Wednesday, July 17, 2024
Homeविविध विषयअन्यअनंत, आकाश और ईशा... किसके हाथ में जाएगी रिलायंस की कमान, लीडरशिप में बदलाव...

अनंत, आकाश और ईशा… किसके हाथ में जाएगी रिलायंस की कमान, लीडरशिप में बदलाव के मुकेश अंबानी ने दिए संकेत

इससे पहले खबर आई थी कि मुकेश अंबानी संपत्ति और कारोबार को बच्चों के बीच कैसे बाँटा जाए, इसको लेकर दुनिया भर के तमाम फॉर्मूलों का अध्ययन कर रहे हैं।

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) की बागडोर जल्द नई पीढ़ी के हाथ में हो सकती है। इसके संकेत खुद रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी ने मंगलवार (28 दिसंबर 2021) को दिए। उनका कहना है कि वह वरिष्ठ सहयोगियों के साथ मिलकर युवा पीढ़ी को बागडोर सौंपने की प्रक्रिया में तेजी लाना चाहते हैं। 64 साल के हो चुके मुकेश अंबानी ने अपने पिता धीरूभाई की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में उत्तराधिकार सौंपने की प्रक्रिया शुरू करने की जानकारी दी।

उन्होंने कहा, “बड़े सपनों और नामुमकिन नजर आने वाले लक्ष्यों को हासिल करने के लिए सही लोगों को जोड़ना और सही नेतृत्व होना जरूरी है। रिलायंस अब एक महत्वपूर्ण नेतृत्व बदलाव को अंजाम देने की प्रक्रिया में हैं। यह बदलाव मेरी पीढ़ी के वरिष्ठों से नए लोगों की अगली पीढ़ी को होगा।” साथ ही उन्होंने आने वाले समय में रिलायंस के दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित एवं मजबूत कंपनियों में शामिल होने की बात कही। अंबानी ने अपने संबोधन में कहा, “सभी वरिष्ठों को अब रिलायंस में बेहद काबिल, प्रतिबद्ध एवं प्रतिभाशाली युवा नेतृत्व को विकसित करना चाहिए। हमें उनका मार्गदर्शन करना चाहिए, उन्हें सक्षम बनाना चाहिए और प्रोत्साहित करना चाहिए और जब वे हमसे बेहतर प्रदर्शन करते हुए दिखाई दें तो हमें आराम से बैठकर तालियाँ बजानी चाहिए।”

मुकेश अंबानी के इस बयान के बाद कयास लगने शुरू हो गए हैं कि रिलायंस का नेतृत्व किसे मिलेगा? ईशा, आकाश और अनंत में से किसके हाथों में जिम्मेदारी होगी?

इससे पहले खबर आई थी कि मुकेश अंबानी संपत्ति और कारोबार को बच्चों के बीच कैसे बाँटा जाए, इसको लेकर दुनिया भर के तमाम फॉर्मूलों का अध्ययन कर रहे हैं। इसमें कहा गया था कि मुकेश अंबानी नहीं चाहते कि उनके पिता धीरूभाई अंबानी के निधन के बाद जिस तरह से उनके और अनिल अंबानी में कारोबार के बँटवारे को लेकर विवाद हुआ था, उसी अनुभव से उनके बच्चे भी गुजरे।  

इस दौरान कई मीडिया रिपोर्टों में बताया गया था कि उन्हें वॉलमार्ट नामक कंपनी का संचालन करने वाली वॉल्टन परिवार का फॉर्मूला ज्यादा पसंद आया था। इसके साथ ही यह भी कहा गया था कि मुकेश अंबानी अपने परिवार की संपत्तियों को एक ट्रस्ट की तरह संस्था बना कर संचालन का दायित्व देने की योजना पर काम कर रहे हैं, जो रिलायंस ग्रुप का भी प्रबंधन करेगी। हालाँकि यह सब बातें सूत्रों के हवाले से कही गई थी। अब मुकेश अंबानी ने खुद रिलायंस इंडस्ट्रीज के नेतृत्व में बदलाव की तरफ इशारा किया है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -