ़ फंड में इकट्ठा हुए क़रीब 4200 करोड़ रुपए को खर्च करने का रास्ता खुल जाएगा।

कोरोना पर कुंभ और दूसरे राज्यों को कोसा, खुद रोड शो कर जुटाई भीड़: संजय राउत भी निकले ‘नॉटी’

संजय राउत ने महाराष्ट्र में कोरोना के भयावह हालात के लिए दूसरे राज्यों को कोसा था। कुंभ पर निशाना साधा था। अब वे खुद रोड शो कर भीड़ जुटाते पकड़े गए हैं।

प्रचलित ख़बरें

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

‘कल के कायर आज के मुस्लिम’: यति नरसिंहानंद को गाली देती भीड़ को हिन्दुओं ने ऐसे दिया जवाब

यमुनानगर में माइक लेकर भड़काऊ बयानबाजी करती भीड़ को पीछे हटना पड़ा। जानिए हिन्दू कार्यकर्ताओं ने कैसे किया प्रतिकार?

जानी-मानी सिंगर की नाबालिग बेटी का 8 सालों तक यौन उत्पीड़न, 4 आरोपितों में से एक पादरी

हैदराबाद की एक नामी प्लेबैक सिंगर ने अपनी बेटी के यौन उत्पीड़न को लेकर चेन्नई में शिकायत दर्ज कराई है। चार आरोपितों में एक पादरी है।

थूको और उसी को चाटो… बिहार में दलित के साथ सवर्ण का अत्याचार: NDTV पत्रकार और साक्षी जोशी ने ऐसे फैलाई फेक न्यूज

सोशल मीडिया पर इस वीडियो के बारे में कहा जा रहा है कि बिहार में नीतीश कुमार के राज में एक दलित के साथ सवर्ण अत्याचार कर रहे।

‘अब या तो गुस्ताख रहेंगे या हम, क्योंकि ये गर्दन नबी की अजमत के लिए है’: तहरीक फरोग-ए-इस्लाम की लिस्ट, नरसिंहानंद को बताया ‘वहशी’

मौलवियों ने कहा कि 'जेल भरो आंदोलन' के दौरान लाठी-गोलियाँ चलेंगी, लेकिन हिंदुस्तान की जेलें भर जाएंगी, क्योंकि सवाल नबी की अजमत का है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,218FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe