Friday, August 6, 2021
Homeदेश-समाजPM मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी: गायक मेनुल एहसान पर FIR, टैगोर पर भी कर...

PM मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी: गायक मेनुल एहसान पर FIR, टैगोर पर भी कर चुका है विवादित कमेंट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ बोलने से पहले मेनुल एहसान ने पिछले साल रवीन्द्रनाथ टैगोर पर भी आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। कहा था कि रवीन्द्रनाथ टैगोर द्वारा लिखा गया गीत बांग्लादेशी राष्ट्रगान बनने के लायक नहीं है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM MODI) को लेकर सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में त्रिपुरा पुलिस ने बांग्लादेशी गायक मेनुल एहसान नोबल (Mainul Ahsan Noble) पर FIR दर्ज की है।

FIR गुजरात के गाँधीनगर की पंडित दीनदयाल पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले छात्र सुमन पॉल की शिकायत पर दर्ज की गई है। सुमन ने बेलोनिया थाने में 25 मई को शिकायत दी थी।

मैनुल के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज कराने के बाद सुमन ने इसकी जानकारी ट्विटर पर दी। उन्होंने बताया, “आज मैंने मेनुल एहसाननोबल के ख़िलाफ़ एफआईआर दर्ज करवाई है। मैं भारतीय उच्चायुक्त से अनुरोध करता हूँ कि उसका वीजा निरस्त किया जाए। उसके साथ सभी बिजनेस कॉन्ट्रेक्ट कैंसल कर दिए जाएँताकि वह दोबारा भारत न आ सके।”

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार सुमन ने बताया, “इस गायक को हमेशा से अपने देश में खारिज ही किया गया। ये हमारे देश में आया। भारत में प्रसिद्धि अर्जित की और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अपमान करते हुए बांग्लादेश लौट गया। मैं उसके इस बर्ताव को स्वीकार नहीं कर सकता। इसलिए, मैंने उसके खिलाफ शिकायत दर्ज की है।”

त्रिपुरा पुलिस के साइबर अपराध सेल, दक्षिण त्रिपुरा के पुलिस अधीक्षक जल सिंह मीणा के मुताबिक, मेनुल के ख़िलाफ़ FIR, आईपीसी की धारा 500, 504, 505 और धारा 153 के तहत दर्ज की गई है।

रिपोर्ट की मानें तो अधिकारियों का कहना है, “ये मामला साइबर क्राइम सेल को फॉरवर्ड कर दिया गया है। हम उनके साथ लगातार संपर्क में बने हुए हैं। आगे की कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। हालाँकि, ये मामला इंडियन साइबर स्पेस में नहीं है। फिर भी हमने की इसकी जाँच शुरू कर दी है।”

पिछले साल मेनुल ने जी बांग्ला म्यूजिक (ZEE Bangla Music) पर आने वाले शो ‘सारेगामापा’ में तीसरा स्थान प्राप्त किया था। इसके अलावा वह पिछले साल एक कॉन्सर्ट के लिए अगरतला भी गया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ख़िलाफ़ बोलने से पहले मेनुल ने पिछले साल रवीन्द्रनाथ टैगोर पर भी आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। कहा था कि रवीन्द्रनाथ टैगोर द्वारा लिखा गया गीत बांग्लादेशी राष्ट्रगान बनने के लायक नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पाकिस्तान में गणेश मंदिर तोड़ने पर भारत सख्त, सालभर में 7 मंदिर बन चुके हैं इस्लामी कट्टरपंथियों का निशाना

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में मंदिर तोड़े जाने के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान के शीर्ष राजनयिक को तलब किया है।

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,173FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe