Thursday, July 29, 2021
Homeदेश-समाजतुम हत्या करो, जमानत मैं कराऊँगा: कमलेश तिवारी के हत्यारों से आसिम अली

तुम हत्या करो, जमानत मैं कराऊँगा: कमलेश तिवारी के हत्यारों से आसिम अली

आसिम यूट्यूब पर भड़काऊ वीडियो पोस्ट करने के लिए कुख्यात था और उसका वीडियो देख कर अशफ़ाक़ और मोईनुद्दीन हत्या करने के लिए प्रेरित हुए। संदिग्ध हत्यारे पहले सोशल मीडिया और बाद में फोन के जरिए आसिम के संपर्क में रहने लगे।

कमेलश तिवारी के दोनों हत्यारों अशफ़ाक़ और मोईनुद्दीन को गुजरात एटीएस ने शामलाजी इलाक़े से धर-दबोचा, जो गुजरात-राजस्थान सीमा पर स्थित है। दोनों हत्यारों की गिरफ़्तारी से पहले सूरत से 3 साज़िशकर्ताओं को गिरफ़्तार किया गया था। बिजनौर के 2 मौलाना भी पुलिस के शिकंजे में हैं। इस मामले में एक गिरफ़्तारी महाराष्ट्र पुलिस ने भी की है। नागपुर से गिरफ़्तार आसिम अली केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के ख़िलाफ़ चुनाव भी लड़ चुका है। उसने एक वीडियो में कमलेश तिवारी की हत्या को जायज ठहराते हुए इस नृशंस कृत्य की प्रशंसा भी की थी।

कहा जा रहा है कि आसिम अली और अन्य साज़िशकर्ता सोशल मीडिया के माध्यम से ही संपर्क में आए थे। साज़िशकर्ताओं ने दोनों हत्यारों को आश्वासन दिया था कि हत्या के बाद अगर वो पकड़े भी जाते हैं तो उनका जमानत करवा दिया जाएगा। नागपुर से गिरफ़्तार किया गया सैयद आसिम सूरत के तीनों साजिशकर्ताओं फैज़ान, रशीद और शेख सलीम के लगातार संपर्क में था। हत्यारों ने सूरत में अपने साथियों को फोन कर के हत्या की सूचना दी थी, जिसके बाद आसिम को इस ख़बर से अवगत कराया गया था। आसिम ने न सिर्फ़ हत्यारों की जमानत कराने का ठेका लिया था बल्कि उसने इस हत्याकांड का पूरा ख़र्च उठाने की भी जिम्मेदारी ली थी।

जब सूरत के साजिशकर्ताओं ने आसिम को कॉल कर के इस घटना की जानकारी दी थी, तब आसिम ने उन्हें आगे की व्यवस्था सँभाल लेने का भरोसा दिलाया था। आरोपित आसिम यूट्यूब पर भड़काऊ वीडियो पोस्ट करने के लिए कुख्यात था और उसका वीडियो देख कर दोनों हत्यारे इस काण्ड को अंजाम देने के लिए प्रेरित हुए थे। इसके बाद वे दोनों आसिम से सोशल मीडिया पर बात करने लगे थे। फिर फोन पर बात होने लगी थी। आसिम ने आरोपितों को कई भड़काऊ वीडियो भेजे थे, जिससे वे हत्या के लिए प्रेरित हुए। हालाँकि, आसिम और हत्यारों की कभी मुलाक़ात हुई थी या नहीं, इसे लेकर संशय बना हुआ है।

बाकी के भी जो हत्यारों के मददगार पकड़े गए हैं, उनमें से कितनों ने अशफ़ाक़ और मोईनुद्दीन से मुलाक़ात की थी, इस बारे में पता लगाया जा रहा है। इतना साफ़ हो गया है कि सोशल मीडिया के जरिए ये लोग लगातार संपर्क में थे। आसिम अली ने पूछताछ के दौरान स्वीकारा है कि उसे पूरी साज़िश की जानकारी पहले से थी और 18 अक्टूबर को इस घटना को अंजाम दिया जाना है, यह भी उसे पता था। आसिम के बारे में पता चला है कि उसने 2 महीने पहले मुस्लिम युवाओं को मॉब लिंचिंग से बचने के लिए आत्म सुरक्षा के नाम पर लाठियाँ बाँटी थी।

वहीं, उधर कमलेश तिवारी की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट भी आ गई, जो इस हत्या की भयावहता को दिखाता है। तिवारी के सीने के बाईं तरफ चाकू से वार किए जाने की पुष्टि की गई है। इस वार से उनके शरीर में लगभग 4 सेंटीमीटर का सुराख़ हो गया था। उनके गले को 2 जगह से रेता गया। 15 बार ताबड़तोड़ चाकू मारने के बाद गोली भी मारी गई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरे देश में खेला होबे’: सभी विपक्षियों से मिलकर ममता बनर्जी का ऐलान, 2024 को बताया- ‘मोदी बनाम पूरे देश का चुनाव’

टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने विपक्ष एकजुटता पर बात करते हुए कहा, "हम 'सच्चे दिन' देखना चाहते हैं, 'अच्छे दिन' काफी देख लिए।"

कराहते केरल में बकरीद के बाद विकराल कोरोना लेकिन लिबरलों की लिस्ट में न ईद हुई सुपर स्प्रेडर, न फेल हुआ P विजयन मॉडल!

काँवड़ यात्रा के लिए जल लेने वालों की गिरफ्तारी न्यायालय के आदेश के प्रति उत्तराखंड सरकार के जिम्मेदारी पूर्ण आचरण को दर्शाती है। प्रश्न यह है कि हम ऐसे जिम्मेदारी पूर्ण आचरण की अपेक्षा केरल सरकार से किस सदी में कर सकते हैं?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,743FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe