Monday, April 12, 2021
Home देश-समाज AMU के 'खिलाफत' पर वेबिनार में तुर्की की प्रोफेसर को बुलाए जाने पर बवाल:...

AMU के ‘खिलाफत’ पर वेबिनार में तुर्की की प्रोफेसर को बुलाए जाने पर बवाल: BJP नेता ने लिखा शिकायती पत्र

13 अगस्त को AMU द्वारा आयोजित वेबिनार में तुर्की की प्रोफेसर हिलाल शाहीन को आमंत्रित किया गया। इसमें वाईस चांसलर तारिक मंसूर भी शामिल हुए थे। अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय को स्पष्ट करना चाहिए कि ये वेबिनार क्यों आयोजित हुई। बीजेपी नेता ने पत्र में एएमयू के कुलपति एवं कार्यक्रम के आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई करने की मानव संसाधन मंत्रालय से माँग की है।

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में 13 अगस्त को हुए एक वेबिनार में तुर्की की गिरेसुन विश्वविद्यालय की प्रोफेसर एच हिलाल शाहीन को आमंत्रित किए जाने पर बीजेपी नेता ने ऐतराज जताया है। बीजेपी नेता ने इस संबंध में मानव संसाधन विकास मंत्रालय को एक पत्र भी लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि तुर्की से हमारे रिश्ते पहले से ही हमेशा खराब रहे हैं। वह पाकिस्तान को सपोर्ट करता रहा है।

ऐसे में 13 अगस्त को AMU द्वारा आयोजित वेबिनार में तुर्की की प्रोफेसर हिलाल शाहीन को आमंत्रित किया गया। इसमें वाईस चांसलर तारिक मंसूर भी शामिल हुए थे। अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय को स्पष्ट करना चाहिए कि ये वेबिनार क्यों आयोजित हुई। बीजेपी नेता ने पत्र में एएमयू के कुलपति एवं कार्यक्रम के आयोजकों के खिलाफ कार्रवाई करने की मानव संसाधन मंत्रालय से माँग की है।

बीजेपी नेता डॉ निशित शर्मा ने मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक को लिखे पत्र में कहा है कि दिनांक 13 अगस्त को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के शिक्षकों द्वारा एक वेबिनार का आयोजन किया गया था। जिसका विषय ‘तुर्की, भारत और महात्मा गाँधी -खिलाफत आंदोलन’ के आलोक में था। इसमें अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर तारिक मंसूर सहित कई अन्य प्रोफेसर ने भाग लिया था। 

बीजेपी नेता ने पत्र में लिखा है कि किस प्रकार तुर्की ने विभिन्न विषयों पर लगातार भारत का विरोध किया है तथा पाकिस्तान के समर्थन में रहा है। धारा 370 हटाने का भी विरोध तुर्की द्वारा अंतर्राष्ट्रीय पटल पर किया गया था। जिस विषय पर अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के अंदर वेबिनार का आयोजन हुआ वह विषय खिलाफत आंदोलन को लेकर था और यह भी सर्वविदित है कि खिलाफत आंदोलन के कारण संपूर्ण विश्व में नरसंहार की एक शृंखला प्रारंभ हो गई थी। जिसका असर भारत के मालाबार दंगों में भी देखने को मिला।

बीजेपी नेता ने पत्र में लिखा कि इस्लामी कट्टरपंथियों द्वारा गैर-इस्लामी लोगों की हत्या की गई। खिलाफत आंदोलन ही भारत के विभाजन का एक मुख्य कारण भी था। एक इस्लामिक आंदोलन पर भारत विरोधी निर्णय लेने वाले तुर्की देश की प्रोफेसर को आमंत्रित कर स्वयं अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति द्वारा एक वेबिनार की अध्यक्षता किया जाना गंभीर प्रश्न उत्पन्न करता है। निवेदन है कि विशेष संज्ञान में लें। जाँच समिति स्थापित कर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी कुलपति एवं वेबिनार के अन्य आयोजकों को दंडित करें। यह भारत की आंतरिक सुरक्षा, शैक्षणिक संस्थान में कट्टरपंथी विचारधारा के प्रभावी होने का विषय है।

बीजेपी नेता ने कहा खिलाफत आंदोलन को पुनर्जीवित करने का काम चल रहा है। खिलाफत जैसे विवादास्पद और राष्ट्र विभाजन वाले विषय को लेकर ऐसे लोगों को बुलाकर वेबिनार का आयोजन करना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण और गंभीर विषय है। AMU जैसे एक संस्था में इस तरह की गतिविधियाँ होना भी रेडिकलाइजेशन को बढ़ावा देने वाला विषय है। कहीं ना कहीं ऐसा लगता है कि खिलाफत 2.0 की तैयारी चल रही है।

इस पूरे मामले पर अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय के प्रॉक्टर डॉ मोहम्मद वसीम अली ने बताया कि 13 अगस्त को एक ऑनलाइन वेबिनार आयोजित किया गया था। इसकी स्पीकर तुर्की विश्वविद्यालय की प्रोफेसर एच हिलाल शाहीन थी। इन्हीं का मेन टॉक था। यह एक एकेडमिक प्रोग्राम था और काफी सर्च करने के बाद उनको इनवाइट किया गया, वो खिलाफत मूवमेंट की एक्सपर्ट है। जिसके बाद उन्होंने ऑनलाइन अपना लेक्चर रखा। इसका कोई राजनीतिक कनेक्शन नहीं है। ना कोई पॉलीटिकल बैकग्राउंड है।

उन्होंने आगे कहा कि गवर्नमेंट ऑफ इंडिया की ऐसी कोई एडवाइजरी नहीं है कि इस तरह का कोई प्रोग्राम में किस को बुलाना है या किस को नहीं बुलाना। कोशिश यही रहती है कि जो अच्छे वक्ता हैं उनको बुलाया जाए। डिस्कशन के लिए उसी कड़ी में मैडम को इसमें निमंत्रण दिया गया था और उन्होंने ऑनलाइन इस पर एक लेक्चर दिया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वास्तिक को बैन करने के लिए अमेरिका के मैरीलैंड में बिल पेश: हिन्दू संगठन की आपत्ति, विरोध में चलाया जा रहा कैम्पेन

अमेरिका के मैरीलैंड में हाउस बिल के माध्यम से स्वास्तिक की गलत व्याख्या की गई। उसे बैन करने के विरोध में हिंदू संगठन कैम्पेन चला रहे।

आनंद को मार डाला क्योंकि वह BJP के लिए काम करता था: कैमरे के सामने आकर प्रत्यक्षदर्शी ने बताया पश्चिम बंगाल का सच

पश्चिम बंगाल में आनंद बर्मन की हत्या पर प्रत्यक्षदर्शी ने दावा किया है कि भाजपा कार्यकर्ता होने के कारण हुई आनंद की हत्या।

बंगाल में ‘मुस्लिम तुष्टिकरण’ है ही नहीं… आरफा खानम शेरवानी ‘आँकड़े’ दे छिपा रहीं लॉबी के हार की झुँझलाहट?

प्रशांत किशोर जैसे राजनैतिक ‘जानकार’ के द्वारा मुस्लिमों के तुष्टिकरण की बात को स्वीकारने के बाद भी आरफा खानम शेरवानी ने...

सबरीमाला मंदिर खुला: विशु के लिए विशेष पूजा, राज्यपाल आरिफ मोहम्मद ने किया दर्शन

केरल स्थित भगवान अयप्पा के सबरीमाला मंदिर में विशेष पूजा का आयोजन किया गया। विशु त्योहार से पहले शनिवार को मंदिर को खोला गया।

रमजान हो या कुछ और… 5 से अधिक लोग नहीं हो सकेंगे जमा: कोरोना और लॉकडाउन पर CM योगी

कोरोना संक्रमण के बीच सीएम योगी ने प्रदेश के धार्मिक स्थलों पर 5 से अधिक लोगों के इकट्ठे होने पर लगाई रोक। रोक के अलावा...

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

प्रचलित ख़बरें

बंगाल: मतदान देने आई महिला से ‘कुल्हाड़ी वाली’ मुस्लिम औरतों ने छीना बच्चा, कहा- नहीं दिया तो मार देंगे

वीडियो में तृणमूल कॉन्ग्रेस पार्टी के नेता को उस पीड़िता को डराते हुए देखा जा सकता है। टीएमसी नेता मामले में संज्ञान लेने की बजाय महिला पर आरोप लगा रहे हैं और पुलिस अधिकारी को उस महिला को वहाँ से भगाने का निर्देश दे रहे हैं।

SHO बेटे का शव देख माँ ने तोड़ा दम, बंगाल में पीट-पीटकर कर दी गई थी हत्या: आलम सहित 3 गिरफ्तार, 7 पुलिसकर्मी भी...

बिहार पुलिस के अधिकारी अश्विनी कुमार का शव देख उनकी माँ ने भी दम तोड़ दिया। SHO की पश्चिम बंगाल में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी।

राजस्थान: छबड़ा में सांप्रदायिक हिंसा, दुकानों को फूँका; पुलिस-दमकल सब पर पत्थरबाजी

राजस्थान के बारां जिले के छाबड़ा में सांप्रदायिक हिसा के बाद कर्फ्यू लगा दिया गया गया है। चाकूबाजी की घटना के बाद स्थानीय लोगों ने...

जुमे की नमाज के बाद हिफाजत-ए-इस्लाम के कट्टरपंथियों ने हिंसा के लिए उकसाया: हमले में 12 घायल

मस्जिद के इमाम ने बताया कि उग्र लोगों ने जुमे की नमाज के बाद उनसे माइक छीना और नमाजियों को बाहर जाकर हिंसा का समर्थन करने को कहने लगे। इसी बीच नमाजियों ने उन्हें रोका तो सभी हमलावरों ने हमला बोल दिया।

‘ASI वाले ज्ञानवापी में घुस नहीं पाएँगे, आप मारे जाओगे’: काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को धमकी

ज्ञानवापी केस में काशी विश्वनाथ के पक्षकार हरिहर पांडेय को जान से मारने की धमकी मिली है। धमकी देने वाले का नाम यासीन बताया जा रहा।

केरल में मंदिर के बाहर मुस्लिम लीग का झंडा, हिंदू कार्यकर्ताओं ने शूटिंग पर जताया एतराज तो कर लिए गए गिरफ्तार

केरल में एक मंदिर के बाहर फिल्म की शूटिंग का हिंदू कार्यकर्ताओं ने विरोध किया। उन्होंने फिल्म के कुछ दृश्यों को लेकर आपत्ति जताई।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,164FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe