Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजनिकाह करो, वरना बाप-भाई को मार देंगे… स्कूल जाने वाली हिन्दू बहनों को तमंचा...

निकाह करो, वरना बाप-भाई को मार देंगे… स्कूल जाने वाली हिन्दू बहनों को तमंचा दिखाकर धमकाता था राजुद्दीन और सलमान, इनकार करने पर फाड़े कपड़े: अलीगढ़ में FIR दर्ज

अलीगढ़ में सलमान और राजुद्दीन ने दो हिन्दू बहनों पर निकाह करने का दबाव बनाया, जब लड़कियों ने उनकी सुनवाई नहीं की तो उनकी पिटाई करके उनके कपड़े फाड़ दिए गए। वहीं लड़कियों के पिता से भी हाथापाई हुई है।

उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ जिले में ग्रूमिंग जिहाद की साजिश का मामला सामने आया है। यहाँ राजुद्दीन और सलमान नाम के 2 युवकों पर हिन्दू धर्म की 2 सगी बहनों पर निकाह का दबाव बनाने का आरोप लगा है। कहा गया है कि आरोपित लड़के दोनों बहनों को स्कूल आते-जाते समय तमंचा दिखाकर डराते थे। वहीं जब लड़कियों ने बात नहीं मानी तो पिटाई करके उनके कपड़े भी फाड़ दिए गए।

इसके अलावा पीड़ित बहनों के पिता आरोपितों के पास शिकायत लेकर गए तो उनको भी पीटा गया। फिलहाल शिकायत के आधार पर 3 आरोपित नामजद किए गए हैं जो आपस में रिश्तेदार हैं। पुलिस ने रविवार (16 जून 2024) को राजुद्दीन और सलमान को गिरफ्तार कर लिया है। तीसरे आरोपित प्रेमुद्दीन अलवी की तलाश की जा रही है।

यह मामला अलीगढ़ जिले के थानाक्षेत्र इगलास का है। यहाँ रविवार (9 जून) को पीड़ित बहनों के पिता ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत में उन्होंने बताया है कि उनकी 2 बेटियाँ पास के ही सरकारी इंटर कॉलेज में पढ़ती हैं। स्कूल के रास्ते में वेल्डिंग का काम करने वाले राजुद्दीन की दुकान है। राजुद्दीन की बुआ का बेटा सलमान भी इसी दुकान पर काम करता है।

आरोप है कि राजुद्दीन और सलमान ने दोनों बहनों को लव जिहाद में फँसाने की कोशिश की। लड़कियों ने जब उनकी नहीं सुनी तो उन्हें धमकी दी गई कि वह उनके भाई और पिता को मार देंगे।

इसके साथ ही राजुद्दीन और सलमान के पास पीड़िताओं की कुछ तस्वीरें हैं। दोनों आरोपित ये तस्वीरें सोशल मीडिया पर डाल कर लड़कियों को डरा रहे हैं और खुद से निकाह न करने पर धमकी दे रहे हैं। इन्होंने पीड़िताओं के भाई को भी एक वीडियो भेज कर धमकी दी है। दावा है कि धमकी में ये आरोपित हाथों में कट्टा (तमंचा) लहरा रहे हैं। इन धमकियों से डर कर दोनों बहनें की पढ़ाई छूटने की नौबत आ गई है। ये दोनों इस साल का एग्जाम देने भी नहीं गईं।

शिकायतकर्ता ने आगे बताया कि शुक्रवार (7 जून) को शाम 7 बजे दोनों बहनें कुछ खरीदारी करने इगलास बाजार गईं थीं। इसी दौरान राजुद्दीन और सलमान वहाँ पहुँच गए। ये दोनों पीड़िताओं को जबरदस्ती पकड़ कर दुकान के अंदर ले गए। यहाँ दोनों बहनों के साथ अश्लील हरकतें करने का प्रयास किया गया।

इस दौरान दोनों बहनों के कपड़े फट गए। थोड़ी देर बाद राजुद्दीन और सलमान दोनों बहनों को गंदी-गंदी गालियाँ व जान से मार डालने की धमकी देते हुए वहाँ से चले गए। लौटने एक दौरान दोनों ने लड़कियों को 1 मोबाइल फोन दिया और आगे से अपने सम्पर्क में रहने के लिए कहा।

डरी सहमी दोनों बहनों ने घर आ कर पूरी बात बताई। घटना सुन कर लड़कियों के पिता अपने बेटे के साथ राजुद्दीन की दुकान पर उलाहना ले कर गए। यहाँ उन्हें राजुद्दीन का भाई प्रेमुद्दीन मिला। प्रेमुद्दीन ने अपनी भाई की गलती सुनने के बजाय पीड़िताओं के परिजनों को ही धमकाना और गालियाँ देनी शुरू कर दी। उसने पीड़िताओं के भाई और पिता को पीटा। आसपास के लोग जमा हो गए तो आरोपित रुका। बाद में लोहे की एक सरिया से धमकाते हुए प्रेमुद्दीन अलवी ने पीड़ित बाप-बेटे को अपनी दुकान से भगा दिया।

आखिरकार पीड़िताओं के पिता ने पुलिस ने शिकायत दर्ज करवाई। शिकायत में उन्होंने राजुद्दीन, सलमान और प्रेमुद्दीन को नामजद करते हुए इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की माँग की है। पुलिस ने इन तीन आरोपितों पर IPC की धारा 354 (ख), 342, 504 और 506 के अलावा आईटी एक्ट के सेक्शन 67a के तहत कार्रवाई की है। ऑपइंडिया के पास FIR कॉपी मौजूद है। रविवार को पुलिस ने राजुद्दीन और सलमान को गिरफ्तार कर लिया है। मामले की जाँच व अन्य जरूरी कार्रवाई की जा रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -