Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजहिन्दू बन कर चोरी करने वाला नसीम रंगे हाथों धराया, भीड़ ने पिटाई के...

हिन्दू बन कर चोरी करने वाला नसीम रंगे हाथों धराया, भीड़ ने पिटाई के बाद पुलिस को सौंपा

जिस कॉलोनी में यह घटना हुई, वहाँ आए दिन चोरी की वारदातें होती रहती हैं। उक्त चोर का असली नाम नसीम अंसारी है, जो तिवारी के घर में दीवार फाँद कर घुसने की कोशिश कर रहा था।

झारखण्ड के धनबाद में एक बंगाली मुस्लिम चोर धरा गया है, जो हिन्दू नाम रख कर वहाँ रह रहा था। उसे रंगे हाथों पकड़ा गया। ये घटना झारखंड के धनबाद जिले के चिरकुंडा स्थित तालडंगा हाउसिंग कॉलोनी की है, जहाँ उसे पकड़ा गया। चोरी करते हुए पकड़े जाने के बाद भीड़ ने उसकी पिटाई की। पूछने पर उसने अपना नाम राजू बताया। दैनिक जागरण में प्रकाशित ख़बर के अनुसार, वह हिन्दू नाम रख कर चोरी किया करता था। वह हिन्दू बन कर कल्पनाथ तिवारी के घर में चोरी कर रहा था।

जनता ने चोर की पिटाई करने के बाद उसे पुलिस के हवाले कर दिया। जिस कॉलोनी में यह घटना हुई, वहाँ आए दिन चोरी की वारदातें होती रहती हैं। उक्त चोर का असली नाम नसीम अंसारी है, जो तिवारी के घर में दीवार फाँद कर घुसने की कोशिश कर रहा था। जब लोगों की उस पर नज़र पड़ी तो हंगामा मच गया और लोगों ने उसे पकड़ लिया।

पिटाई शुरू होते ही चोर ने माफ़ी माँगनी शुरू कर दी। वह अपना नाम राजू बताता रहा। पुलिस ने बताया कि गिरफ़्तार चोर शातिर है और वह अपने साथी का नाम नहीं बता रहा है। जब भीड़ ने उसे खदेड़ना शुरू किया, तब वह दुर्गा मंदिर की ओर भागा। वह चोरी के आरोप में पहले भी जेल जा चुका है, ऐसा उसने स्वीकार किया है। गिरफ़्तार चोर के पास से एक मोबाइल फोन भी बरामद हुआ है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

चौटाला से मिल नीतीश पहुँचे पटना, कुशवाहा ने बता दिया ‘पीएम मैटेरियल’, बीजेपी बोली- अगले 10 साल तक वैकेंसी नहीं

कुशवाहा के बयान पर पलटवार करते हुए भाजपा नेता सम्राट चौधरी ने कहा कि अगले दस साल तक प्रधानमंत्री पद के लिए कोई वैकेंसी नहीं हैं

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe