Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजबच्ची का बलात्कार, फेंक आया 7 माह का भ्रूण: अल्ताफ ने अपनी बेटी की...

बच्ची का बलात्कार, फेंक आया 7 माह का भ्रूण: अल्ताफ ने अपनी बेटी की सहेली के साथ की हैवानियत, कहता था – बेटी की तरह हो, बेटी नहीं

इसी दौरान अल्ताफ पीड़िता का हाथ पकड़कर घर के अंदर ले गया और मुँह दबाकर उसका रेप किया। इस दौरान छुरा दिखाकर बोला कि अगर किसी को बताया तो 'इसी छुरे से तेरा गला काट दूँगा'। उसने परिवार को भी मारने की धमकी दी। इसके बाद पीड़िता रोती रही, लेकिन डर से किसी को कुछ बताया नहीं।

मध्य प्रदेश के विदिशा में 50 साल के आरोपित अल्ताफ ने 15 साल की नाबालिग लड़की से रेप किया और गर्भवती होने उसका गर्भपात करा दिया। उसने 7 माह के भ्रूण को फेंक आया। उसने पीड़िता को धमकी भी दी कि अगर उसने इस बारे में किसी को बताया तो वह उसकी और उसके परिवार की हत्या कर देगा।

नाबालिग डर से इस बात को छिपाए रही। हालाँकि, जब परिजनों को पता चला तो वे पीड़िता को लेकर थाने गए और वहाँ उन्होंने शिकायत दर्ज करा दी। इस दौरान आरोपित के रिश्तेदार वहाँ पहुँचकर धमकाने लगे। उन्होंने लड़की के परिजनों पर पैसे लेकर समझौता करने का दबाव बनाया।

जब पीड़ित परिवार दबाव में नहीं आया तो आरोपितों ने धमकी दी कि वे अब गाँव में नहीं रह पाएँगे। इसके बाद आरोपित का परिवार डर के साए में जीने को मजबूर है। आरोपितों की धमकी के बाद गाँव में पुलिस तैनात कर दी गई है। वहीं, इस मामले में राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग (NCPCR) ने पुलिस से जवाब भी माँगा है।

दैनिक भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़िता का गाँव की आबादी लगभग 1,000 है। इनमें मुस्लिम, कुर्मी, कोईरी समेत दलित एवं अन्य समाज के लोग रहते हैं। आसपास का पूरा इलाका मुस्लिम बाहुल्य है। इसलिए गाँव में भी मुस्लिमों का वर्चस्व रहता है। गाँव का सरपंच भी मुस्लिम है।

दुष्कर्म के आरोपित अल्ताफ के बारे में गाँव के लोगों ने बताया कि वह 4 भाई है और इनमें से 2 भाई भी महिला से जुड़े अपराधों में जेल जा चुके हैं। अल्ताफ की 4 बेटी और एक बेटा है। इनमें से 2 की शादी हो चुकी है। उसकी सबसे बेटी की उम्र भी लगभग 15 साल की है और वह पीड़िता की सहेली भी है। इतना ही नहीं, पीड़ित परिवार ने अपनी जमीन बंटाई पर आरोपित अल्ताफ को दी थी। इस वजह से उसके परिवार का घर पर आना-जाना लगा रहता था।

पीड़िता ने बताया कि अल्ताफ की बेटी की सहेली होने के कारण वह अक्सर उसके साथ अल्ताफ के घर जाती थी और अल्ताफ की बेटी भी उसके घर आती थी। करीब डेढ़ साल पहले वह घर में अकेली थी, तभी अल्ताफ वहाँ आया और कहा कि उसकी बेटी उसे बुला रही है। जब पीड़िता वहाँ पहुँची तो घर में कोई नहीं थी।

इसी दौरान अल्ताफ पीड़िता का हाथ पकड़कर घर के अंदर ले गया और मुँह दबाकर उसका रेप किया। इस दौरान छुरा दिखाकर बोला कि अगर किसी को बताया तो ‘इसी छुरे से तेरा गला काट दूँगा’। उसने परिवार को भी मारने की धमकी दी। इसके बाद पीड़िता रोती रही, लेकिन डर से किसी को कुछ बताया नहीं।

पीड़िता ने बताया कि इसके बाद से जब भी उसके घर पर कोई नहीं होता तो उसके ब्लैकमेल करके उससे रेप करता था। इसी बीच उसका उसका गर्भ ठहर गया तो आरोपित ने उसे गोलियाँ खिला दीं। पीड़िता ने बताया कि इसके बाद भी अल्ताफ ने उससे रेप करना नहीं छोड़ा। उसने मार्च में बुलाकर फिर रेप किया।

पीड़िता ने बताया कि वह अल्ताफ के आगे मिन्नत करती कि उसे छोड़ दे, वह उसकी बेटी की तरह है। इस पर अल्ताफ कहता कि बेटी की तरह हो, बेटी नहीं हो ना। वह अक्सर हत्या की धमकी देता था। अंतिम बार जब अल्ताफ ने मार्च में उसका रेप किया तो इससे तंग आ चुकी पीड़िता ने कहा कि इसके बाद गलत किया तो वह सबको बता देगी या अपनी जान दे देगी।

पीड़िता का कहना है कि इसके बाद आरोपित ने उससे दुष्कर्म नहीं किया, लेकिन उसका गर्भ एक बार फिर ठहर गया था। मई में पीड़िता ने यह बात आरोपित को बताई तो उसने कहा कि वह सब कुछ ठीक कर देगा। एक दिन जब पीड़िता के घर में कोई नहीं था तो वह पीड़िता के घर गया और गोलियाँ खिला दी। इससे गर्भपात हो गया और वह पॉलिथिन में बच्चा ले जाकर गाँव में फेंक आया।

पीड़िता ने कहा कि उससे उसकी तबीयत बिगड़ गई। वह घर में पड़ी रही। 24 सितंबर 2023 को गाँव में भ्रूण मिलने की खबर फैल गई। इसके बाद उसने अपनी माँ को सब कुछ बता दिया। इसके उसके परिजन उसे थाने लेकर गए और केस दर्ज करा दिया।

वहीं, पीड़िता की माँ ने कहा, “जिस पर हम इतना भरोसा करते थे उसी ने हमारी पीठ पर छुरा घोंप दिया। वह बेटी को जान से मारने के धमकी देता था। अल्ताफ ऐसी घिनौनी हरकत करेगा, हमने सोचा भी नहीं था।​​​​​​” वहीं, पीड़िता के भाई ने कहा कि थाने में शिकायत देते वक्त अल्ताफ का समधी और सरपंच अफशीस खान आ गया और धमकाने लगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तुमलोग वापस भारत भागो’: कनाडा में अब सांसद को ही धमकी दे रहा खालिस्तानी पन्नू, हिन्दू मंदिर पर हमले का विरोध करने पर भड़का

आर्य ने कहा है कि हमारे कनाडाई चार्टर ऑफ राइट्स में दी गई स्वतंत्रता का गलत इस्तेमाल करते हुए खालिस्तानी कनाडा की धरती में जहर बोते हुए इसे गंदा कर रहे हैं।

मुजफ्फरनगर में नेम-प्लेट लगाने वाले आदेश के समर्थन में काँवड़िए, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोले – ‘हमारा तो धर्म भ्रष्ट हो गया...

एक कावँड़िए ने कहा कि अगर नेम-प्लेट होता तो कम से कम ये तो साफ हो जाता कि जो भोजन वो कर रहे हैं, वो शाका हारी है या माँसाहारी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -