Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजबिहार के इस्लामिया कॉलेज ने लड़के-लड़कियों के साथ बैठने, बात करने और हँसने पर...

बिहार के इस्लामिया कॉलेज ने लड़के-लड़कियों के साथ बैठने, बात करने और हँसने पर लगाई पाबंदी, बॉयफ्रेंड के लिए बुर्का फाइट का Video हुआ था वायरल

"कॉलेज में छात्र-छात्राएँ अक्सर एक साथ बैठते और बातचीत करते हैं, जो कॉलेज में अनुशासन को बिगाड़ रहा है। इसलिए, कॉलेज में लड़कियों और लड़कों के साथ बैठने और बातचीत करने पर पाबंदी लगा दी गई है।"

सीवान के जेडए इस्लामिया कॉलेज (ZA Islamia College of Siwan) ने छात्र-छात्राओं के साथ बैठने पर पाबंदी लगा दी है। बातचीत करने और साथ हँसने पर भी बैन लगाया गया है। इस कॉलेज की बुर्का वाली छात्राओं का बॉयफ्रेंड के लिए लड़ाई करने का वीडियो हाल ही में वायरल हुआ था।

सीवान का इस्लामिया कॉलेज बिहार के जयप्रकाश विश्वविद्यालय से संबंधित है। कॉलेज ने लड़कियों और लड़कों के साथ बैठने और बातचीत करने पर पाबंदी को लेकर नोटिस जारी किया है। कॉलेज प्रशासन का कहना है कि यह कदम कॉलेज में अनुशासन कायम करने के लिए उठाया गया है।

कॉलेज के प्राचार्य के द्वारा जारी पत्र में कहा गया है, “कॉलेज में छात्र-छात्राएँ अक्सर एक साथ बैठते और बातचीत करते हैं, जो कॉलेज में अनुशासन को बिगाड़ रहा है। इसलिए, कॉलेज में लड़कियों और लड़कों के साथ बैठने और बातचीत करने पर पाबंदी लगा दी गई है।” कॉलेज द्वारा जारी आदेश के मुताबिक, कक्षा खत्म होने के बाद छात्र-छात्राएँ एक साथ बैठकर पढ़ाई एवं बातचीत नहीं कर सकते हैं। यही नहीं, साथ में हँसी-मजाक पर भी बैन लगाया गया है। अगर कोई ऐसा करता पकड़ा जाएगा, तो उसका नाम कॉलेज से काट दिया जाएगा।

अल्पसंख्यक कॉलेज, नियम बनाने का संवैधानिक हक

हैरान करने वाली ये है कि इस नोटिस में संविधान की धारा 29 और 30 का भी जिक्र किया गया है। प्राचार्य के आदेश से जारी नोटिस में संविधान की धारा 29 एवं 30 का हवाला देते हुए कहा गया है कि यह एक अल्पसंख्यक महाविद्यालय है और इससे जुड़े फैसले लेने का हक कॉलेज प्रशासन के पास है। इस मामले में कोई हस्तक्षेप नहीं किया जा सकता है।

इस्लामिया कॉलेज प्रशासन की सफाई

इस नोटिस के बारे में मीडिया वालों के सवाल का जवाब देते हुए प्रिंसिपल मोहम्मद इदरिस आलम ने कहा कि कॉलेज में ‘शरारती तत्व’ आते हैं। वे यहाँ की लड़कियों से बातचीत करते हैं। हँसी-मजाक होता है। इसे ही रोकने के लिए ये पत्र जारी किया गया है, ताकि बाहर के लोग कॉलेज में न घुसें और कॉलेज का अनुशासन बना रहे।

बॉयफ्रेंड के लिए बुर्के में लड़ाई का वीडियो हुआ था वायरल

बता दें कि कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हुआ था। इसमने बुर्का पहने कुछ लड़कियाँ मारपीट कर रही थी। ये लड़कियाँ इसी इस्लामिया कॉलेज का था। कथित तौर पर वीडियो में मारपीट करते दिख रही लड़कियों के बीच बॉयफ्रेंड को लेकर पहले क्लास में झगड़ा हुआ। बाद में कॉलेज बंद होने पर दोनों सड़क पर फिर से उसी बात पर झगड़ने लगी। इस दौरान दोनों के बीच लात-घूँसे चले।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -