Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजलॉकडाउन का उल्लंघन कर झारखंड से कश्मीर तक मस्जिदों में जुटे नमाजी: पुलिस पर...

लॉकडाउन का उल्लंघन कर झारखंड से कश्मीर तक मस्जिदों में जुटे नमाजी: पुलिस पर हमला, मजहबी नारे भी लगे

उत्तर प्रदेश में कई स्थानों पर लॉकडाउन का उल्लंघन कर मस्जिद में सामूहिक रूप से नमाज अदा करने के लिए लोग जुटे। बहराइच, शाहजहाँपुर में नमाजियों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया। फिरोजाबाद में घंटों मजहबी नारे लगाए।

देश के अलग-अलग राज्यों से नमाज के लिए मस्जिदों में जुटने और पुलिस पर हमले की खबरें सामने आई है। यहॉं तक कि राजधानी दिल्ली के बाजार में रमजान शुरू होते ही भीड़ देखने को मिली है। यह सब तब हो रहा है जब कोरोना वायरस संक्रमण पर काबू पाने के लिए देशभर में लॉकडाउन है।

शुक्रवार को उत्तर प्रदेश में कई स्थानों पर लॉकडाउन का उल्लंघन कर सामूहिक रूप से नमाज अदा की गई। बहराइच, शाहजहाँपुर में नमाजियों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया। फिरोजाबाद में घंटों मजहबी नारे लगाए। इसके बाद एम्बुलेंस को निशाना बनाते हुए तोड़फोड़ की गई।

बहराइच जिले के खैरीघाट थाना क्षेत्र के गाँव तेलियानपुरवा की मस्जिद के अंदर मौलवी की अगुवाई में सामूहिक रूप से जुमे की नमाज अदा की गई। इसकी जानकारी जब पुलिस को हुई तो वह तत्काल गाँव पहुँच गई। इसके बाद पुलिस टीम ने कार्रवाई करते हुए मौलवी सहित नौ नमाजियों को गिरफ्तार कर लिया।

यूपी के ही फिरोजाबाद के कई इलाकों में शुक्रवार देर रात मजहबी नारेबाजी की गई। इससे इलाके में हड़कंप मच गया। लोग अपनी-अपनी छतों पर आ गए। इस दौरान दूसरे समुदाय से भी लोग नारेबाजी करने लगे। समुदाय विशेष के लोग धार्मिक नारेबाजी करते हुए सड़कों पर जमा हो गए और देखते ही देखते जाटवपुरी चौराहे पर एंबुलेंस में तोड़फोड़ कर दी। एबुलेंस चालक आकाश यादव अपना जान बचाकर वहाँ से भागना पड़ा।

इसके बाद सूचना पर पहुँची पुलिस को हालात पर काबू पाने के लिए लाठियाँ फटकारनी पड़ीं। अमर उजाला की खबर के मुताबिक हाजीपुरा, बारहबीघा, लालपुर, तीसफुटा और रामगढ़ क्षेत्र में धार्मिक नारेबाजी की गई।

शुक्रवार रात को शाहजहांपुर के जलालाबाद थाना क्षेत्र की एक मस्जिद में लॉकडाउन का उल्लंघन करते हुए लोग इकट्ठा हो गए। जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँची। पुलिस को नमाजियों के विरोध का सामना करना पड़ा। इसके बाद पुलिस को वहाँ से भीड़ खदेड़ने के लिए लाठियाँ फटकारनी पड़ी।

झारखंड के गोड्डा में भी पुलिस पर हमला किया गया। यहॉं के रहबड़िया गॉंव की मस्जिद में शुक्रवार को 40—50 लोग जुटे थे। पुलिस मौके पर पहुॅंची तो उस पर पथराव कर दिया गया। तीन पुलिसकर्मी जख्मी हो गए और गश्ती वाहन क्षतिग्रस्त हो गया। पॉंच लोग गिरफ्तार किए गए हैं।

प्रभात खबर के गोड्डा संस्करण में प्रकाशित खबर

इसी तरह की खबर कश्मीर से भी सामने आई। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के कासबयार द्रबगाम इलाके की एक मस्जिद में नमाज अदा करने के लिए बड़ी संख्या में लोग इकट्ठा हो गए। इस बात की जानकारी जैसे ही पुलिस को हुई तो वह तत्काल मौके पर पहुँच गई और लोगों को समझाने की कोशिश की। इस पर नमाजियों ने पुलिस दल को वहाँ से भगाने के लिए उन पर पथराव करना शुरू कर दिया। इस पर काबू पाने के लिए पुलिस को अश्रु गैस के गोले दागने पड़े। इसके बाद इलाके में तनाव पैदा हो गया।

शुक्रवार को उत्तर प्रदेश के बहराइच के बोंडी थाना क्षेत्र के एक गाँव की मस्जिद में भी बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो गए थे। इसके बाद सूचना पर जब पुलिस दल मौके पर पहुँचा तो नमाजियों ने पुलिस पर ही हमला कर दिया था। पुलिस ने इस मामले में 31 नमाजियों पर हत्या के प्रयास समेत कई गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था साथ ही मौके से 23 लोगों को गिरफ्तार किया गया था।

राजधानी दिल्ली में भी शुक्रवार को रमजान की खरीदारी के लिए दिल्ली के चाँदनी चौक इलाके में मुस्लिमों की भीड़ उमड़ पड़ी। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का जमकर मजाक बनता नजर आया। आशंका जताई जा रही है कि यदि ऐसे ही हालात रहे तो आने वाले वक्त में दिल्ली की स्थिति और बदतर हो जाएगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe