Wednesday, September 30, 2020
Home विविध विषय अन्य इस्लाम, ईसाई और पश्चिम की हीन भावना पर टिका है नेहरूवाद: जवाहर लाल नेहरू...

इस्लाम, ईसाई और पश्चिम की हीन भावना पर टिका है नेहरूवाद: जवाहर लाल नेहरू को सीता राम गोयल की ‘श्रद्धांजलि’

सीता राम गोयल ने अपनी आत्मकथा 'How I became a Hindu' में स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को एक अध्याय समर्पित किया है। 'Nightmare of Nehruism' नामक अध्याय में वह नेहरू के बारे में बात करते हैं।

सीता राम गोयल ने अपनी आत्मकथा ‘How I became a Hindu’ में स्वतंत्र भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को एक अध्याय समर्पित किया है। ‘Nightmare of Nehruism’ नामक अध्याय में वह जवाहरलाल नेहरू के बारे में बात करते हैं। यह चैप्टर तीसरे पुनर्मुद्रण के दौरान जोड़ा गया था। चैप्टर संख्या 9 के पुनर्प्रकाशित अंश नीचे हैं;

यह सभी जानते हैं कि पंडित नेहरू किसी भी तरह से एक अद्वितीय चरित्र नहीं थे। न ही नेहरूवाद एक अनोखी घटना है। इस तरह के कमजोर दिमाग वाले व्यक्ति और इस तरह की विचारशील प्रक्रियाएँ उन सभी समाजों में देखा गया है, जो कुछ समय के लिए विदेशी शासन के अधीन होने का दुर्भाग्य झेल चुके हैं।

सभी समाजों में हमेशा ऐसे लोग होते हैं जो संस्कृति की श्रेष्ठता के साथ सशस्त्र की श्रेष्ठता को भ्रमित करते हैं। जो स्वयं को एक निम्न वंश का समझने लगते हैं और आत्मविश्वास हासिल करने के लिए विजेता के तरीकों को अपनाते हुए समाप्त हो जाते हैं। जो अपने पूर्वजों से विरासत में मिली चीजों से दोष ढूँढना शुरू करते हैं,और जो अंत में हर उस ताकत और फैक्टर के साथ हाथ मिलाते हैं, जो उनके पैतृक समाज को खत्म करने के लिए तत्पर होते हैं। इस परिप्रेक्ष्य में देखा जाए तो पंडित नेहरू एक स्वजातीय हिंदू से अधिक नहीं थे और नेहरूवाद, हिंदुत्व से पैदा नहीं हुआ है, बल्कि यह इस्लाम, ईसाई और आधुनिक पश्चिम में बैठी गहरीहीन भावना पर टिका हुआ है।

मध्ययुगीन भारत में मुस्लिम शासन ने ऐसे स्वजातीय हिंदुओं के एक पूरे वर्ग का निर्माण किया था। उन्होंने मुस्लिम बाहुल्य की श्रेष्ठता को मुस्लिम संस्कृति की श्रेष्ठता का प्रतीक बताया था। समय के साथ वे विजेता की तरह सोचने और व्यवहार करने लगे थे। वे उस समय बहुत खुश होते थे, जब उन्हें मुस्लिम संस्था में नौकरी मिलती थी, जिससे कि वो सत्ताधारी कुलीन वर्ग के सदस्यों के रूप में जाने जा सकें। उनके पक्ष में एक ही बात कही जा सकती थी कि कारण चाहे जो भी रहा हो, वो इस्लाम में परिवर्तित नहीं हुए और खुद को पूरी तरह से मुस्लिम समाज में मिला लिया। इसी कारण से वे इस्लामी साम्राज्यवाद के ‘ट्रोजन हॉर्सेस’ बन गए थे और अपने लोगों की सांस्कृतिक सुरक्षा को नीचे गिराने की दिशा में काम किया।

जब ब्रिटिश सेना विजयी हुए, तो उसी वर्ग ने ब्रिटिश की ओर अपना कदम बढ़ाया। उन्होंने उन अधिकांश हिंदू पूर्वाग्रहों को बरकरार रखा, जो उन्होंने अपने मुस्लिम आकाओं से उधार लिए थे। इसके अलावा ब्रिटिश प्रतिष्ठान और ईसाई मिशनों द्वारा योगदान की गई सभ्यताओं का भी उन्होंने विस्तार किया। इस तरह ब्रिटिश शासन उनके लिए एक दैवीय व्यवस्था बन गया। इस दोहरी प्रक्रिया का सबसे विशिष्ट परिणाम राजा राम मोहन रॉय थे।

सरदार पटेल की मृत्यु के बाद कुछ वर्षों के भीतर पंडित नेहरू ने जो शक्ति और प्रतिष्ठा हासिल की, उसका अपने गुणों से कोई लेना-देना नहीं था। न तो एक व्यक्ति या एक राजनीतिक नेता के रूप में और न ही एक विचारक के रूप में। वे एक लंबी ऐतिहासिक प्रक्रिया के परिणाम थे, जो एक अलग वर्ग के स्व-पृथक हिंदुओं की वजह से आए थे। यदि यह वर्ग न होता तो पंडित नेहरू कभी शीर्ष पर नहीं आते।

यह कोई अप्रत्याशित घटना या फिर इत्तफाक नहीं है कि नेहरूवादी शासन ने ज्यादातर मामलों में ब्रिटिश राज की तरह व्यवहार किया है। नेहरूवादियों ने भारत को एक हिंदू देश के रूप में नहीं बल्कि एक बहुनस्लीय, बहुधार्मिक और बहुसांस्कृतिक कॉकपिट के रूप में देखा है। उन्होंने अंग्रेजों की तरह अल्पसंख्यकों की मदद से मुख्यधारा के समाज और संस्कृति को दबाने की अपनी पूरी कोशिश की। यही कारण है कि उपनिवेशवाद साम्राज्यवाद द्वारा क्रिस्टलीकृत है।

उन्होंने हिंदू समाज को खंडित करने का भी प्रयास किया। वास्तव में, यह हिंदू संस्कृति की हर अभिव्यक्ति को खत्म करने, हिंदू गौरव के हर प्रतीक को खत्म करने और अल्पसंख्यकों की रक्षा के नाम पर हर हिंदू संगठन को सताए जाने के लिए उनके पूरे समय का व्यवसाय है। हिंदुओं को उन राक्षसों के रूप में प्रस्तुत किया गया है, जिन्हें अगर सत्ता में आने की अनुमति दिया जाए, तो वो सांस्कृतिक नरसंहार करेंगे।

देश का विभाजन इस्लामी साम्राज्यवाद की वजह से हुआ था, मगर नेहरूवादियों ने इसे बड़े ही बेशर्मी से इसे हिंदू सांप्रदायिकता के रूप में कलंकित किया। सोवियत साम्राज्यवाद के हितों में कम्युनिस्टों द्वारा भारत के नवजात गणतंत्र पर युद्ध छेड़ा गया था। लेकिन नेहरूवादी इन गद्दारों के लिए माफी माँगने में व्यस्त थे और RSS के सामने हथौड़ा और चिमटा चला रहे थे।

मैं विवरण में नहीं जा रहा हूँ क्योंकि मुझे यकीन है कि जो कोई भी इस विषय पर गौर करेगा, समानताएँ उसके लिए खुद ब खुद स्पष्ट हो जाएँगी। नेहरूवादी फॉर्मूला यह है कि उसे कोई फर्क नहीं पड़ता कि असली अपराधी कौन है, हिंदुओं को हर हाल में अभियुक्त बनाया जाना चाहिए।

यह मेरा बहुत बड़ा सौभाग्य था कि पंडित नेहरू कभी मेरे हीरो नहीं बने। हीरो के पास एक कला होती है कि वो अपने चाहने वालों के विचार और मीमांसा का समाधान करता है, मगर मेरे विचार और मीमांसा को हर बार निस्तेजता का सामना करना पड़ा है। लेकिन बहुत लम्बे समय के लिए नहीं। पंडित नेहरू के सम्मोहन के तहत एक पल के लिए भी नहीं।

एकमात्र नेता, जिनके बारे में मुझे पता था, वे पंडित नेहरू थे। उनके बारे में काफी लोककथाएँ थीं। वह इलाहाबाद में एक महल में रहने वाले एक अमीर आदमी के इकलौते बेटे के रूप में प्रतिष्ठित थे। जो लंदन में अपने कपड़े सिलाता था और पेरिस में लॉन्ड्री कराता था। जब वायसराय उनसे मिलने आए थे, तो उन्होंने चाय बनाने के लिए ईंधन के रूप में उच्च मूल्यवर्ग के करेंसी नोटों का इस्तेमाल किया था।

जब उन्होंने पहली बार खादी के कपड़े पहने थे, तो उनकी कोमल त्वचा पर फफोले पड़ गए थे। बेटे को इंग्लैंड में उनकी स्कूल और कॉलेज की शिक्षा प्राप्त करने के लिए जाना जाता था, उन्होंने वेल्स के राजकुमार की दोस्ती को कलंकित किया, जो उनका सहपाठी था। उन्होंने अपने ही लोगों के खिलाफ विश्वासघात करके बेताज बादशाह होना चुना।

पंडित नेहरू के मंच पर आते ही तालियों की गड़गड़ाहट गूँज उठी। उन्होंने हाथ जोड़कर लोगों का अभिवादन किया। फिर औपचारिक रूप से एक स्थानीय कॉन्ग्रेस नेता द्वारा उनका परिचय दिया गया। लेकिन जो अगली चीजें मैंने देखी उसे देख अपनी आँखों पर विश्वास नहीं हुआ, मुझे अपनी आँखें मिंचनी पड़ी। महान व्यक्ति का चेहरा लाल हो गया था, वो बाईं ओर मुड़ गया और उसी नेता के चेहरे पर एक जोरदार थप्पड़ लगाया, जो माइक के पास ही खड़ा था। माइक ने काम करना बंद कर दिया था। पंडित नेहरू तेज आवाज में चिल्ला रहे थे जैसे कि कुछ भयानक हुआ हो।

इस बीच माइक ने फिर से काम करना शुरू कर दिया। इसके बाद उनकी आवाज सुनी जा सकती थी। वो कह रहे थे, “दिल्ली की कॉन्ग्रेस के नेता कमीने हैं, जाहिल हैं, नामाकूल हैं। मैंने कितनी बार इनसे कहा है कि इंतजाम नहीं कर सकते तो मुझे मत बुलाया करो, पर ये सुनते ही नहीं।” एक पल के लिए पिन ड्रॉप साइलेंस था और फिर अगले ही पल एक और तालियों की गड़गड़ाहट गूँजी। गाँधी ने मेरे बगल में बैठे आदमी से कहा, “पंडित जी अपने मिजाज (temper) के कारण प्रसिद्ध हैं और लोग उसे इसी तरह से पसंद करते हैं।”  मैं मंच की ओर बढ़ा। थप्पड़ खाने वाले कॉन्ग्रेसी नेता का चेहरा मुस्कुराहट में नहाया हुआ था, जैसे कि उन्होंने कोई प्रतिष्ठित पुरस्कार जीता हो।

इसके बाद जो भाषण हुआ वह और भी निराशाजनक था। मुझे विषय याद नहीं है। यह वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य के बारे में रहा होगा। अब मैं याद कर सकता हूँ कि पंडित नेहरू जिस भाषा में बात कर रहे थे। यह न तो हिंदी थी और न ही उर्दू।

उनके अधिकांश वाक्य व्याकरण या वाक्य-विन्यास के संदर्भ से कोसों दूर थे। कभी-कभी, वह बोलते हुए लड़खड़ा भी रहे थे। मुझे लगा कि वह बहुत खराब वक्ता थे। मैंने कई अन्य लोगों को सुना था, जो इतने प्रसिद्ध नहीं थे, फिर भी बेहतर और अधिक सुसंगत थे। मैंने उनकी भाषा पर गौर नहीं किया होता अगर मुझे नहीं पता होता कि वह एक ऐसे प्रांत से ताल्लुक रखते हैं जो हिंदी और उर्दू दोनों के लिए प्रसिद्ध था।

लेकिन जैसे-जैसे मैं स्टेज की तरफ बढ़ा, यह और भी ज्यादा अशोभनीय था। पंडित नेहरू कॉन्ग्रेस नेताओं की पकड़ से मुक्त होना चाहते थे। उन्हें नीचे कूदने से रोका जा रहा था। ऐसा लग रहा था कि वो इस बात से अंजान हैं कि सामने भीड़ बैठी हुई है। एक पल वह आगे बढ़ रहा था, और अगले ही पल उसे वापस खींचा जा रहा था। और हर समय, वह तेज आवाज में चिल्ला रहे थे।

तभी माइक पर उन्हें कहते हुए सुना गया, “देखना चाहता हूँ इन कमीनों को मैं। बता देना चाहता हूँ इनको कि मैं कौन हूँ। इनकी ये गंदी हरकतें मैं कतई बर्दाश्त नहीं कर सकता।” हंगामा मच गया। कॉन्ग्रेस नेताओं ने उन्हें पकड़ा हुआ था। तभी उन्होंने अपना दाहिना हाथ ऊपर करके चिल्लाते हुए कहा, “मैं एक शानदार आदमी हूँ।” भीड़ बेतहाशा, लगातार तालियाँ बजा रही थी।

यह घटना 1947 के अंत में या फिर 1948 के शुरू में हुआ। मैं अमेरिका से आए मेरे पत्रकार मित्र से मिलने दिल्ली गया था। मैं कॉफी हाउस में उनके साथ बैठा था, तभी उन्होंने कहा, “सीता, ये आदमी अपने बारे में क्या समझता है कि ये कौन है? सर्वशक्तिमान ईश्वर?” हे ईश्वर?” मैंने उनसे पूछा, “कौन? क्या हुआ है?” उन्होंने मुझे कुछ साधुओं की कहानी सुनाई, जो नई दिल्ली में पंडित नेहरू के निवास के पास अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठे थे, और उनसे आश्वासन माँग रहे थे कि गोहत्या बंद कर दी जाएगी।

मेरे दोस्त ने कहा, “मैं कुछ तस्वीरें लेने, और रिपोर्ट इकट्ठा करने के लिए वहाँ गया था। अमेरिकी पाठक भारत की ऐसी कहानियों को काफी पसंद करते हैं। लेकिन जो मैंने देखा वह मेरे लिए एक डरावनी घटना थी। मैं कुछ अंग्रेजी जानने वाले साधुओं में से एक से बात कर रहा था, यह आदमी अपनी बहन पंडित के साथ घर से निकला। ये दोनों हिंदी में कुछ चिल्ला रहे थे। बेचारे साधु अचरज में पड़ गए और खड़े हो गए। इस आदमी ने साधु को थप्पड़ मारा जो हाथ जोड़कर आगे बढ़ा था। उसकी बहन ने भी ऐसा ही किया। वे कुछ कह रहे थे जो बहुत कठोर लग रहा था। फिर वे दोनों वापस चले गए। जितनी तेजी से वे आए थे, उतनी ही तेजी से गायब भी हो गए। साधु ने विरोध में एक शब्द भी नहीं बोला, न ही उनके सामने और न ही उन दोनों के जाने के बाद। उन्होंने यह सब मान लिया था जैसे कि यह सामान्य बात थी।”

मैंने कहा, “लेकिन पंडित नेहरू के मामले में यह सामान्य बात है। वह सारी जिंदगी लोगों को थप्पड़ और लात मारते रहे हैं।” उन्होंने निष्कर्ष निकाला, “मुझे आपके देश के कायदे-कानून की जानकारी नहीं है। लेकिन मेरे देश में, यदि राष्ट्रपति किसी नागरिक पर इतना चिल्लाता है, तो उसे भी पद से जाना होगा। हम इस बदतमीजी को किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं कर सकते, चाहे वह कितना भी बड़ा क्यों न हो।” मैं खामोश रहा।

***

पंडित नेहरू को हर वक्त इस्तीफा देने की धमकी देने की आदत थी। यह उनका पेटेंट तरीका था कि लोग इसका विरोध करें, कि वह देश के लिए अतिआवश्यक हैं, उनके बिना देश बर्बाद हो जाएगा। वह हर बार अपने पक्ष में एक तूफान उठाने में सफल रहे और जिसने भी उन्हें बाहर निकालने की कोशिश की, उसे उन्होंने बदनाम कर दिया। इस तरह वो घोंघा की तरह सिंहासन से चिपके रहे। ब्रिगेडियर दलवी के शब्दों में, इस्तीफा देने की मंशा से गुजरने के लिए भी उनके पास शालीनता नहीं थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

हाथरस ‘गैंगरेप’ में लिबरल गिरोह ‘जाति’ क्यों ढूँढ रहा है? अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Hathras ‘gangrape’ case

इस बीच मौकापरस्त पत्रकार और नेता मामले को स्पिन देते हुए आरोपित की ‘जाति’ निकाल कर सामने ला रहे हैं कि वो उच्च जाति का होने की वजह से पुलिस ने रेप से इनकार किया।

1959 के एकतरफा तरीके से परिभाषित LAC कभी स्वीकार नहीं: भारत ने चीन को दिया दो टूक जवाब

चीन ने एक बार फिर एलएसी के मसले पर नया विवाद खड़ा करने की कोशिश की है। लेकिन भारत ने पलटवार करते हुए चीन से सख्त अंदाज में कह दिया है कि बार-बार भटकाने की मंशा सफल नहीं होगी।

‘बॉलीवुड के नकली अंग्रेज, जिनके रोम-रोम में बसा है इटली वाला रोम’ – सनातन धर्म की रक्षा के लिए अर्नब गोस्वामी का हल्ला बोल

“मैं बॉलीवुड के नकली अँग्रेज़ को बताना चाहता हूँ, भारतीय सिनेमा छोड़ दो। हमारी संस्कृति और परंपराओं पर बॉलीवुड का प्रभाव बढ़ रहा है।"

ड्रग्स सिंडिकेट की एक्टिव मेंबर… तस्करी, डिलीवरी से लेकर घर में स्टोरेज तक: रिया के खिलाफ कोर्ट में NCB

वॉट्सऐप चैट, मोबाइल, लैपटॉप और हार्ड डिस्क से निकाले गए रिकॉर्ड बताते हैं कि वह ना केवल लगातार इसका सौदा करती थीं, बल्कि...

RSS से जुड़े ब्राह्मण ने दिया था अंग्रेजों का साथ, एक मुस्लिम वकील लड़ा था भगत सिंह के पक्ष में – Fact Check

"भगत सिंह को फ़ाँसी दिलाने के लिए अंग्रेजों की ओर से जिस 'ब्राह्मण' वकील ने मुकदमा लड़ा था, वह RSS का भी सदस्य था।" - वायरल हो रहा मैसेज...

योग, सरदार पटेल, राम मंदिर और अब किसान… कॉन्ग्रेसियों के फर्जी विरोध पर फूटा PM मोदी का गुस्सा

राम मंदिर, सरदार पटेल की प्रतिमा, सर्जिकल स्ट्राइक, जन-धन खाता, राफेल और योग दिवस - कॉन्ग्रेस ने हर उस फैसले का जम कर विरोध किया, जो देशहित में था, जनता के भले के लिए था।

प्रचलित ख़बरें

बेच चुका हूँ सारे गहने, पत्नी और बेटे चला रहे हैं खर्चा-पानी: अनिल अंबानी ने लंदन हाईकोर्ट को बताया

मामला 2012 में रिलायंस कम्युनिकेशन को दिए गए 90 करोड़ डॉलर के ऋण से जुड़ा हुआ है, जिसके लिए अनिल अंबानी ने व्यक्तिगत गारंटी दी थी।

‘दीपिका के भीतर घुसे रणवीर’: गालियों पर हँसने वाले, यौन अपराध का मजाक बनाने वाले आज ऑफेंड क्यों हो रहे?

दीपिका पादुकोण महिलाओं को पड़ रही गालियों पर ठहाके लगा रही थीं। अनुष्का शर्मा के लिए यह 'गुड ह्यूमर' था। करण जौहर खुलेआम गालियाँ बक रहे थे। तब ऑफेंड नहीं हुए, तो अब क्यों?

एंबुलेंस से सप्लाई, गोवा में दीपिका की बॉडी डिटॉक्स: इनसाइडर ने खोल दिए बॉलीवुड ड्रग्स पार्टियों के सारे राज

दीपिका की फिल्म की शूटिंग के वक्त हुई पार्टी में क्या हुआ था? कौन सा बड़ा निर्माता-निर्देशक ड्रग्स पार्टी के लिए अपनी विला देता है? कौन सा स्टार पत्नी के साथ मिल ड्रग्स का धंधा करता है? जानें सब कुछ।

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

आजतक के कैमरे से नहीं बच पाएगी दीपिका: रिपब्लिक को ज्ञान दे राजदीप के इंडिया टुडे पर वही ‘सनसनी’

'आजतक' का एक पत्रकार कहता दिखता है, "हमारे कैमरों से नहीं बच पाएँगी दीपिका पादुकोण"। इसके बाद वह उनके फेस मास्क से लेकर कपड़ों तक पर टिप्पणी करने लगा।

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में हाथियों को गोद लेने की योजना शुरू: 1 दिन से 1 साल तक कोई भी दे सकता है योगदान

“हाथियों के लिए कायाकल्प शिविर सोमवार को शुरू हुआ, जिससे उन्हें अपने नियमित काम से छुट्टी मिल गई। ये हाथी हमें पूरे साल पेट्रोलिंग, ट्रैकिंग और अन्य नियमित कार्यों में मदद करते हैं।”

डेनमार्क की PM के नाम से The Hindu ने भारत में कोरोना की स्थिति को बताया ‘बहुत गंभीर’, राजदूत ने कहा- फेक न्यूज़

'द हिन्दू' ने इस फर्जी खबर में लिखा है कि डेनमार्क की PM ने द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए सोमवार को भारत में COVID-19 की स्थिति के बारे में गहरी चिंता व्यक्त की है।

‘1991 का कानून कॉन्ग्रेस की अवैध मस्जिदों को जिंदा रखने की साजिश, 9 मस्जिदों का जिक्र कर बताया यहाँ पहले थे मंदिर’: PM को...

"द प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट 1991 कॉन्ग्रेस की हुकूमत में इसलिए बनाया गया, ताकि मुगलों द्वारा भारत के प्राचीन पवित्र मंदिरों को तोड़ कर बनाई गई अवैध मस्जिदों को हिंदुस्तान की जमीन पर एक विवाद के रूप में जिंदा रखा जाए और....."

हाथरस ‘गैंगरेप’ में लिबरल गिरोह ‘जाति’ क्यों ढूँढ रहा है? अजीत भारती का वीडियो | Ajeet Bharti on Hathras ‘gangrape’ case

इस बीच मौकापरस्त पत्रकार और नेता मामले को स्पिन देते हुए आरोपित की ‘जाति’ निकाल कर सामने ला रहे हैं कि वो उच्च जाति का होने की वजह से पुलिस ने रेप से इनकार किया।

1959 के एकतरफा तरीके से परिभाषित LAC कभी स्वीकार नहीं: भारत ने चीन को दिया दो टूक जवाब

चीन ने एक बार फिर एलएसी के मसले पर नया विवाद खड़ा करने की कोशिश की है। लेकिन भारत ने पलटवार करते हुए चीन से सख्त अंदाज में कह दिया है कि बार-बार भटकाने की मंशा सफल नहीं होगी।

‘उसे अल्लाह ने चुना था’: शार्ली एब्दो के पूर्व कार्यालय के बाहर हमला करने वाले आतंकी को PAK ने बनाया हीरो, जताई खुशी

"मुझे सुनकर बहुत अच्छा लगा। पैगंबर का सम्मान बचाने के लिए मैं अपनी जिंदगी और अपने पाँचों बेटों की कुर्बानी देने को तैयार हूँ।"

LAC पर चीन के साथ टकराव के बीच अमेरिका से खरीदे जाएँगे 30 गार्जियन ड्रोन: ₹22,000 करोड़ होगी कीमत

भारत, अमेरिका से 30 MQ-9B गार्डियन्‍स ड्रोन खरीदेगा। जल्‍द ही इस ड्रोन से जुड़ा खरीद प्रस्‍ताव रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अगुवाई वाली रक्षा खरीद परिषद में पेश किया जाने वाला है।

हाथरस ‘गैंगरेप’ पीड़िता ने तोड़ा दम: पुलिस ने सोशल मीडिया पर आँख फोड़ने, जीभ काटने का किया खंडन

“सोशल मीडिया के माध्यम से यह असत्य खबर सार्वजनिक रुप से फैलाई जा रही है कि थाना चन्दपा क्षेत्रान्तर्गत दुर्भाग्यपूर्ण घटित घटना में मृतिका की जीभ काटी गई, आँख फोड़ी गई तथा रीढ़ की हड्डी तोड़ दी गई थी।"

मेरा साथ देने पर पड़ोसियों को मिली घर तोड़ने की धमकी, BMC ने भेजा नोटिस: कंगना रनौत

ट्वीट में कंगना ने मुंबई में अपने पड़ोसियों के घरों को लेकर चिंता जाहिर की है। उन्होंने कहा है कि बीएमसी ने उनके पड़ोसियों को धमकाया है और नोटिस भेज दिया है।

‘बॉलीवुड के नकली अंग्रेज, जिनके रोम-रोम में बसा है इटली वाला रोम’ – सनातन धर्म की रक्षा के लिए अर्नब गोस्वामी का हल्ला बोल

“मैं बॉलीवुड के नकली अँग्रेज़ को बताना चाहता हूँ, भारतीय सिनेमा छोड़ दो। हमारी संस्कृति और परंपराओं पर बॉलीवुड का प्रभाव बढ़ रहा है।"

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,083FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe