Thursday, July 25, 2024
Homeविविध विषयअन्यजीएन साईबाबा को बरी कर बटोरी थी चर्चा, अब हाई कोर्ट के जज ने...

जीएन साईबाबा को बरी कर बटोरी थी चर्चा, अब हाई कोर्ट के जज ने भरी अदालत में दिया इस्तीफा; सबसे माँगी माफी

भरी अदालत में इस्तीफा देने वाले जज राहुल बी देव ने शहरी नक्सली बी एन साईबाबा की आजीवन कारावास की सजा को रद्द करके उनकी रिहाई के आदेश दिए थे। सुप्रीम कोर्ट ने उनके फैसले को पूरी तरह से पलट दिया था, नसीहत भी दी थी।

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच के जस्टिस राहुल बी देव ने भरी अदालत में इस्तीफा दे दिया। उन्होंने कोर्ट में मौजूद सभी लोगों से माफी भी माँगी और इस्तीफे का ऐलान कर दिया। जस्टिस राहुल बी देव साल 2022 में उस समय चर्चा में आ गए थे, जब उन्होंने जीएन साईबाबा को न सिर्फ रिहा करने का आदेश दिया था, बल्कि उनके खिलाफ केस को ही खारिज करते हुए आजीवन कारावास की सजा को रद्द कर दिया था। अब उन्होंने भरी कोर्ट में मौजूद वकीलों व अन्य स्टाफ को संबोधित करते हुए कहा कि अगर उनकी वजह से किसी को ठेस पहुँची हो, तो वो माफी चाहते हैं। क्योंकि अब वो ये पद छोड़ रहे हैं और फिर वो कोर्ट से चले गए।

जनसत्ता की रिपोर्ट के मुताबिक, जस्टिस राहुल बी देव ने इस्तीफा देते हुए कहा कि उनके मन में किसी के प्रति कोई गुस्सा नहीं है। किसी तरह का कोई मलाल लेकर वो नहीं जा रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि अगर वो किसी को भी कभी ठेस पहुंचाए हों, तो उसके लिए वो क्षमाप्रार्थी हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने पलट दिया था फैसला, लगाई थी फटकार

राहुल बी देव साल 2017 से बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच के जज हैं। वो साल 2016 में महाराष्ट्र सरकार के महाधिवक्ता रहे थे। लेकिन शहरी नक्सली बी एन साईबाबा केस में उन्होंने सभी सबूतों, गवाहों की अनदेखी करते हुए उनके खिलाफ केस को ही खारिज कर दिया था और आजीवन कारावास की सजा को रद्द करके उनकी रिहाई के आदेश दे दिए थे।

जज राहुल बी देव के इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की गई थी, तो सुप्रीम कोर्ट ने न सिर्फ उनके फैसले को पूरी तरह से पलट दिया, बल्कि नसीहत भी दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने अभूतपूर्व फैसला करते हुए उनके दिए निर्णय को ही रद्द कर दिया था।

ये भी पढ़ें : DU के पूर्व प्रोफेसर जीएन साईबाबा अभी जेल में ही रहेंगे: नक्सली कनेक्शन का मामला, सुप्रीम कोर्ट ने बॉम्बे हाईकोर्ट का फैसला किया निलंबित

ये भी पढ़ें : ‘महाराष्ट्र नहीं छोड़ सकते, पासपोर्ट जमा करो’: भीमा-कोरेगाँव मामले में अर्बन नक्सल वर्नोन गोंजाल्विस और अरुण फरेरा को SC से जमानत

2025 में होना था रिटायर

जस्टिस राहुल बी देव का कार्यकाल अभी काफी बाकी था। वो 4 दिसंबर 2025 को रिटायर होते, लेकिन अभूतपूर्व कदम उठाते हुए उन्होंने कोर्ट में ही अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया। आज तक के इतिहास में शायद किसी जज ने कोर्ट में ही इस्तीफा नहीं दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -