Wednesday, May 12, 2021
Home विविध विषय अन्य योग से लेकर अयोध्या के दीपोत्सव तक... 'सिकुलर सियासत' पर जगमग भारतीय परंपराओं का...

योग से लेकर अयोध्या के दीपोत्सव तक… ‘सिकुलर सियासत’ पर जगमग भारतीय परंपराओं का दीया

वर्तमान सरकार इस मुद्दे पर प्रबल है कि हमें ऐसी चीज़ों पर गर्व करना है जो इस देश की धार्मिक/सांस्कृतिक जड़ में हैं। जो इस राष्ट्र की अवधारणा का हिस्सा हैं। तभी दुनिया को आभास होगा कि हम क्यों विशेष और भिन्न हैं।

साल 2014 के आम चुनावों के ठीक बाद भारत के कई पहलुओं में बड़े पैमाने पर बदलाव हुआ। जिसमें सबसे उल्लेखनीय है सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक पहलू। देश में हिन्दू शब्द के इर्द-गिर्द जितने भी विमर्श मौजूद थे सभी को नए सिरे से अलंकृत और परिभाषित किया गया। चाहे योग को वैश्विक स्तर पर पुनः स्थापित करना हो या मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की जन्मस्थली पर भव्य मंदिर की संकल्पना। ऐसे तमाम दृष्टान्तों के बीच सबसे नई मिसाल है उत्तर प्रदेश की योगी सरकार द्वारा आयोजित विलक्षण और विहंगम ‘दीपोत्सव’। वर्तमान सरकार ने अपनी अमूमन हर राजनीतिक गतिविधि में खुद को मिले मत का मान रखा है। 

अयोध्या के दीपोत्सव का अद्भुत दृश्य

इसे देश का दुर्भाग्य कहना ही उचित होगा कि 2014 के पहले सत्ता में रही लगभग हर सरकारों ने हिंदुत्व शब्द के मूल स्वरूप को विक्षिप्त ही किया है। इसकी सबसे मज़बूत नज़ीर है देश की वह तथाकथित ‘सेक्युलर पार्टी’ जिसने श्रीराम के अस्तित्व पर प्रश्न उठाया। आज भारतीय राजनीति के पटल पर उनका स्थान कहाँ है? इस पर शब्द खर्च करना स्वयं में हास्यास्पद है। देश का शायद ही कोई राजनीतिक दल होगा जिसके नेता/प्रवक्ता ने व्यंग्यात्मक शैली में ‘मंदिर निर्माण की तिथि’ पर प्रश्न नहीं उठाया हो। 

एक समुदाय या पंथ के लिए इससे बेहतर और क्या हो सकता है कि उसकी मान्यताओं, परम्पराओं और त्योहारों को अहमियत मिले। साल 2017 में सत्ता हासिल करने के बाद योगी सरकार ने एक वर्ष के भीतर उत्तर प्रदेश के तमाम धार्मिक स्थलों के जीर्णोद्धार का निर्णय लिया। चित्रकूट से लेकर मिर्जापुर तक और मथुरा से लेकर काशी तक, दशकों बाद किसी सरकार ने (हिन्दू) स्थलों की सुध ली।    

लेकिन देश के नेताओं को इफ़्तार करने और सेवई खाने से वक्त मिलता तब बहुसंख्यक वर्ग की विचारधारा के उद्धार पर चिंतन करते। आज विश्व के तमाम देशों में भारतीय त्योहार उत्साह के साथ मनाए जाते हैं, उन्हें लेकर स्वीकार्यता और समझ का दायरा बढ़ा है। इतना ही नहीं ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, रूस जैसे देशों के दिग्गज नेता भारतीय जनमानस को भारतीय त्योहारों की शुभकामनाएँ देते हैं। भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति और योग के विषय में विमर्श का दायरा सीमित था। वर्तमान सरकार ने प्राचीन चिकित्सा पद्धति- आयुर्वेद और योग को नए आयाम दिए।

वर्तमान सरकार ने अपनी लगभग हर छोटी बड़ी क्रिया से यह सिद्ध किया है कि उनके लिए भारतीय विमर्श कितना अहम है। इस बात के समर्थन में सिर्फ नवंबर महीने में 3 सिलसिलेवार उदाहरण नज़र आए।  

पहला उदाहरण नज़र आया जब 6 नवंबर को भारत और इटली की वर्चुअल समिट थी। समिट के दौरान प्रधानमंत्री मोदी की पृष्ठभूमि में लगा चित्र तमिलनाडु स्थित मामल्लपुरम मंदिर का था। 

दूसरा उदाहरण 10 नवंबर को हुई एससीओ काउंसिल ऑफ़ हेड्स ऑफ़ स्टेट 20वीं समिट का है। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी की पृष्ठभूमि में लगा चित्र जोधपुर स्थित मेहरानगढ़ किले का है। 

तीसरा उदाहरण 11 नवंबर को हुई आसियान (ASEAN) इंडिया समिट का है। इसमें प्रधानमंत्री मोदी की पृष्ठभूमि में लगा चित्र वाराणसी सारनाथ स्थित धामेक स्तूप का है। 

इन बहुआयामी तर्कों के आधार पर एक बात स्पष्ट हो जाती है कि वर्तमान सरकार इस मुद्दे पर प्रबल है कि देश की आवाम को ऐसी चीज़ों पर ही गर्व करना है जो इस देश की धार्मिक/सांस्कृतिक जड़ में हैं। देश में सर्वप्रथम वही प्रस्तुत किया जाना चाहिए जो इस राष्ट्र की अवधारणा का हिस्सा हैं। तभी दुनिया को आभास होगा कि हम क्यों विशेष और भिन्न हैं।

शायद यही कारण है कि अब देश के तमाम स्वघोषित लिबरल और सेक्युलर राजनीतिक दलों के नूतन हिन्दूवादी नेता (जी राहुल गाँधी भी) मंदिरों के चौखट पर पाए जाते हैं। अपना जनेऊ (जो कि कभी परम्परागत रूप से धारण किया ही नहीं) दिखा कर हिन्दू होने का प्रमाण देते हैं। अन्य राजनीतिक दलों के गिरगिटनुमा इफ़्तार एवं नमाज़वादी (जी अरविन्द केजरीवाल और अखिलेश यादव) जालीदार टोपी पहन कर धार्मिक पाखण्ड की मिसाल पेश करते हैं।

जनता सुबोध हो सकती है लेकिन निर्बोध नहीं, इस श्रेणी के हर छद्म क्रियाकलाप को पहचानती है और अवसर पर हिसाब करती है। जैसे पिछले कुछ वर्षों से लगातार कर रही है।                 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऑक्सीजन पर लताड़े जाने के बाद केजरीवाल सरकार ने की Covid टीकों की उपलब्धता पर राजनीति: बीजेपी ने खोली पोल

पत्र को करीब से देखने से यह स्पष्ट होता है कि संबित पात्रा ने जो कहा वह वास्तव में सही है। पत्रों में उल्लेख है कि दिल्ली में केजरीवाल सरकार 'खरीद करने की योजना' बना रही है। न कि ऑर्डर दिया है।

‘#FreePalestine’ कैम्पेन पर ट्रोल हुई स्वरा भास्कर, मोसाद के पैरोडी अकाउंट के साथ लोगों ने लिए मजे

स्वरा के ट्वीट का हवाला देते हुए @TheMossadIL ने ट्वीट किया कि अगर इस ट्वीट को स्वरा भास्कर के ट्वीट से अधिक लाइक मिलते हैं, तो वे भारतीय अभिनेत्री को एक स्पेशल ‘पॉकेट रॉकेट’ भेजेंगे।

स्वप्ना पाटकर के ट्वीट हटाने के लिए कोर्ट पहुँचे संजय राउत: प्रताड़ना का आरोप लगा PM को भी महिला ने लिखा था पत्र

संजय राउत ने उन सभी ट्वीट्स को हटाने का निर्देश देने की गुहार कोर्ट से लगाई है जिसमें स्वप्ना पाटकर ने उन पर आरोप लगाए हैं।

उद्धव ठाकरे की जाएगी कुर्सी, शरद पवार खुद बनना चाहते हैं CM? रिपोर्ट से महाराष्ट्र सरकार के गिरने के कयास

बताया जा रहा है कि उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री बनाकर अब शरद पवार पछता रहे हैं। उन्हें यह 'भारी भूल' लग रही है।

बंगाल के नतीजों पर नाची, हिंसा पर होठ सिले: अब ममता ने मीडिया को दी पॉजिटिव रिपोर्टिंग की ‘हिदायत’

विडंबना यह नहीं कि ममता ने मीडिया को चेताया है। विडंबना यह है कि उनके वक्तव्य को छिपाने की कोशिश भी यही मीडिया करेगी।

मोदी से घृणा के लिए वे क्या कम हैं जो आप भी उसी जाल में उलझ रहे: नैरेटिव निर्माण की वामपंथी चाल को समझिए

सच यही है कि कपटी कम्युनिस्टों ने हमेशा इस देश को बाँटने का काम किया है। तोड़ने का काम किया है। झूठ को, कोरे-सफेद झूठ को स्थापित किया है।

प्रचलित ख़बरें

मुस्लिम वैज्ञानिक ‘मेजर जनरल पृथ्वीराज’ और PM वाजपेयी ने रचा था इतिहास, सोनिया ने दी थी संयम की सलाह

...उसके बाद कई देशों ने प्रतिबन्ध लगाए। लेकिन वाजपेयी झुके नहीं और यही कारण है कि देश आज सुपर-पावर बनने की ओर अग्रसर है।

‘इस्लाम को रियायतों से आज खतरे में फ्रांस’: सैनिकों ने राष्ट्रपति को गृहयुद्ध के खतरे से किया आगाह

फ्रांसीसी सैनिकों के एक समूह ने राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को खुला पत्र लिखा है। इस्लाम की वजह से फ्रांस में पैदा हुए खतरों को लेकर चेताया है।

टिकरी बॉर्डर पर किसानों के टेंट में गैंगरेप: पीड़िता से योगेंद्र यादव की पत्नी ने भी की थी बात, हरियाणा जबरन ले जाने की...

1 मई को पीड़िता के पिता भी योगेंद्र यादव से मिले थे। बताया कि ये सब सिर्फ कोविड के कारण नहीं हुआ है। फिर भी चुप क्यों रहे यादव?

‘#FreePalestine’ कैम्पेन पर ट्रोल हुई स्वरा भास्कर, मोसाद के पैरोडी अकाउंट के साथ लोगों ने लिए मजे

स्वरा के ट्वीट का हवाला देते हुए @TheMossadIL ने ट्वीट किया कि अगर इस ट्वीट को स्वरा भास्कर के ट्वीट से अधिक लाइक मिलते हैं, तो वे भारतीय अभिनेत्री को एक स्पेशल ‘पॉकेट रॉकेट’ भेजेंगे।

उद्धव ठाकरे का कार्टून ट्विटर को नहीं भाया, ‘बेस्ट CM’ के लिए कार्टूनिस्ट को भेजा नोटिस

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे का कार्टून बनाने के लिए ट्विटर ने एक कार्टूनिस्ट को नोटिस भेजा है। जानिए, पूरा मामला।

‘हिंदू बम, RSS का गेमप्लान, बाबरी विध्वंस जैसा’: आज सेंट्रल विस्टा से सुलगे लिबरल जब पोखरण पर फटे थे

आज जिस तरह सेंट्रल विस्टा पर प्रोपेगेंडा किया जा रहा है, कुछ वैसा ही 1998 में परमाणु परीक्षणों पर भी हुआ था। आज निशाने पर मोदी हैं, तब वाजपेयी थे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,391FansLike
92,443FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe