Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाज'शादी नहीं हुई तो सेक्स के लिए क्या करती हो?' : पाकिस्तान उच्चायोग में...

‘शादी नहीं हुई तो सेक्स के लिए क्या करती हो?’ : पाकिस्तान उच्चायोग में महिला प्रोफेसर संग बदसलूकी, वीजा देने के नाम पर कहा- भारत के खिलाफ लिखो

प्रोफेसर ने बताया कि अधिकारी उन्हें वहाँ एक अलग कमरे में ले गया और उसने पहले उनसे सामान्य प्रश्न पूछे। वह बाद में फिर उनसे निजी सवाल करने लगा। प्रोफ़ेसर ने बताया कि अधिकारी ने फिर उनसे पूछा कि उन्होंने अबतक शादी क्यों नहीं की है और वह यौन इच्छा को पूरा करने के लिए क्या करती हैं।

नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग के एक अधिकारी द्वारा पंजाब की एक महिला प्रोफ़ेसर का यौन उत्पीड़न करने का मामला सामने आया है। घटना मार्च 2022 की है। महिला प्रोफ़ेसर का कहना है कि पाकिस्तानी उच्चायोग के एक अधिकारी आसिफ ने वीजा दिलाने के बहाने उसका हाथ पकड़ा और यौन इच्छा से संबंधित सवाल पूछ कर उन्हें असुरक्षित महसूस कराया। इसके बाद जब उन्होंने बात नहीं सुनी तो उन्हें जलील भी किया गया।

महिला ने घटना के बारे में बताते हुए कहा, ”मैं मार्च 2022 में नई दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग गई थी। मुझे एक लाउंज में इंतजार करने के लिए कहा गया और फिर कुछ समय बाद, मुझे बताया गया कि वीजा नहीं दिया जा सकता क्योंकि तत्कालीन पाकिस्तान सरकार स्थिर नहीं है और प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पारित किया गया है। जब मैं ऑफिस से निकल रही थी, तो आसिफ नाम का एक व्यक्ति मेरे पास आया और वीजा दिलाने की बात कही।”

प्रोफेसर ने आगे बताया कि अधिकारी उन्हें वहाँ एक अलग कमरे में ले गया और उसने पहले उनसे सामान्य प्रश्न पूछे और उन 45 मिनटों में वह उनसे निजी सवाल करने लगा। प्रोफ़ेसर ने बताया कि अधिकारी ने फिर उनसे पूछा कि उन्होंने अबतक शादी क्यों नहीं की और वह यौन इच्छा को पूरा करने के लिए क्या करती हैं।

महिला ने आगे बताया, ”अधिकारी ने यह भी पूछा कि क्या आपके पास कोई है जिसके साथ आप सेक्स करती हैं या आपके साथ कोई है जिसके साथ आप बाहर जाती हैं। क्या आपका कोई एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर हो सकता है। मैं वहाँ से उठ गई और वीजा अधिकारी को बुलाने के लिए कहा।”

महिला ने यह भी आरोप लगाया कि अधिकारी ने बातचीत के दौरान उनका हाथ पकड़ लिया और कहा कि उनकी पर्सनैलिटी काफी अच्छी है। आसिफ ने प्रोफेसर को शादी का प्रपोजल दिया। हालाँकि जब वह नहीं मानीं तो उन्हें कहा गया कि पाकिस्तान फास्ट (बिन मर्द के पाकिस्तान जाने वाली) लड़कियों को वीजा नहीं देता।

एक रिपोर्ट के मुताबिक महिला ने विदेश मंत्री एस जयशंकर को इस बाबत चिट्ठी लिखी है और व्हाट्सअप का स्क्रीनशॉट भेजा है। विदेश मंत्रालय के अलावा यह शिकायत पाकिस्तान उच्चायोग, पाक विदेश मंत्रालय को भी दी गई है।

महिला का आरोप है कि एक दूसरे पाकिस्तानी अधिकारी ने उन्हें भारत सरकार के खिलाफ लिखने के लिए कहा था और इसके एवज में अच्छा मेहनताना देने की बात कही गई थी। हालाँकि उन्होंने इससे इनकार कर दिया। बकौल महिला वह लाहौर में गुरुद्वारा में मत्था टेकने एक विश्वविद्यालय में लेक्चर देने के लिए पाकिस्तान जाना चाहती थीं।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भिंडराँवाले के बाद कॉन्ग्रेस ने खोजा एक नया ‘संत’… तब पैसा भेजते थे, अब संसद में कर रहे खुला समर्थन: समझिए कैसे नेहरू-गाँधी परिवार...

RA&W और सेना के पूर्व अधिकारी कह चुके हैं कि कॉन्ग्रेस ने पंजाब में खिसकती जमीन वापस पाने के लिए भिंडराँवाले को पैदा किया। अब वही फॉर्मूला पार्टी अमृतपाल सिंह के साथ आजमा रही। कॉन्ग्रेस के बड़े नेता जरनैल सिंह के सामने फर्श पर बैठते थे। संजय गाँधी ने उसे 'संत' बनाया था।

‘वनवासी महिलाओं से कर रहे निकाह, 123% बढ़ी मुस्लिम आबादी’: भाजपा सांसद ने झारखंड में NRC के लिए उठाई माँग, बोले – खाली हो...

लोकसभा में बोलते हुए सांसद निशिकांत दुबे ने कहा, विपक्ष हमेशा यही बोलता रहता है संविधान खतरे में है पर सच तो ये है संविधान नहीं, इनकी राजनीति खतरे में है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -