Thursday, July 18, 2024
Homeविविध विषयअन्य'भारत शब्द से असहज हो गए हैं कई लोग': वीरेंद्र सहवाग ने की थी...

‘भारत शब्द से असहज हो गए हैं कई लोग’: वीरेंद्र सहवाग ने की थी खिलाड़ियों की जर्सी से ‘India’ हटाने की माँग, विरोध होने पर बोले – राजनीति में रुचि नहीं, ठुकराए टिकट

वीरेंद्र सहवाग ने नीदरलैंड्स और म्यांमार का उदाहरण भी दिया। उन्होंने बताया कि कैसे 1996 में हॉलैंड भारत में वर्ल्ड कप खेलने आया था, लेकिन 2003 में जब भारत से उसका मैच हुआ तो वो हॉलैंड नहीं, बल्कि नीदरलैंड्स बन गया था। इसी तरह, बर्मा ने अंग्रेजों के दिए नाम को त्याग कर वापस अपना नाम म्यांमार रख लिया।

संसद के विशेष सत्र में देश का नाम सिर्फ भारत किए जाने की चर्चा जोरों पर है। इस बीच पूर्व भारतीय क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने टीम इंडिया की जर्सी पर ‘भारत’ लिखने की माँग की थी। इसको लेकर लोग उन्हें ट्रोल कर रहे थे और उनकी इस माँग को राजनीति से जोड़ रहे थे। इस पर सहवाग ने कहा कि उनकी कोई राजनीतिक इच्छा नहीं है। उनके लिए सिर्फ भारत ही महत्वपूर्ण है।

वीरेंद्र सहवाग ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर लिखा है, “हमारे देश को भारत के नाम से संबोधित करने को लेकर बात होती है तो लोग इसे राजनीतिक चश्मे से देखने की कोशिश करते हैं। यह बेहद हास्यास्पद है। मैं किसी खास राजनीतिक पार्टी का प्रशंसक नहीं हूँ। दोनों ही राष्ट्रीय पार्टियों में अच्छे लोग हैं और दोनों पार्टियों में बहुत सारे अयोग्य लोग भी हैं।”

उन्होंने आगे लिखा, “मैं एक बार फिर से स्पष्ट करना चाहता हूँ कि मेरी कभी कोई राजनीतिक आकांक्षा नहीं रही और न ही अब कोई आकांक्षा है। अगर मुझे राजनीति करनी होती तो पिछले दो लोकसभा चुनावों में दोनों पार्टियों द्वारा दिए गए ऑफर खुशी-खुशी स्वीकार कर लेता। अगर मुझे राजनीति करनी ही होती तो किसी भी पार्टी से टिकट पाने के लिए मेरी ऑन-फील्ड उपलब्धियाँ ही पर्याप्त थीं।”

सहवाग ने ट्रोलर्स को फटकार लगाते हुए लिखा, “दिल की बात कहना राजनीतिक इच्छा से बिल्कुल अलग है। मेरी एकमात्र रुचि ‘भारत’ है। जहाँ तक बात विपक्ष द्वारा खुद को I.N.D.I.A. कहे जाने की है तो वो खुद को B.H.A.R.A.T भी कह सकते हैं। ऐसे बहुत से रचनात्मक लोग हैं, जो इसके लिए सही फुलफॉर्म भी बता देंगे।”

उन्होंने कॉन्ग्रेस नेताओं के ‘भारत’ नाम का विरोध करने पर आड़े हाथों लिया और कहा, “कॉन्ग्रेस ने भारत जोड़ो यात्रा नामक एक यात्रा भी की थी। दुर्भाग्य से बहुत से लोग ‘भारत’ शब्द से असुरक्षित महसूस करते हैं। मुझे लगता है कि गठबंधन का नाम चाहे जो भी हो, लेकिन चुनावों को मोदी बनाम विपक्ष ही कहा जाएगा। चुनाव में सबसे अच्छे की ही जीत होगी, लेकिन यदि हमारे देश को ‘भारत’ नाम से संबोधित किया जाएगा तो मुझे बहुत अधिक संतुष्टि मिलेगी।”

दरअसल, भारत बनाम इंडिया की चर्चा के बीच वीरेंद्र सहवाग का एक ट्वीट वायरल हो रहा था। यह ट्वीट उन्होंने एशिया कप में भारत-पाकिस्तान मैच के दौरान किया था। इस ट्वीट में उन्होंने ‘BHAvsPAK’ का हैशटैग लगाया था। लोगों ने कहा कि वीरेंद्र सहवाग को शायद पहले से इसका अंदेशा था। इस पर टिप्पणी करते हुए सहवाग ने कहा, “मेरा हमेशा से मानना है कि देश का नाम ऐसा रहना चाहिए, जिससे हमारे भीतर गर्व की भावना आए। हम भारतीय हैं। ‘India’ नाम अंग्रेजों का दिया हुआ है।”

वीरेंद्र सहवाग ने ये भी कहा कि ये काफी पहले किया जाना चाहिए था। उन्होंने कहा, “हमारे देश का नाम फिर से आधिकारिक रूप से केवल ‘भारत’ रखा जाना चाहिए था।” उन्होंने BCCI और इसके सेक्रेटरी जय शाह से अपील की कि ODI क्रिकेट विश्व कप के दौरान भारतीय क्रिकेटरों की जर्सी पर ‘India’ की जगह ‘भारत’ लिखा हो। मंगलवार (5 सितंबर, 2023) को वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम की भी घोषणा हुई है। टीम की जीत की कामना करते हुए सहवाग ने लिखा कि इसे ‘टीम भारत’ कहा जाना चाहिए।

इस दौरान वीरेंद्र सहवाग ने नीदरलैंड्स और म्यांमार का उदाहरण भी दिया। उन्होंने बताया कि कैसे 1996 में हॉलैंड भारत में वर्ल्ड कप खेलने आया था, लेकिन 2003 में जब भारत से उसका मैच हुआ तो वो हॉलैंड नहीं, बल्कि नीदरलैंड्स बन गया था। इसी तरह, सहवाग ने बताया कि कैसे बर्मा ने अंग्रेजों के दिए नाम को त्याग कर वापस अपना नाम म्यांमार रख लिया। उन्होंने याद दिलाया कि कई देश हैं, जो अपने मूल नाम की तरफ लौटे हैं और अपना नाम बदला है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘भ#$गी हो, भ$गी बन के रहो’: जामिया के 3 प्रोफेसर पर FIR, दलित कर्मचारी पर धर्म परिवर्तन का डाल रहे थे दबाव; कहा- ईमान...

एफआईआर में आरोपित नाज़िम हुसैन अल-जाफ़री जामिया मिल्लिया इस्लामिया के रजिस्ट्रार हैं तो नसीम हैदर डिप्टी रजिस्ट्रार। इनके साथ ही आरोपित शाहिद तसलीम यूनिवर्सिटी में प्रोफ़ेसर हैं।

पूजा खेडकर की माँ होटल से हुई गिरफ्तार, नाम बदलकर लिया था कमरा: महिला IAS के पिता नौकरी में रहते 2 बार हुए थे...

पूजा खेडकर का चिट्ठा खुलने के बाद उनके माता-पिता के खिलाफ भी जाँच जारी है। माँ को महाड के होटल से हिरासत में लिया गया है और पिता फरार हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -