Friday, September 25, 2020
Home देश-समाज 'जब कारसेवक बाबरी गिराकर निकले, तो अयोध्या दीपों से जगमगा रही थी, ऐसी दिवाली...

‘जब कारसेवक बाबरी गिराकर निकले, तो अयोध्या दीपों से जगमगा रही थी, ऐसी दिवाली कभी नहीं देखी’

"रामभक्ति का ऐसा जूनून था कि अनेक लोग देखते ही देखते प्राण गँवाकर भी कारसेवा में जुटे रहे। तुरंत सरयू तक कतारें लग गईं। हाथों-हाथ मलबा नदी तक पहुँचाया गया। हर कारसेवक को एक एक ईंट घर ले जाने के लिए सूचना मिली। शाम होते-होते..."

भगवान राम की जन्मभूमि पर सदियों से खड़ा कलंक का बाबरी ढाँचा सदा ही हिन्दुओं के स्वाभिमान को चुनौती देता रहा था। मैं 1984 में संघ का स्वयंसेवक बना। संयोग से उन्हीं दिनों श्रीराम जन्मभूमि की मुक्ति का नव आन्दोलन आरम्भ हुआ था।

1984 में ही रामलीला मैदान दिल्ली में श्रीराम जन्मभूमि आन्दोलन का एक कार्यक्रम इन्द्रप्रस्थ विश्व हिन्दू परिषद के तत्वाधान में आयोजित किया गया था। मैं स्वयंसेवक तो नया था, लेकिन एक प्रसिद्द चित्रकार के रूप में जाना जाता था। तब भी मंच सज्जा का कुछ कार्य मेरे जिम्मे लगा था।

ये जानकर आपको आश्चर्य होगा कि कार्यक्रम के निमंत्रण पत्र में आमंत्रित अथितियों की सूची में तत्कालीन इंदिरा गाँधी के मंत्रीमंडल के सदस्य बसंत साठे जी का नाम भी था। मुझे अच्छी तरह से स्मरण है कि कार्यक्रम आरम्भ हुए आधा घंटा हो चुका था, मैं भी प्रबंधको में मंच के पीछे ही था।

संघ के तत्कालीन क्षेत्रीय प्रचारक ब्रह्मदेव जी बेचैनी से टहल रहे थे। तभी उन्होंने एक साथ खड़े अधिकारी से कहा – “इंदिरा अम्मा ने मना कर दिया होगा, इसीलिए साठे जी नहीं आए।”

- विज्ञापन -

उस समय राम जन्म भूमि मुक्ति आन्दोलन के सबसे बड़े चेहरे स्वर्गीय श्री बैकुंठ लाल शर्मा प्रेम ही थे। ये मेरा सौभाग्य रहा कि उनके साथ मिलकर संघर्ष के अनेक कार्यों में सहभागी होने का अवसर मिला।

मैंने इस आन्दोलन के प्रारम्भ से ही उसके हर अवसर पर पूरी शक्ति से भाग लिया था। पहले हम नारे लगाते थे – “आगे बढ़ो जोर से बोलो, जन्मभूमि का ताला खोलो।”

इसके लिए खूब जलसे जुलूस निकाले गए। राजीव गाँधी की सरकार के समय जन्मभूमि का ताला खुल गया। फिर राम शिलाएँ एकत्र की जाने लगीं। उन्हें लेकर भी बहुत बड़े-बड़े कार्यक्रम हुए। गली गली में राम मंदिर के नारे लगते थे।

सारा मीडिया और सेकुलर दरिन्दे पूरी ताकत से भगवान राम के मुकाबले बाबर को खड़ा करने का षड्यंत्र करते रहे। मैं 1988 में प्रचारक था। हाथों में माइक लेकर अनेक स्थानों पर नुक्कड़ सभाएँ होती थीं। हिन्दू समाज की जागृति के लिए भरसक प्रयास किए।

आडवाणी जी ने रथयात्रा के माध्यम से ढोंगी सेकुलरों को कड़ा उत्तर दिया था। 1990 में कारसेवा की घोषणा हुई। देशभर से लाखों लोग अयोध्या के लिए चले। मुलायम सिंह ने हर रामभक्त कारसेवक पर भयंकर अत्याचार किए।

जेल भर दिए गए, लेकिन फिर भी निश्चित तिथि तक हजारों रामभक्त अयोध्या में पहुँच चुके थे। मुलायम सिंह ने हजारों जिहादियों को पुलिस के वेश में नियुक्त कर दिया था। रामभजन करते भक्तों पर गोलियाँ चलवाई गईं। सैकड़ों को मार दिया गया। फिर भी अनेक रामभक्तों ने मुलायम सिंह के मुख पर कालिख पोतते हुए अपने प्राणों की परवाह नहीं की और बाबरी ढाँचे पर भगवा फहरा ही दिया।

माथे पर घाव लिए लहुलुहान अशोक सिंघल जी भी अयोध्या पहुँच गए थे। कालान्तर में सरकार बदली। कल्याण सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। दिसंबर 06, 1992 को मोक्षदा एकादशी का दिन कारसेवा के लिए चुना गया।

देशभर से लाखों लोग अयोध्या जाने के लिए तैयार थे। बहुत नियोजित रूप से जत्थे बनाकर, वाहिनियाँ बनाकर उनके प्रमुख तय कर कारसेवक भेजे गए। मैं भी 1 दिसंबर को अपने यहाँ की एक वाहिनी के साथ गया।

देश के हर कोने से कारसेवक पहुँचे थे। आतंकग्रस्त कश्मीर और पंजाब से भी योद्धा हिन्दू अपने शस्त्रों के साथ पहुँचे थे। अयोध्या में नित्य ही रात को अलग-अलग स्तर पर बैठकें होती थी।

5 दिसंबर की रात तक भी कारसेवा का मार्ग प्रशस्त नहीं हुआ। सभी बहुत दुखी थे। सोचते थे कि अगर कारसेवा नहीं हुई तो क्या मुख लेकर वापस जाएँगे। अधिकारियों ने घोषणा की कि सभी कारसेवक जत्थों में सरयू तक जाएँगे और सांकेतिक रूप से एक एक मुठ्ठी रेत कारसेवा के लिए लाएँगे।

ये सब बहुत अपमानजनक सा लग रहा था। 6 दिसंबर को सुबह ही हम ढाँचे के निकट पहुँच गए, सभी गलियाँ भरी पड़ी थीं। अनेक स्वयंसेवक दंड लिए ढाँचे के चारों और खड़े थे। कलंक के ढाँचे को देखकर सभी की आँखों में आँसू थे।

उसी समय लगभग साढ़े 9 बजे आडवाणी जी वहाँ पहुँचे। आगे-पीछे ढेर सारे ब्लैक कैट एनएसजी कमांडो दौड़ते चल रहे थे। हमने सरयू से रेत लाने के स्थान पर सभा स्थल पर साध्वी ऋतंभरा जी का भाषण सुनना चुना।

अभी आचार्य धर्मेन्द्र जी का भाषण समाप्त ही हुआ था कि कुछ शोर सा उठा। सब निगाहें ढाँचे की ओर उठीं थीं। देखा तो दो जने हाथों में ध्वज लिए ढाँचे के एक गुम्बद की ओर बढ़ रहे थे।

एक क्षण में मस्तिष्क में ढेरों विचार कौंध गए। सबसे पहले, 1990 में चली गोलियाँ याद आईं। फिर स्वयं के दिए बलिदान वाले भाषण याद आए। एक क्षण में मैंने निर्णय कर लिया। मेरे साथी इतनी देर में कुछ सोचते, मैं बहुत तेजी से भागा।

ढाँचे की परिधि में जाने का द्वार दूर था। आस-पास लगभग 15 फुट ऊँची कंटीली तारे लगी थीं। हम कई जने आनन-फानन में उन्हीं पर चढ़कर परिसर में कूद गए। अभी ढाँचे के निकट बहुत कम लोग पहुँचे थे। मैंने देखा, वहाँ स्थित सुरक्षाकर्मियों पर कई कारसेवक काबू करने का प्रयास कर रहे हैं।

मैंने सोचा पहले इन सुरक्षाकर्मियों को सुरक्षित बाहर निकलने में मदद करूँ। तब तक और अनेक कारसेवक पहुँच गए। फिर तो जिसे जहाँ मौक़ा मिला, बाबरी ढाँचा ध्वस्त करना आरम्भ हो गया।

नीचे से भी तोड़ रहे थे… ऊपर से भी तोड़ रहे थे। ऊपर से छत गिरती तो नीचे और ऊपर वाले दोनों का मरना तय था। लेकिन रामभक्ति का ऐसा जूनून था कि अनेक लोग देखते ही देखते प्राण गँवाकर भी कारसेवा में जुटे रहे।

साध्वी ऋतंभरा लगातार ओजस्वी वाणी में भाषण दे रहीं थीं। मेरे लिए उस समय की मनोदशा का वर्णन करना कठिन है। शाम होते-होते तीनों ढाँचे ढह गए। अजीब उल्लास सा छा गया था।

तभी आकाश में हेलीकॉप्टर मंडराने लगे। साध्वी जी ने कहा – देखो बाबर के मरने पर ये चील कव्वे मंडरा रहे हैं। हजारों कारसेवक अयोध्या तक आने वाली सड़कों को अवरुद्ध करने में जुट गए, ताकि केंद्र से भेजे गए सुरक्षाबल ना पहुँच सकें।

फिर तुरंत सरयू तक कतारें लग गईं। हाथों-हाथ मलबा नदी तक पहुँचाया गया। हर कारसेवक को एक एक ईंट घर ले जाने के लिए सूचना मिली। शाम होते-होते चबूतरा बनना आरम्भ हो गया। राम लला विराज दिए गए। रात को जब सीढ़ियाँ बनाई जा रही थीं, मैंने भी उनमें थोड़ा योगदान दिया।

शाम ढलने के बाद जब अयोध्या की गलियों में निकले तो हर घर के बाहर दिए जले हुए थे। मानो वर्षों के बाद राम अयोध्या लौटे हों। ऐसी दिवाली कभी नहीं देखी थी। एक घर में टीवी पर सुना – नरसिंह राव इसे राष्ट्रीय शर्म बता रहे थे। शायद उसी दिन भाजपा सरकारों को हटाने की और संघ पर प्रतिबन्ध लगाने की घोषणा हो गई थी।

अब कारसेवकों को वापस भेजने की योजना बनने लगी। मेरे साथ जामिया के पास मुस्लिम बहुल क्षेत्र के सुरेश जी, और अनेक कारसेवक भी आए हुए थे। देशभर से मुस्लिमों के आक्रमण के समाचार आने आरम्भ हो गए थे।

हमने सबसे पहले ओखला वाले कारसेवकों को रात को ही रेल में चढ़ा दिया। पता चला कि रास्ते में अनेक स्थानों पर मुसलमानों ने रेल पर पथराव किया। मैं 10 दिसंबर के बाद ही दिल्ली वापस आ पाया। कोई कुछ भी कहता रहे लेकिन यह एक अकाट्य सत्य है कि स्वतन्त्र भारत का इतिहास अब दिसंबर 06, 1992 से पहले और बाद के इतिहास के रूप में जाना जाएगा।

पहली बार हिन्दुओं ने विरोधियों के सीने पर लात रख कर जूतों की ठोकर से अपने अधिकार को प्राप्त करके दिखाया था। ये स्मृति सदैव बनी रहनी चाहिए। और अब, नवम्बर 09, शनिवार 2019 को उच्चतम न्यायालय के निर्णय के साथ श्री रामजन्मभूमि पर भगवान राम के भव्य मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त हुआ और श्रीराम जन्मभूमि संघर्ष के एक बहुत बड़े अध्याय का पटाक्षेप हुआ।

जिसने भी इस संघर्ष में प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष अपना योगदान दिया, बलिदान दिया, उन सभी के चरणों में एक रामभक्त सनातनी हिन्दू के नाते मैं नमन करता हूँ। अयोध्या में भव्य श्रीरामजन्म भूमि मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करने वाले सभी लोगों के प्रति मैं ह्रदय के अंतरतम से आभार और अभिनन्दन प्रकट करता हूँ।

पिछले तीस वर्षों में मैंने एक चित्रकार के नाते भी राम मंदिर आन्दोलन के लिए हजारों ही डिजाइन बनाए। अनेकों शुभकामना पत्रों और काल-निर्णयों के भी डिजाइन बनाए। पिछले वर्ष, संवत 2075 के लिए वैदिक गणनाओं वाला एक बारह पेज का टेबल कालनिर्णय मैंने मनमोहन गुप्ता जी के सूर्य इम्प्रेशन के लिए तैयार किया था। अब जब भगवान के भव्य मंदिर का निर्माण होगा, तो उसमें मैं भी अपनी सेवाएँ प्रदान करके जीवन को धन्य बनाने का अवश्य प्रयास करूँगा।

यह लेख बलराज जी द्वारा लिखा गया है, जो कि आरएसएस में रहते हुए श्रीराम जन्मभूमि के संघर्ष के प्रत्यक्ष गवाह रह चुके हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NDTV एंकर ने किया दर्शकों को गुमराह: कपिल मिश्रा को चार्जशीट में नहीं कहा गया ‘व्हिसिल ब्लोअर’, दिल्ली पुलिस ने लगाई लताड़

दिल्ली पुलिस का दावा है कि एनडीटीवी एंकर ने सभी तथ्यों को छिपाते हुए एक कहानी रचने की शरारतपूर्ण कोशिश की है। क्योंकि चाँद बाद में पत्थरबाजी 23 फरवरी को सुबह 11 बजे शुरू हो गई थी।

मेरे घर से बम, पत्थर, एसिड नहीं मिला, जाकिर नाइक से मिलकर नहीं आया: आजतक के रिपोर्टर को कपिल मिश्रा ने लगाई लताड़, देखें...

आज तक पत्रकार से कपिल मिश्रा की इस बातचीत का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। खुद कपिल मिश्रा ने इसे शेयर किया है।

संसद के इतिहास में सबसे उत्पादक रहा यह मानसून सत्र: 10 दिन में पास हुए 25 विधेयक, उत्पादकता रही 167%

कोरोना वायरस के कारण संसद का मानसून सत्र 10 दिन में ही खत्म कर दिया गया। इससे पहले 14 सितंबर से 23 सितंबर तक बिना किसी साप्ताहिक छुट्टी के संसद में रोज कार्यवाही चली। इस बीच 25 बिल पास किए गए।

महिलाओं को समानता, फिक्स्ड टर्म रोजगार, रिस्किलिंग फंड सहित मोदी सरकार द्वारा श्रम कानून में सुधार के बाद उठ रहे 5 सवालों के जवाब

मोदी सरकार द्वारा किए गए श्रम कानून में सुधार के बाद तरह-तरह के सवाल उठ रहे हैं। इसीलिए आज हम आपको इनसे जुड़े पाँच महत्वपूर्ण सवालों का जवाब देने जा रहे हैं।

दिल्ली दंगों की प्लानिंग का वॉट्सऐप चैट, OpIndia के हाथ आए एक्सक्लुसिव सबूत से समझिए क्या हुआ 24 फरवरी को

अथर नाम का आदमी डरा हुआ है और सलाह दे रहा है कि CAA-समर्थक ग्रुप और पुलिस काफी सख्ती दिखा रही है, इसलिए नुकसान हो सकता है और...

‘ऑपरेशन दुराचारी’ के तहत यौन अपराधियों के सरेआम चौराहों पर लगेंगे पोस्टर: महिला सुरक्षा पर सख्त हुई योगी सरकार

बलात्कारियों में उन्हीं के नाम का पोस्टर छपेगा जिन्हें अदालत द्वारा दोषी करार दिया जाएगा। मिशन दुराचारी के तहत महिला पुलिसकर्मियों को जिम्मा दिया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

‘क्या आपके स्तन असली हैं? क्या मैं छू सकता हूँ?’: शर्लिन चोपड़ा ने KWAN टैलेंट एजेंसी के सह-संस्थापक पर लगाया यौन दुर्व्यवहार का आरोप

"मैं चौंक गई। कोई इतना घिनौना सवाल कैसे पूछ सकता है। चाहे असली हो या नकली, आपकी समस्या क्या है? क्या आप एक दर्जी हैं? जो आप स्पर्श करके महसूस करना चाहते हैं। नॉनसेंस।"

…भारत के ताबूत में आखिरी कील, कश्मीरी नहीं बने रहना चाहते भारतीय: फारूक अब्दुल्ला ने कहा, जो सांसद है

"इस समय कश्मीरी लोग अपने आप को न तो भारतीय समझते हैं, ना ही वे भारतीय बने रहना चाहते हैं।" - भारत के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने...

‘गिरती TRP से बौखलाए ABP पत्रकार’: रिपब्लिक टीवी के रिपोर्टर चुनाव विश्लेषक प्रदीप भंडारी को मारा थप्पड़

महाराष्ट्र के मुंबई से रिपोर्टिंग करते हुए रिपब्लिक टीवी के पत्रकार और चुनाव विश्लेषक प्रदीप भंडारी को एबीपी के पत्रकार मनोज वर्मा ने थप्पड़ जड़ दिया।

शो नहीं देखना चाहते तो उपन्यास पढ़ें या फिर टीवी कर लें बंद: ‘UPSC जिहाद’ पर सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़

'UPSC जिहाद' पर रोक को लेकर हुई सुनवाई के दौरान जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि जिनलोगों को परेशानी है, वे टीवी को नज़रअंदाज़ कर सकते हैं।

नेपाल में 2 km भीतर तक घुसा चीन, उखाड़ फेंके पिलर: स्थानीय लोग और जाँच करने गई टीम को भगाया

चीन द्वारा नेपाल की जमीन पर कब्जा करने का ताजा मामला हुमला जिले में स्थित नामखा-6 के लाप्चा गाँव का है। ये कर्णाली प्रान्त का हिस्सा है।

‘शिव भी तो लेते हैं ड्रग्स, फिल्मी सितारों ने लिया तो कौन सी बड़ी बात?’ – लेखिका का तंज, संबित पात्रा ने लताड़ा

मेघना का कहना था कि जब हिन्दुओं के भगवान ड्रग्स लेते हैं तो फिर बॉलीवुड सेलेब्स के लेने में कौन सी बड़ी बात हो गई? संबित पात्रा ने इसे घृणित करार दिया।

शिवसेना बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़ के खिलाफ चाहती है FIR: ममता सरकार के अपमान को लेकर की कार्रवाई की माँग

धार्मिक कार्ड खेलते हुए शिवसेना नेता ने कहा कि राज्यपाल द्वारा दिए गए कई बयानों से बंगालियों और बंगाल की संस्कृति का अपमान हो रहा है।

बच्ची की ऑनलाइन प्रताड़ना केस में जुबैर के साथ खड़े AltNews के प्रतीक सिन्हा से NCPCR ने माँगे सबूत, कहा- आयोग के सामने पेश...

जुबैर को लेकर सिन्हा के दावों का सबूत राष्ट्रीय बाल अधिकार एवं संरक्षण आयोग ने उनसे माँगा है। आयोग ने उन्हें सभी सबूतों के साथ पेश होने के लिए कहा है।

CM उद्धव ठाकरे के मेडिकल असिस्टेंस सेल के चीफ कोरोना से बढ़ती मौतों के बारे में बताते हुए रोते बिलखते आए नजर, वीडियो वायरल

सोशल मीडिया पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के मेडिकल असिस्टेंस सेल के प्रमुख ओम प्रकाश शेटे का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में शेटे राज्य में कोरोनावायरस महामारी की स्थिति के बारे में मीडिया से बात करते हुए रोते बिलखते हुए नजर आ रहे है।

NDTV एंकर ने किया दर्शकों को गुमराह: कपिल मिश्रा को चार्जशीट में नहीं कहा गया ‘व्हिसिल ब्लोअर’, दिल्ली पुलिस ने लगाई लताड़

दिल्ली पुलिस का दावा है कि एनडीटीवी एंकर ने सभी तथ्यों को छिपाते हुए एक कहानी रचने की शरारतपूर्ण कोशिश की है। क्योंकि चाँद बाद में पत्थरबाजी 23 फरवरी को सुबह 11 बजे शुरू हो गई थी।

मेरे घर से बम, पत्थर, एसिड नहीं मिला, जाकिर नाइक से मिलकर नहीं आया: आजतक के रिपोर्टर को कपिल मिश्रा ने लगाई लताड़, देखें...

आज तक पत्रकार से कपिल मिश्रा की इस बातचीत का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है। खुद कपिल मिश्रा ने इसे शेयर किया है।

कश्मीर उच्च न्यायालय के वकील बाबर कादरी को आतंकियों ने गोली से भूना: दो दिन पहले ही जताई थी हत्या की आशंका

आतंकवादियों ने श्रीनगर में कश्मीर उच्च न्यायालय के अधिवक्ता बाबर कादरी की गोली मार कर हत्या कर दी। कादरी श्रीनगर के हवाल इलाके में थे, जब आतंकियों ने पॉइंट ब्लैंक रेंज से उनपर गोलियों की बौछार कर दी।

बेंगलुरु दंगा मामले में NIA ने 30 जगहों पर की छापेमारी: मुख्य साजिशकर्ता सादिक अली गिरफ्तार, आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त

बेंगलुरु हिंसा मामले में एनआईए ने दंगे के मुख्य साजिशकर्ता सयैद सादिक़ अली को गिरफ्तार कर लिया है। पिछले महीने डीजे हल्ली और केजी हल्ली क्षेत्रों में हुई हिंसा के संबंध में NIA ने बेंगलुरु के 30 स्थानों पर छापेमारी की थी।

संसद के इतिहास में सबसे उत्पादक रहा यह मानसून सत्र: 10 दिन में पास हुए 25 विधेयक, उत्पादकता रही 167%

कोरोना वायरस के कारण संसद का मानसून सत्र 10 दिन में ही खत्म कर दिया गया। इससे पहले 14 सितंबर से 23 सितंबर तक बिना किसी साप्ताहिक छुट्टी के संसद में रोज कार्यवाही चली। इस बीच 25 बिल पास किए गए।

महिलाओं को समानता, फिक्स्ड टर्म रोजगार, रिस्किलिंग फंड सहित मोदी सरकार द्वारा श्रम कानून में सुधार के बाद उठ रहे 5 सवालों के जवाब

मोदी सरकार द्वारा किए गए श्रम कानून में सुधार के बाद तरह-तरह के सवाल उठ रहे हैं। इसीलिए आज हम आपको इनसे जुड़े पाँच महत्वपूर्ण सवालों का जवाब देने जा रहे हैं।

आंध्र प्रदेश में 6 हिंदू मंदिरों पर हुए हमले, क्या यह सब जगन रेड्डी सरकार की मर्जी से हो रहा: TDP नेता ने लगाए...

राज्य में हाल ही में हिंदू मंदिरों पर हमले की घटनाएँ बढ़ रही हैं। अभी कुछ दिन पहले कृष्णा जिले के वत्सवई मंडल में मककपेटा गाँव में ऐतिहासिक काशी विश्वेश्वर स्वामी मंदिर के अंदर नंदी की मूर्ति को कुछ बदमाशों ने खंडित कर दिया था।

हमसे जुड़ें

264,935FansLike
78,022FollowersFollow
323,000SubscribersSubscribe
Advertisements