Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाजबाँका जिले के मदरसे से 4 देशी कट्टा, 8 गोली बरामद, संचालक मोहम्मद फजरुद्दीन...

बाँका जिले के मदरसे से 4 देशी कट्टा, 8 गोली बरामद, संचालक मोहम्मद फजरुद्दीन ने कहा- ‘मुझे फँसाया गया’

इस मदरसे के संचालक मोहम्मद फजरुद्दीन हैं। फजरुद्दीन इससे पहले महादेव एन्क्लेव बालू घाट के मुंशी थे। हथियारों की बरामदगी को उन्होंने अपने खिलाफ बालू माफियाओं की साजिश कहा है।

बिहार के बाँका जिले में एक मदरसे से अवैध हथियार बरामद हुए हैं। पुलिस ने सूचना के आधार पर छापेमारी की और 4 देशी कट्टा और 8 कारतूस बरामद किया। इस मदरसे का नाम जामिया अरबिया तालीमुल कुरान है। यह बाँका जिले के धोरैया थानाक्षेत्र में सन्हौला-धोरैया मुख्य मार्ग पर स्थित है। पुलिस ने इस मामले में केस दर्ज करके जाँच शुरू कर दी है। यह बरामदगी 6 नवम्बर 2021 (शनिवार) को हुई है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार धोरैया थानाध्यक्ष महेश्वर प्रसाद राय ने यह छापेमारी एक गुप्त सूचना के आधार पर की। हथियारों की सूचना मदरसे में जानवरों के चारे रखने वाले कमरे में होने की थी। हथियार भूसे के बोरे के नीचे छिपा कर रखे गए थे। इस मदरसे के संचालक मोहम्मद फजरुद्दीन हैं। फजरुद्दीन इससे पहले महादेव एन्क्लेव बालू घाट के मुंशी थे। हथियारों की बरामदगी को उन्होंने अपने खिलाफ बालू माफियाओं की साजिश कहा है।

एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार मदरसे के अंदर ही एक मस्जिद भी है। बताया जा रहा है कि मदरसा अभी रजिस्टर्ड भी नहीं है। मदरसे में उर्दू और अरबी की पढ़ाई कराई जाती है। छापेमारी के दो दिन पूर्व ही शोएब अख्तर नाम के एक टीचर ने वहाँ हेड टीचर के तौर पर ज्वाइन किया था। फ़िलहाल मदरसे में कुल 10 छात्र ही पढ़ाई कर रहे हैं। छात्रों की संख्या कम होने की वजह मदरसा संचालक ने कोरोना को बताया है।

बताया जा रहा है कि मदरसे में गाँव के कुछ लोग नमाज़ अदा करने आते हैं। ऐसे में हथियार किसने रखे इस पर गहनता से जाँच की जा रही है। इसी के साथ सूचना देने वाले से भी जानकारी ली जा रही है। यह मदरसा गेरुआ नदी के किनारे बना हुआ है। यहाँ पास में ही बालू के कारोबार से जुड़े लोगों का भी आना जाना लगा रहता है।

इस मामले में ऑपइंडिया ने पुलिस अधीक्षक बाँका से बात की। उन्होंने बताया कि फ़िलहाल अभी कोई गिरफ्तारी नहीं की गई है। हम हर बिंदु पर जाँच करा रहे हैं। जाँच पूरी होने पर वास्तविक दोषी के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। कुछ मीडिया संस्थानों द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट में उल्लेखित “हथियार मदरसा कैम्पस के बाहर एक झोपडी में मिलने” की खबर का भी उन्होंने खंडन किया। SP बाँका के अनुसार हथियार मदरसे के कैम्पस से ही बरामद किए गए हैं।

इससे पहले जून 2021 में बाँका जिले के मदरसे में विस्फोट हुआ था। यह मदरसा नवटोलिया क्षेत्र में नूरी मस्जिद परिसर में बना हुआ था। इस विस्फोट में आस-पास का इलाका थर्रा गया था और मदरसा पूरी तरह जमींदोज हो गया था। विस्फोट के फलस्वरूप मौलाना अब्दुल मोबीन की मौत दम घुटने से हो गई थी। यह मदरसा भी बिना रजिस्ट्रेशन चलाया जा रहा था। विस्फोट के बाद भाजपा विधायक हरिभूषण ठाकुर ने मदरसों पर सवाल खड़े किए थे। तब उन्होंने इसे भारत के इस्लामीकरण की साजिश बताया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -