Friday, January 22, 2021
Home विविध विषय भारत की बात भाई की आँखें फोड़वा दी, बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते मरी: मोहब्बत का...

भाई की आँखें फोड़वा दी, बीवी 14वें बच्चे को जन्म देते मरी: मोहब्बत का दुश्मन था हिन्दू-मुस्लिम शादी पर प्रतिबंध लगाने वाला शाहजहाँ

हिन्दुओं पर तीर्थयात्रा कर लगाए गए। मंदिरों ही नहीं, आगरा में गिरिजाघरों को भी तुड़वाया गया। हिन्दुओं और मुस्लिमों के बीच होने वाली शादी पर रोक लगा दी गई। गोहत्या खुलेआम होने लगी और उन पर लगी रोक हटा दी गई। निर्माणाधीन मंदिरों को तुड़वा दिया गया। नए मंदिर बनाने पर रोक लगा दी गई।

शाहजहाँ ने अपनी मरी हुई बीवी मुमताज की याद में ताजमहल बनवा दिया था, ये सभी को याद है। लेकिन, शाहजहाँ नहीं चाहता था कि कोई भी मुस्लिम लड़की किसी हिन्दू लड़के से प्यार करे और उनकी शादी हो – इस पर कोई चर्चा नहीं करना चाहता। आगे हम इसकी तह तक जाएँगे, लेकिन उससे पहले बता दें कि मुग़ल बादशाह का जन्म लाहौर में जनवरी 5, 1605 को हुआ था और युवाकाल तक उसका नाम खुर्रम हुआ करता था।

वो पाँचवाँ मुग़ल बादशाह था, जिसके नाम का अर्थ है – पूरी दुनिया का राजा। लिबरल गिरोह को वो बहुत प्यारा है और भारतीय इतिहासकारों ने उसकी छवि को चमकाने में कोई कसर नहीं छोड़ी, क्योंकि उसने ताजमहल बनवाया और उसके राज्यकाल में कई मुग़ल इमारतों का निर्माण हुआ। उसे भारत का संत वेलेंटाइन बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी गई। लेकिन, लोग ये नहीं बताते कि उसकी 7 पत्नियाँ थीं और हजारों उसकी हरम में थीं।

मुमताज महल निकाह के बाद अधिकतर गर्भवती ही रहीं और 14वें बच्चे को जन्म देने के दौरान उसकी मृत्यु हो गई। जहाँगीर की पत्नी नूर जहाँ के साथ क्या किया गया, ये भी नहीं बताया जाता। जहाँगीर के राज में असली ताकत नूरजहाँ के हाथ में ही होती थी और सिक्कों तक पर उसके नाम हुआ करते थे। जहाँगीर की मौत के बाद नूरजहाँ की जान तो बख्श दी गई, लेकिन इस शर्त पर कि वो दरबार के मामलों में कभी दखल नहीं देगी।

नूरजहाँ ने अपनी बची हुई ज़िंदगी लाहौर के एक घर में अपनी बेटी के साथ काटी और अपने शौहर की मौत के बाद फिर कभी किसी भी ख़ुशी के मौके पर मुगलिया जश्नों में नहीं देखी गई। इसी तरह शाहजहाँ के राज में भी 14 बच्चे पैदा करने वाली मुमताज महल (जिसका असली नाम आरज़ूमंद बानू बेगम) के हाथ में असली सत्ता थी, जिस कारण उसकी चर्चा ज्यादा है। मात्र 38 साल उम्र में उसकी मौत हुई थी। उसके 14 बच्चों में से 7 ही जिंदा बचे थे।

अकबर ने बादशाह रहते हुए बाहर से थोड़ी उदार नीति अपनाई थी, ताकि वो खुद को हिन्दुओं का भी हितैषी दिखा सके क्योंकि विरोधों को दबाने का उसका एक अलग तरीका था। शाहजहाँ ने सत्ता में आते ही उन नीतियों को ख़त्म कर दिया और धार्मिक असहिष्णुता को अपना हथियार बनाया। उसने भारत को इस्लामी राज्य घोषित करते हुए शरीयत के हिसाब से शासन चलाना शुरू किया। उसने हिजरी संवत चलाया।

हिन्दुओं पर तीर्थयात्रा कर लगाए गए। मंदिरों ही नहीं, आगरा में गिरिजाघरों को भी तुड़वाया गया। हिन्दुओं और मुस्लिमों के बीच होने वाली शादी पर रोक लगा दी गई। गोहत्या खुलेआम होने लगी और उन पर लगी रोक हटा दी गई। निर्माणाधीन मंदिरों को तुड़वा दिया गया। नए मंदिर बनाने पर रोक लगा दी गई। बुढ़ापे में उसके साथ भी औरंगजेब ने क्रूरता की और उसे खाने के थाल में उसके बेटे का कटा सिर भेजा था।

अकबर के काल में जब थोड़ी छूट मिली तो ऐसे कई हिन्दुओं ने अपने पुराने पंथ को फिर से अपना लिया, जिन्हें जबरन इस्लाम कबूल करवा दिया गया था। मुस्लिम महिलाओं की अगर हिन्दू परिवारों में शादी होती थी तो वो हिन्दू धर्म अपना सकती थी। शाहजहाँ एक सैन्य कमांडर भी था। इसी तरह के एक सैन्य मिशन के लिए वो कश्मीर गया था। वहाँ से लौटते वक़्त उसने भदौरि और भिम्बर में देखा कि वहाँ कई हिन्दू पुरुषों ने मुस्लिम महिलाओं से शादी कर रखी थी।

उसने पाया कि उनमें से कई महिलाओं ने शादी के बाद अपने पति के हिन्दू धर्म को अपना लिया था। अपनी पुस्तक ‘Islamic Jihad: A Legacy of Forced Conversion, Imperialism, and Slavery‘ में M A खान लिखते हैं कि भारत के प्रथम शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलम आजाद ने अकबर की इसीलिए आलोचना की थी, क्योंकि उसने ‘सहिष्णुता से शासन चलाया था जो भारतीय उपमहाद्वीप में इस्लाम की आत्महत्या के समान था।

वो लिखते हैं कि आज़ाद ने कट्टर सूफी मौलाना शेख अहमद सरहिंदी का समर्थन किया था, क्योंकि उसने अकबर के खिलाफ विद्रोह कर दिया था। उसने हिन्दुओं पर अत्याचार बढ़ाने की माँग लेकर विद्रोह किया था। असहिष्णु शाहजहाँ ने जिस कट्टरवाद के पौधे को सिंचित किया था, उसके बेटे औरंगजेब ने उसे ही और बड़ा किया। मक्का-मदीना का यात्रा करने वाले मुस्लिमों को विशेष सुविधाएँ दी जाती थीं, जबकि हिन्दू पर्व-त्यौहारों को वो हतोत्साहित करता था।

बुंदेलखंड के राजपूत शासक जुझार सिंह ने उसकी इन्हीं नीतियों के कारण विद्रोह किया था। हालाँकि, शाहजहाँ को कभी विदेशी आक्रमण का सामना नहीं करना पड़ा, जिससे उसने एक असफल शासक होकर भी शांतिपूर्ण ढंग से राज चलाया और एक के बाद एक कई इमारतों का निर्माण करवाया। एक और बात जानने लायक है कि मुमताज महल उसकी सौतेली माँ नूरजहाँ के भाई आसफ खान की ही पुत्री थी।

शाहजहाँ ने ही इलाही संवत की जगह हिजरी संवत को चलाना शुरू किया। शाहजहाँ इतना कट्टर सुन्नी मुस्लिम तब था, जब उसकी माँ भी हिन्दू थी। हालाँकि, इतिहास में कहीं भी ‘जोधाबाई’ को लेकर कोई प्रसंग नहीं मिलता है, लेकिन इतना ज़रूर पाया जाता है कि शाहजहाँ और जहाँगीर, इन दोनों की माँएँ हिन्दू ही थीं। शाहजहाँ ने वंधेरा के राजा इंद्रमणि को कैद किया था और शर्त रखी थी कि मुस्लिम मजहब अपनाने पर ही वो उसे छोड़ेगा।

जिस तरह शाहजहाँ ने अपने भाई खुसरो को मरवाया था, उसी तरह उसके बेटे औरंगजेब ने अपने भाई द्वारा शिकोह की हत्या करवाई। शाहजहाँ भी तमाम बगावतों के बाद ही बादशाह बना था। उसके ही ससुर आसफ खान की सहायता से उसने शहरयार की हत्या करवाई और मुग़ल वंश में जो भी उसके खिलाफ थे, उन्हें बेरहम मौत दी। कई बेगमों ने आत्महत्या कर ली शहरयार की तो आँखें तक निकाल ली गई थीं। वो नूरजहाँ का दामाद था और जहाँगीर का बेटा था। इस तरह से वो नूरजहाँ का दामाद और सौतेला बेटा – दोनों था।

इस तरह से हम देखें तो ताजमहल की आड़ में ऐसी काफी सारी बातें हैं, जिन्हें न सिर्फ आज के लिबरल-सेक्युलर-कट्टर गिरोह द्वारा छिपा ली जाती हैं, बल्कि इन पर इतिहासकारों ने भी भरपूर पर्दा डाला। अपने ससुर की मदद से अपनी सौतेली माँ के दामाद की आँखें फोड़वाने वाला, अपनी सौतेली माँ को राजधानी से बदर करने वाला और अपनी बीवी को 14 बार प्रेग्नेंट करने वाला क्रूर इस्लामी शासक जब ‘प्यार का मसीहा’ बना दिया जाए, तो समझिए कुछ तो गलत है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जून डो हजार इख्खीस टक लोखटांट्रिक टरीखे से चूना जाएगा खाँग्रेस पारटी का प्रेसीडेंट….

राहुल गाँधी ने लिखा था: तारीख पे तारीख देना स्ट्रैटेजी है उनकी। सोनिया गाँधी दे रहीं, कॉन्ग्रेसियों को बस तारीख पर तारीख।

JNU के ‘पढ़ाकू’ वामपंथियों को फसाद की नई वजह मिली, आइशी घोष पर जुर्माना; शेहला भी कूदी

जेएनयू हिंसा का चेहरा रही आइशी घोष और अन्य छात्रों पर ताले तोड़ हॉस्टल में घुसने के लिए जुर्माना लगाया गया है।

इस्लामी कट्टरता की बात करने पर लिबरपंथियों ने वीर सांघवी की कर दी डिजिटल लिंचिंग

हिंदुओं से घृणा का स्तर कितना अधिक व्यापक है कि यदि भाजपा की तुलना अयातुल्ला खुमैनी से भी हो जाए तो नाराजगी दिखने लगती है। मानो जैसे बेचारे अयातुल्ला ने ऐसा भी क्या कर दिया कि उसकी तुलना 'फासीवादी' भाजपा से की जाए।

ममता कैबिनेट से इस्तीफों की हैट्रिक पूरी, मोदी के आने से पहले राजीब बनर्जी ने TMC को दिया झटका

पश्चिम बंगाल में वन मंत्री और डोमजूर से टीएमसी विधायक राजीब बनर्जी ने ममता कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है।

आज हुए चुनाव तो NDA को 321 सीटें: अपने ही चैनल के सर्वे से राजदीप परेशान, ट्विटर पर निकाली भड़ास

राजदीप ने सर्वेक्षण पर टिप्पणी करते हुए कहा कि वह सर्वे पर विश्वास ही नहीं कर पा रहे क्योंकि लगभग 85% लोग लॉकडाउन में अपनी आजीविका के अवसरों को खोने के बावजूद मोदी सरकार की सराहना कर रहे हैं।

हमने रिस्क लिया, आलोचना झेली तभी स्वदेशी वैक्सीन आज दुनिया को सुरक्षा कवच दे रही है: दीक्षांत समारोह में PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज असम के तेजपुर विश्वविद्यालय के 18वें दीक्षांत समारोह का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उद्धाटन किया।

प्रचलित ख़बरें

‘उसने पैंट से लिंग निकाला और मुझे फील करने को कहा’: साजिद खान पर शर्लिन चोपड़ा ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

अभिनेत्री-मॉडल शर्लिन चोपड़ा ने फिल्म मेकर फराह खान के भाई साजिद खान पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

‘अल्लाह का मजाक उड़ाने की है हिम्मत’ – तांडव के डायरेक्टर अली से कंगना रनौत ने पूछा, राजू श्रीवास्तव ने बनाया वीडियो

कंगना रनौत ने सीरीज के मेकर्स से पूछा कि क्या उनमें 'अल्लाह' का मजाक बनाने की हिम्मत है? उन्होंने और राजू श्रीवास्तव ने अली अब्बास जफर को...

मटन-चिकेन-मछली वाली थाली 1 घंटे में खाइए, FREE में ₹1.65 लाख की बुलेट ले जाइए: पुणे के होटल का शानदार ऑफर

पुणे के शिवराज होटल ने 'विन अ बुलेट बाइक' नामक प्रतियोगिता के जरिए निकाला ऑफर। 4 Kg की थाली को ख़त्म कीजिए और बुलेट बाइक घर लेकर जाइए।

शाहजहाँ: जिसने अपनी हवस के लिए बेटी का नहीं होने दिया निकाह, वामपंथियों ने बना दिया ‘महान’

असलियत में मुगल इस देश में धर्मान्तरण, लूट-खसोट और अय्याशी ही करते रहे परन्तु नेहरू के आदेश पर हमारे इतिहासकारों नें इन्हें जबरदस्ती महान बनाया और ये सब हुआ झूठी धर्मनिरपेक्षता के नाम पर।

‘कोहली के बिना इनका क्या होगा… ऑस्ट्रेलिया 4-0 से जीतेगा’: 5 बड़बोले, जिनकी आश्विन ने लगाई क्लास

अब जब भारत ने ऑस्ट्रेलिया में जाकर ही ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दिया है, आइए हम 5 बड़बोलों की बात करते हैं। आश्विन ने इन सबकी क्लास ली है।

Pak ने शाहीन-3 मिसाइल टेस्ट फायर किया, हुए कई घर बर्बाद और सैकड़ों घायल: बलूच नेता का ट्वीट, गिरना था कहीं… गिरा कहीं और!

"पाकिस्तान आर्मी ने शाहीन-3 मिसाइल को डेरा गाजी खान के राखी क्षेत्र से फायर किया और उसे नागरिक आबादी वाले डेरा बुगती में गिराया गया।"
- विज्ञापन -

 

जून डो हजार इख्खीस टक लोखटांट्रिक टरीखे से चूना जाएगा खाँग्रेस पारटी का प्रेसीडेंट….

राहुल गाँधी ने लिखा था: तारीख पे तारीख देना स्ट्रैटेजी है उनकी। सोनिया गाँधी दे रहीं, कॉन्ग्रेसियों को बस तारीख पर तारीख।

JNU के ‘पढ़ाकू’ वामपंथियों को फसाद की नई वजह मिली, आइशी घोष पर जुर्माना; शेहला भी कूदी

जेएनयू हिंसा का चेहरा रही आइशी घोष और अन्य छात्रों पर ताले तोड़ हॉस्टल में घुसने के लिए जुर्माना लगाया गया है।

त्रिपुरा कॉन्ग्रेस अध्यक्ष पर हमले में पार्टी के ही अल्पसंख्यक सेल का प्रमुख हुसैन गिरफ्तार

त्रिपुरा कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष पीयूष कांति बिस्वास पर हुए हमले में पार्टी के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रमुख जॉयदुल हुसैन को गिरफ्तार किया गया है।

कोरोना वैक्सीन के लिए बुजुर्गों को ड्रग अथॉरिटी से कॉल, माँग रहे OTP-आधार: Fact Check

कोरोना वैक्सीन के नाम पर जालसाज वरिष्ठ नागरिकों को फोन कर खुद को ड्रग अथॉरिटी का बताकर आधार और ओटीपी माँग रहे हैं।

अडानी ग्रुप द्वारा दायर मानहानि के मुकदमे में पत्रकार प्रंजॉय गुहा ठाकुरता के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी

गुजरात की एक अदालत ने अडानी ग्रुप द्वारा दायर मानहानि के मुकदमे में पत्रकार प्रंजॉय गुहा ठाकुरता के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया।

इस्लामी कट्टरता की बात करने पर लिबरपंथियों ने वीर सांघवी की कर दी डिजिटल लिंचिंग

हिंदुओं से घृणा का स्तर कितना अधिक व्यापक है कि यदि भाजपा की तुलना अयातुल्ला खुमैनी से भी हो जाए तो नाराजगी दिखने लगती है। मानो जैसे बेचारे अयातुल्ला ने ऐसा भी क्या कर दिया कि उसकी तुलना 'फासीवादी' भाजपा से की जाए।

ममता कैबिनेट से इस्तीफों की हैट्रिक पूरी, मोदी के आने से पहले राजीब बनर्जी ने TMC को दिया झटका

पश्चिम बंगाल में वन मंत्री और डोमजूर से टीएमसी विधायक राजीब बनर्जी ने ममता कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है।

बॉलीवुड पर मुंबई पुलिस मेहरबान, यूपी पुलिस को फरहान अख्तर से नहीं करने दी पूछताछ

मिर्जापुर को लेकर दर्ज एफआईआर के संबंध में फरहान अख्तर से पूछताछ करने पहुॅंची यूपी पुलिस की टीम को मुंबई पुलिस ने इसकी अनुमति नहीं दी।

भारत ने UN में उठाया पाकिस्तान में मंदिर तोड़े जाने का मुद्दा, कहा- ‘मुस्लिम’ भीड़ के आगे मूक दर्शक बनी रही सरकार

भारत ने कहा कि शांति की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव से पाकिस्तान जुड़ा हुआ है। इसके बावजूद भीड़ ने खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में एक ऐतिहासिक मंदिर में तोड़फोड़ की और पाकिस्तानी सरकार मूकदर्शक बनकर देखती रही।

3 महीने की प्लानिंग, 15 दिन की छुट्टी, 25 किलो सोना… दिल्ली पुलिस को चकमा नहीं दे पाया शेख नूर

दिल्ली के कालकाजी स्थित अंजलि ज्वैलर्स में करोड़ों की चोरी की गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने शेख नूर रहमान को गिरफ्तार किया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
384,000SubscribersSubscribe