Monday, June 17, 2024
Homeदेश-समाजसाँस नली कटी हुई, सर पर कट, गले पर वार, कंधा हड्डी तक कटा...

साँस नली कटी हुई, सर पर कट, गले पर वार, कंधा हड्डी तक कटा हुआ: पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट खौफनाक, हाथ-उँगलियों के निशान बता रहे हिंदू बच्चों के साहस-संघर्ष

आयुष के शरीर पर 14 जगहों पर काटने के निशान मिले हैं, तो हत्यारे साजिद ने 8 साल के आहान पर 9 जगहों पर काटा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है।

बदायूँ में आयुष और आहान मर्डर केस की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है। ये रिपोर्ट बताती है कि बच्चों को किस खौफनाक तरीके से मारा गया। हत्यारों ने आयुष और आहान का गला रेतने के साथ ही 23 वार और भी किए। आयुष के शरीर पर 14 जगहों पर काटने के निशान मिले हैं, जो ये बताता है कि आयुष ने खुद को बचाने के लिए कितना संघर्ष किया है। दोनों बच्चों का पोस्टमार्टम 20 तारीख की सुबह के समय किया गया। वहीं, हत्यारे साजिद का भी पोस्टमार्टम कर दिया गया, जिसके शरीर में गोलियों के तीन निशान मिले हैं।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, हत्यारे साजिद ने तीनों बच्चों आयुष (13 वर्ष), युवराज (10 वर्ष) और आहान (8 वर्ष) को के गले पर वार किया। इस बीच युवराज घायल अवस्था में ही बचकर भाग निकला, लेकिन जबतक लोग मदद के लिए पहुँच पाते, उसने आयुष और आहान को मार डाला। आयुष के शरीर पर 14 जगहों पर काटने के निशान मिले हैं, तो हत्यारे साजिद ने 8 साल के आहान पर 9 जगहों पर काटा है। गला रेतने के साथ ही उसके गले को पीछे से भी काटा गया है, तो कान के ऊपर भी पीछे की तरफ चाकू घोंपा गया है। जो ये बताता है कि हत्यारे साजिद ने इनकी जान लेने के दौरान कोई बर्बरता नहीं छोड़ी।

इस हत्याकांड के समय सबसे बड़े बच्चे आयुष ने जमकर संघर्ष भी किया है। मीडिया रिपोर्ट्स ये बताती हैं कि हत्या की जगह दीवारों तक पर खून फैला मिला और बच्चों के उंगलियों के निशान भी मिले। क्योंकि आयुष ने गला कटने के बाद भी संघर्ष जारी रखा, जिसके बाद उसके हाथ पर, कंधे पर, सीने पर, गले पर पीछे से, उंगलियों पर, कलाई पर वार किया गया। उसके शरीर पर 2 सेमी से लेकर 7 सेमी गहरे घाव मिले हैं, जबकि गले को पाँच सेमी की गहराई तक 15 सेमी तक के कट लगे हैं। पोस्ट मार्टम रिपोर्ट बताती है कि आयुष के साथ किस तरह की जघन्यता बरती गई।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, शरीर पर 14 जगहों पर घाव के निशान मिले हैं। कुछ निशान एक वार के हैं, तो कुछ की चौड़ाई इतनी ज्यादा है कि वो एक वार के दिखते नहीं। इस रिपोर्ट के मुताबिक…

पहला निशान: सामने से गले पर 15cmx5cm का सबसे बड़ा घाव, जिसकी वजह से गले से जुड़े कई अंग कट गए। स्वास नली भी छतिग्रस्त। ये घाव वैसे ही है, जैसे कसाई किसी जानवर को जिबह करता है।

दूसरा निशान : दाहिने कंधे पर पीछे की तरफ 6cm x 1cm का घाव। माँसपेशियों की गहराई तक।

तीसरा निशान: दाहिने कंधे के जोड़ पर 7cm गहरा और 4cm चौड़ा हड्डियों के अंदर तक घाव, मानों यहाँ कई वार हुए हों।

चौथा घाव : दाहिने हाथ पर ऊपर की तरफ की घाव, माँसपेशियों के अंदर तक।

पाँचवाँ घाव : दाहिनी कलाई से थोड़ा ऊपर बाहर की तरफ 4cm x 2cm का घाव

छठाँ निशान : दाहिनी कलाई में अंदर नीचे की तरफ से 5cm x 3cm का घाव, जो कलाई को हाथ से जोड़ता है, वहाँ पर माँसपेशियों के अंदर तक।

इसी तरह से सातवाँ घाव भी हाथ पर हुआ है, जिसमें निचली हथेली पर 4cm का घाव मिला है। आठवाँ वार दाहिने हाथ की अनामिका उंगली (रिंग फिंगर) पर, जो 2 सेमी गहरा है। नौंवाँ वार बाएँ हाथ के बीच की ऊंगली पर, लगभग ये उंगली भी कट चुकी है। दसवाँ वार बाएँ हाथ की हथेली पर हुआ है, अंदर हड्डियों की गहराई तक घाव हुआ।

11वाँ वार बाएँ कंधे पर अंदर की माँस पेशियों तक हुआ है, जो 6cm गहरा है।

12वाँ वार बाएँ कान के नीचे हड्डियों तक 3सेमी गहरा घाव मिला है।

13वाँ निशान 6cm गहरा और 1.5cm चौड़ा है, जो सिर में पीछे की तरफ है।

चौदहवाँ निशान दाहिने फेफड़े में पीछे की तरफ से 6cm x 4cm के बड़े घाव के रूप में मिला है, जिसमें चाकू अंदर की माँसपेशियों तक चला गया।

आयुष की पोस्टमार्टम रिपोर्ट

बरेली से गिरफ्तार हुआ जावेद

उत्तर प्रदेश के बदायूँ में दो हिन्दू बच्चों की हत्या के मामले में फरार जावेद को बरेली से गिरफ्तार कर लिया गया है। जावेद पर यूपी पुलिस ने ₹25,000 का इनाम रखा था। उसकी एक वीडियो भी सामने आई है, जो उसने एक ऑटो में बनाई है। उसने बताया है कि वह हत्या के बाद दिल्ली भाग गया था। हत्या करने वाला जावेद का भाई साजिद पहले ही पुलिस एनकाउंटर में मारा जा चुका है। पुलिस में इस विषय दर्ज करवाई गई FIR के अनुसार, जावेद साजिद के साथ बाइक पर आया था और उसने एक बच्चे पर हमला भी किया। हालाँकि, अभी पुलिस जावेद से पूछताछ कर रही है और अब इस मामले में आगे खुलासा होगा।

गौरतलब है कि 19 मार्च, 2024 की शाम को बदायूँ में नाई की दुकान चलाने वाले साजिद ने दो हिन्दू बच्चों आयुष और अहान की छुरी से रेत कर हत्या कर दी थी। साजिद यह हत्या करके फरार हो गया था। यूपी पुलिस ने साजिद को उसी दिन मुठभेड़ में मार गिराया था। घटना के दौरान मौजूद रहा साजिद का भाई जावेद फरार था। पुलिस की टीमें उसकी तलाश में दबिश दे रही थी। जावेद पर पुलिस ने ₹25,000 का इनाम भी घोषित किया था। हालाँकि वो बरेली से पकड़ा जा चुका है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ऋषिकेश AIIMS में भर्ती अपनी माँ से मिलने पहुँचे CM योगी आदित्यनाथ, रुद्रप्रयाग हादसे के पीड़ितों को भी नहीं भूले

उत्तराखंड के ऋषिकेश से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित यमकेश्वर प्रखंड का पंचूर गाँव में ही योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -