Monday, July 15, 2024
Homeदेश-समाजक्राइम पेट्रोल के जिस एपिसोड को 2011 की घटना से प्रेरित बता रहा Sony...

क्राइम पेट्रोल के जिस एपिसोड को 2011 की घटना से प्रेरित बता रहा Sony TV, उसकी श्रद्धा वॉकर के टुकड़े-टुकड़े करने के केस से कई लिंक

चैनल भले इनकार कर रहा है कि उसके तथाकथित 2011 की घटना पर आधारित एपिसोड का श्रद्धा वॉकर हत्याकांड से कुछ लेना-देना नहीं है। लेकिन एपिसोड में दिखाए गए ऐसे बहुत से सीन हैं, जो आफ़ताब द्वारा श्रद्धा के शव के टुकड़े करने के दौरान की गई गतिविधि से मेल खाते हैं। ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है।

श्रद्धा वॉकर हत्याकांड (Shraddha Walker Murder) से मिलते-जुलते क्राइम पेट्रोल के एपिसोड को सोनी लिव (Sony LIV) ने हटा लिया है। साथ ही सफाई देते हुए कहा है कि यह हालिया घटना से संबंधित नहीं है। इसे 2011 की किसी घटना पर आधारित बताया है।

दरअसल सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन (SET) के क्राइम पेट्रोल नामक शो के इस एपिसोड में पीड़िता को ईसाई दिखाया गया था। उसका नाम एना फर्नांडीस रखा गया था। श्रद्धा दलित लड़की थी। वहीं श्रद्धा के टुकड़े करने वाले उसके लिव इन पाटर्नर आफताब पूनावाला को हिंदू पहचान वाला मिहिर कांचवाला बताया गया था। पीड़िता और आरोपित की धार्मिक पहचान बदलने को लेकर SET को नेटिजन्स के विरोध का सामना करना पड़ा था।

जैसे ही यह एपिसोड SET India के यूट्यूब पर प्रसारित हुआ, दर्शकों को सोनी टीवी की क्रिमिनल ड्रामा सीरीज़ ‘क्राइम पेट्रोल’ के एपिसोड और श्रद्धा वाकर की जघन्य हत्या के बीच समानता देखने को मिली। इस एपिसोड का सोशल मीडिया पर भारी विरोध होने लगा। पीड़िता और आरोपित दोनों की धार्मिक पहचान बदलने और तथ्यों से छेड़छाड़ करने के लिए लोगों ने चैनल की क्लास लगा दी। देखते ही देखते ट्विटर पर ‘बॉयकॉट सोनी टीवी’ ट्रेंड करने लगा।

लोगों की भारी नाराजगी के बाद, Sony LIV ने 2 जनवरी 2023 को ऐप से ‘क्राइम पेट्रोल’ के उक्त एपिसोड को हटा दिया। Sony LIV ने इसके साथ ही एपिसोड के बचाव में ट्विटर पर एक बयान जारी किया। चैनल ने जोर देकर कहा कि यह घटना किसी हालिया घटना से संबंधित नहीं है और 2011 में हुई किसी अन्य घटना पर आधारित है। इसके साथ ही चैनल ने कहा कि इस एपिसोड के प्रसारण से अगर किसी की भवनाएँ आहत हुई है तो वह तहेदिल से माँफी माँगते हैं।

चैनल भले इनकार कर रहा है कि उसके तथाकथित 2011 की घटना पर आधारित एपिसोड का श्रद्धा वॉकर हत्याकांड से कुछ लेना-देना नहीं है। लेकिन एपिसोड में दिखाए गए ऐसे बहुत से सीन हैं, जो आफ़ताब द्वारा श्रद्धा के शव के टुकड़े करने के दौरान की गई गतिविधि से मेल खाते हैं। ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है।

‘क्राइम पेट्रोल’ के अब हटा दिए गए एपिसोड में यह दिखाया गया था कि ‘मिहिर’ गुस्से में अपने साथी को मार डालता है। फिर उसके शरीर को कई टुकड़ों में काट देता है। फिर इसे फ्रिज में स्टोर करने से पहले कई प्लास्टिक की थैलियों में लपेटता है। ठीक ऐसे ही श्रद्धा वॉकर के मामले में हुआ था।

सोनी ने श्रद्धा हत्याकांड से मिलते-जुलते एपिसोड को ‘अहमदाबाद-पुणे’ हत्याकांड नाम से प्रसारित किया था। इसमें यह भी दिखाया गया था कि आरोपित पीड़िता के शव के कटे हुए हिस्सों को फ्रिज में रखने के बाद शराब का सेवन करता है। आरोपित को अपने साथी की हत्या करने के तुरंत बाद लाल टी-शर्ट पहने एक फूड डिलीवरी एक्जीक्यूटिव से फूड पार्सल प्राप्त करते हुए भी दिखाया गया था। श्रद्धा वॉकर हत्याकांड में सामने आई कई रिपोर्ट्स में भी ऐसी ही बातें बताई गई थी। आफताब अमीन पूनावाला ने भी पुलिस के सामने कबूल किया था कि उसने अपने लिव-इन पार्टनर के शरीर के टुकड़े-टुकड़े करने के बाद बीयर पी थी और फिर जोमैटो से खाना मँगवाया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -