Saturday, July 20, 2024
Homeदेश-समाज'बहन' को विदा करवाकर ससुराल ले गया 'भाईजान' अंगूर आलम, खुद ही मनाने लगा...

‘बहन’ को विदा करवाकर ससुराल ले गया ‘भाईजान’ अंगूर आलम, खुद ही मनाने लगा सुहागरात; घरवालों की नजर पड़ी तो हो गया बवाल 

लोगों ने अंगूर आलम की जमकर पिटाई कर दी। इस मामले पर जमकर बवाल हुआ। ग्रामीणों ने आशिक अंगूर आलम की पिटाई करने के बाद उस युवक का सिर भी मुंडवा दिया।

बिहार के पश्चिमी चंपारण में एक आशिक अपनी प्रेमिका की निकाह होने के बाद भाईजान बनकर उसके साथ ससुराल पहुँचा और फिर रात को खुद ही सुहागरात मनाने लगा जिससे ससुराल वालों का पारा हाई हो गया। घटना बेतिया के नौतन थाना क्षेत्र के कुंजलहीं गाँव की है।

क्या है पूरा मामला

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, नौतन थाना क्षेत्र के कुंजलहीं गाँव के शेखावत हवारी के बेटे मुश्ताक हवारी की 30 अक्टूबर, 2023 को अमवा मंझार निवासी शख्स की बेटी के साथ शादी जरीना खातून (बदला हुआ नाम) से तय हुई थी। बारात समय पर कुंजलहीं गाँव पहुँची। जिसके बाद निकाह की रस्म निभाई गई। 

लेकिन मामले में नया मोड़ तब आया जब इस निकाह में आया हुआ दुल्हन का आशिक अंगूर आलम विदाई के समय भाईजान बनकर अपनी प्रेमिका के साथ उसके ससुराल पहुँच गया। प्रेमिका के ससुराल पहुँचे  आशिक अंगूर आलम ने रात में अपनी प्रेमिका के कमरे में सोने की जिद की।

ससुराल वाले भी दुल्हन का भाई समझकर बात मान गए। लेकिन किसी ने दोनों को उस कमरे में आपत्तिजनक हालत में सुहागरात मनाते देख लिया। फिर क्या था, लोगों ने अंगूर आलम की जमकर पिटाई कर दी। इस मामले पर जमकर बवाल हुआ। ग्रामीणों ने आशिक अंगूर आलम की पिटाई करने के बाद उस युवक का सिर भी मुंडवा दिया।

प्रेमिका की जिद के चलते पंचायत ने लिया यह फैसला

आपत्तिजनक हालात में आशिक के साथ पकड़े जाने के बाद भी नाराजगी जताते हुए लड़की ने अपने परिजनों को फोन करके आशिक के साथ रहने की जिद करने लगी। दोनों पहले से ही मुहब्बत करते थे लेकिन परिजनों ने जरीना का निकाह कहीं और कर दिया। मामला बढ़ता देख खंड्डा पंचायत के वरिष्ठ सदस्यों की पंचायत बुलाई गई। जहाँ पंचों की उपस्थिति में दूल्हा-दुल्हन और उनके परिजनों से बात करके मामले लड़की को भाई बनकर आए उसके आशिक अंगूर आलम के साथ भेज दिया गया। 

दुल्हन के इस निकाह से साफ इनकार करने पर पंचों ने दोनों पक्षों के बीच कागजाती प्रक्रिया को पूरा कर दुल्हन को उसके माता-पिता और आशिक अंगूर आलम के साथ लौटा दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -