Tuesday, October 27, 2020
Home देश-समाज मध्य प्रदेश के 2 मिशनरी संस्थाओं को दी मान्यता: CARA सीईओ रहे दीपक और...

मध्य प्रदेश के 2 मिशनरी संस्थाओं को दी मान्यता: CARA सीईओ रहे दीपक और हनीट्रैप में फँसे अधिकारियों की जुगलबंदी

विभाग ने मान्यता देने के पहले इन संस्थाओं के कामकाज पर उठते रहे सवालों को दरकिनार कर दिया था। मुख्यमंत्री कार्यालय में इन संस्थाओं को लेकर बच्चों और गरीब परिवारों के धर्मांतरण की शिकायतें आने के बाद एक जाँच भी शुरू हुई थी।

हमने एक के बाद एक ख़बरों में केंद्रीय दत्तक-ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (CARA) के सीईओ रहे दीपक कुमार के बारे में कई खुलासे किए थे, जिनमें उनका ईसाई मिशनरियों से साँठगाँठ सबसे अहम मुद्दा था। अब नई जानकारी सामने आ रही है कि दीपक कुमार ने CARA के सीईओ रहते मध्य प्रदेश में भी दो ईसाई मिशनरियों को रातों-रात मान्यता दिलाई थी। इस मामले में दो स्थानीय अधिकारी भी रडार पर हैं।

कहानी मध्य प्रदेश की दो संस्थाओं की, जो दीपक कुमार की कृपापात्र बनीं

केंद्रीय दत्तक-ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (CARA) से हटाए जा चुके CEO दीपक कुमार के काले कारनामे लगातार उजागर हो रहे हैं। अब हमें पता चला है कि CARA में अपनी हैसियत के बूते पर दीपक कुमार ने 2017 में मध्य प्रदेश में ईसाई मिशनरियों द्वारा संचालित दो संस्थाओं को रातों-रात एडॉप्शन एजेंसी के रूप में मान्यता दिलाने के लिए ऐड़ी-चोटी का जोर लगाया था। महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों की मदद से उसने इन संस्थाओं को मान्यता दिलवा भी दी थी।

इन दोनों संस्थाओं में सैकड़ों बच्चे थे। ये संस्थाएँ पहले बिना मान्यता के ही बच्चों की सेवा के नाम पर धर्मांतरण के लिए कुख्यात रहीं थीं। इनकी कई शिकायतें मिलने के बाद सरकार ने इनकी जाँच भी कराई थी, लेकिन महिला बाल विकास विभाग में कई सालों से जमे अधिकारियों ने जाँच पर लीपापोती करा दी थी। डिप्टी डायरेक्टर हरीश खरे और असिस्टेंट डायरेक्टर आशीष सिंह की भूमिका संदेह के दायरे में है, जो कई सालों जमे हैं। लंबे समय से विवादास्पद हरीश खरे का नाम चर्चित हनीट्रैप मामले में आने के बावजूद उसे भोपाल से नहीं हटाया गया।

मध्य प्रदेश में ईसाई मिशनरियों द्वारा ये संस्थाएँ पिछड़े इलाक़े बुंदेलखंड के सागर और दमोह में संचालित हैं। सागर में सेवाधाम और दमोह की मरुथाल नाम की संस्थाओं को 2017 में एडॉप्शन एजेंसी के रूप में कानूनी मान्यता के लिए दीपक कुमार ने ही जोर लगाया था। इन्हें चाइल्ड प्रोटेक्शन एक्ट की धारा 41 और 65 के तहत एक साथ बालगृह, शिशुगृह और बालिका गृह की मान्यता दे दी गई थी। अर्थात, ये हर उम्र के शिशुओं, बच्चों और बच्चियों को अपने यहाँ रख सकते थे।

विभाग ने मान्यता देने के पहले इन संस्थाओं के कामकाज पर उठते रहे सवालों को दरकिनार कर दिया था। मुख्यमंत्री कार्यालय में इन संस्थाओं को लेकर बच्चों और गरीब परिवारों के धर्मांतरण की शिकायतें आने के बाद एक जाँच भी शुरू हुई थी। तब पता चला था कि यहाँ आने वाले बच्चों को शुरू से ही ईसाई बनाने की प्रक्रिया में डाल दिया जाता है। वे गले में क्रॉस लटकाते हैं। परिसर में ही चर्च में प्रेयर्स करते हैं।

इस जाँच के समय मरुथाल में 600 बच्चों की संख्या सामने आई थी और सेवाधाम में भी 300 से ज्यादा बच्चे होना बताए गए थे। जाँच के कारण तब इन्हे एडॉप्शन एजेंसी की मान्यता नहीं दी गई थी। लेकिन, कुछ समय बाद ही विभाग के अधिकारियों ने दीपक कुमार के दबाव में अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर इनका रास्ता साफ कर दिया। मान्यता मिलते ही यहाँ के सैकड़ों बच्चे CARA के जरिए देश-विदेश में गोद जाने के लिए तैयार हो गए।

ऑपइंडिया के सूत्रों का कहना है कि इन संस्थाओं से विदेशों में गोद गए बच्चों की संख्या अच्छी-खासी है, जो दीपक कुमार का भांडा फूटने के बाद अब जाँच का विषय है। पता चला है कि दीपक कुमार ने हाल ही में भोपाल की एक ऐसी ही संस्था को मान्यता देने के लिए विभाग को पत्र लिखा था, लेकिन इस पर कार्रवाई होने के पहले ही उसके कारनामे उजागर हो गए और केंद्रीय महिला बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने उसे पद से हटा दिया।

मिशनरियों के कारनामे और CARA के दीपक से साँठगाँठ

इन मिशनरियों के परिसरों में कार्यरत ज्यादातर कर्मचारी ऐसे हैं, जो जन्मजात ईसाई नहीं थे। वे सालों पहले कभी किसी आर्थिक मजबूरी के चलते मिशनरी में लाए गए थे और यहीं पले-बढ़े। उनके परिवारों को बच्चों की बेहतर परवरिश औैर नौकरी वगैरह के लालच दिए गए थे। चाइल्ड राइट्स के हिसाब से तो उनका पुनर्वास होना था, लेकिन वे वहीं बने रहे और अब वे ईसाई हैं। मध्य प्रदेश के महिला बाल विकास विभाग ने इन संस्थाओं की लगातार शिकायतों के बावजूद कभी जाँच नहीं की।

ईसाई मिशनरियों का रसूख ऐसा है कि राज्य के अधिकारियों भी झाँक कर भी नहीं देखा कि सैकड़ों की संख्या में गरीब परिवारों के बच्चे वहाँ किस कानून के तहत रखे जा रहे हैं। यहाँ तक कि इन बच्चों का कोई रिकॉर्ड नियमानुसार स्थानीय पुलिस के पास भी नहीं था। अफसरों के कारण ही एक जाँच पर लीपापोती की गई और दीपक कुमार ने इन्हें एडॉप्शन एजेंसी की मान्यता दिलाकर धर्मांतरण को कानूनी आवरण पहना दिया।

दीपक ने मध्य प्रदेश से अनुराग पांडे को CARA में बनाए रखा

दीपक कुमार ने हरीश खरे के कहने पर अनुराग पांडे नाम के एक व्यक्ति को CARA में कम्प्यूटर ऑपरेटर के पद पर नियुक्त किया। उसे बाद में मनमाने ढंग से यंग प्रोफेशनल का पदनाम दे दिया और मध्य प्रदेश का प्रभारी तक बना दिया। हरीश खरे के इशारे पर CARA से यही अनुराग पांडे मध्य प्रदेश की बाल संस्थाओं पर दबाव डालता था।

विभागीय स्तर पर मध्य प्रदेश में ये आम शिकायतें थीं कि उसके इशारे पर बच्चों के एडॉप्शन में अनावश्यक देरी की जा रही है और कुछ संस्थाओं को टारगेट कर कागजी कार्रवाई में अटकाया जा रहा है। अनुराग पांडे CARA में दीपक कुमार द्वारा नियुक्त उन दर्जनों मनमानी नियुक्तियों का ही एक हिस्सा है, जिन्हें ऐसे पदनाम दिए गए, जो सरकारी विभागों में कभी सुने नहीं गए। CARA में मूलत: सदस्य सचिव का ही पद होता है, जिस पर दीपक कुमार को लाया गया था।

लेकिन CARA को एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की तरह संचालित करने की फिराक में दीपक कुमार ने आते ही CEO का पदनाम गढ़ लिया था। जबकि ऐसा कोई पद था ही नहीं। दीपक कुमार और हरीश खरे के गठजोड़ ने जिस तरह मध्य प्रदेश की संस्थाओं पर अपनी मनमानी की, उसी तरह अन्य राज्यों के भी मामले सामने आ रहे हैं। बिहार से अमेरिका में गोद दी गई एक मासूम बच्ची की हत्या का मामला भी इनमें से एक है।

हनीट्रैप में फँसा अधिकारी अब भी CARA के पद पर काबिज

मध्य प्रदेश में 2018 में कॉन्ग्रेस सरकार बनने के बाद बदनाम हरीश खरे मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर का ओएसडी तक बन गया, लेकिन चर्चित हनीट्रैप में फँसने के बाद उसे महिला बाल विकास विभाग में वापस भेज दिया गया। जब उसे मूल विभाग में भेजा गया तब तत्कालीन मंत्री इमरती देवी को विभाग के महिला स्टाफ ने इस कुख्यात अधिकारी को भोपाल से बाहर भेजने के लिए कहा था, लेकिन अफसरशाही में अपनी ऊँची पहुँच के कारण हरीश खरे भोपाल में ही बना रहा।

बिना बताए महीनों गायब रहता था हरीश खरे: मुख्य सचिव को लिखे गए पत्र से खुलासा

पिछले 10 सालों से भोपाल में जमे हरीश खरे के खिलाफ कई जाँचें लंबित हैं। उस पर अपनी ही सर्विस बुक को गायब कर मनमाने ढंग से प्रमोशन लेने का आरोप है। लोकायुक्त में भी उसकी जाँच ठंडे बस्ते में है। हनीट्रैप में फँसने के बावजूद सरकार ने उसे राजधानी में टिकाए रखा और बाल संरक्षण आयोग में नियुक्ति दे दी, लेकिन अब भी संचालनालय में उसके बिना कोई फैसला नहीं होता। अब असिस्टेंट डायरेक्टर आशीष सिंह उसकी जगह पर हैं।

हनीट्रैप में फँसा था हरीश खरे

मासूम बच्चों को मनमाने ढंग से विदेश भेजने वाले दीपक कुमार के कारनामे उजागर होने के बाद सरकार के अंदर के कुछ लोग भी हैरत में हैं कि वो इतने दिन टिका कैसे रहा। सबको आश्चर्य है कि केंद्र में 2014 में सरकार बदलने के बावजूद महिला बाल विकास मंत्रालय में CARA में दीपक कुमार की नियुक्ति और बच्चों को गोद देने की प्रक्रिया में यह मनमानी आखिरकार किनके इशारे पर चलती रही।

पत्र का अगला भाग

इसी तरह मध्य प्रदेश में भी भाजपा या कॉन्ग्रेस की सरकार आने-जाने का अधिकारियों के इस ताकतवर गिराेह पर कभी कोई फर्क नहीं पड़ा। मध्य प्रदेश में भी भाजपा की सरकार के रहते माया सिंह, रंजना बघेल और अर्चना चिटनीस महिला बाल विकास मंत्री रहीं। 2018 में कॉन्ग्रेस सरकार बनी तो ज्योतिरादित्य सिंधिया की करीबी इमरती देवी मंत्री बनीं। इस दौरान चार आईएएस अफसर प्रमुख सचिव और इतने ही कमिश्नर बनकर आए और चले गए, लेकिन विभागीय मुख्यालय में हरीश खरे और आशीष सिंह जैसे अधिकारियों का ही सिक्का जमा रहा।

इन दोनों अधिकारीयों के काला चिट्ठे को लेकर हम एक अलग एक लेख लेकर आएँगे, जिसमें इनके इतिहास के बारे में विस्तृत विवरण होगा। बच्चों की तस्करी का मामला दबाने हनीट्रैप तक, अगर सारे तारों को जोड़ा जाए तो ये एक बहुत बड़ा मामला बन सकता है। इससे पहले ऑपइंडिया ने CARA के दीपक कुमार के बारे में जो खुलासे किए थे, उससे इन सबका सीधा सम्बन्ध जुड़ता नज़र आ रहा है।

CARA के सीईओ रहे दीपक कुमार के बारे में ऑपइंडिया का खुलासा

वैज्ञानिक एसके डे विश्वास ने बताया था कि संस्था में उनके पीठ पीछे अपमानजनक बातें कही जाती हैं। उन्होंने बताया था कि उनके वेतन में जान-बूझकर देरी की जाती है और बिना किसी कारण के वेतन में से रकम काट ली जाती है। साथ ही उन्होंने ये भी आरोप लगाया था कि सीसीटीवी कैमरों में से एक को उन पर ही केंद्रित रखा जाता है, ताकि उनकी सारी गतिविधियाँ रिकॉर्ड की जा सके। CEO दीपक कुमार पर काउन्सलेट्स के साथ अभद्र व्यवहार और गाली-गलौज करने का आरोप लगाया गया था। 

भारतीयों को कारा से बच्चा गोद लेने के लिए तीन से सात साल तक प्रतीक्षा सूची में रहना पड़ता है लेकिन विदेशी ईसाई परिवारों को बहुत कम समय में बच्चा मिल जाता है। ईसाई मिशनरियों के प्रभाव का आलम यह है कि कारा के सीईओ दीपक कुमार ने कोरोना संकट और लॉकडाउन के समय भी बच्चों को विदेश भेजा। अप्रैल माह में भी विशेष विमान से ये बच्चे इटली, अमेरिका, माल्टा और जॉर्डन भेजे गए।

उनके दो भतीजे हैं अमन और शिशिर। इन दोनों को पहले तीन महीने तक एमटीएस के पद पर 10 हजार रुपए के मासिक वेतन के साथ रखा गया, उसके बाद यंग प्रोफेशनल्स के पद पर बिठा कर वेतनतीन गुना बढ़ा दिया गया। 9 महीने बाद तो इन दोनों को सलाहकार का पद थमा दिया गया और 60 हज़ार रुपए प्रतिमाह दिए जाने लगे। इस तरह की उन्होंने एक-दो नहीं बल्कि कई नियुक्तियाँ की हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

15000 स्क्वायर किलोमीटर जंगल भी बढ़े और आदिवासी तरक्की के रास्ते में विकास के पार्टनर भी: प्रकाश जावड़ेकर

"बदलाव हम हर साल एफलिएशन में करते हैं। वो 1100 शिक्षक के सुझाव पर आधारित हैं। वो इतने सार्थक हैं कि 900 पेज का बदलाव हुआ, लेकिन..."

‘बिहार में LJP वोटकटुआ का काम करेगी, इससे परिणाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा’- प्रकाश जावड़ेकर

"बिहार में भाजपा समर्थक सवाल उठा रहे कि वहाँ पर भाजपा अकेले चुनाव क्यों नहीं लड़ती? क्या इस मुद्दे पर केंद्रीय नेतृत्व में बातचीत होती है?"

‘OTT प्लेटफॉर्म सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करे, फेक न्यूज पर PIB अच्छा कर रही है’ – प्रकाश जावड़ेकर

“इसके अच्छे और बुरे दोनों तरह के नतीजे आ रहे हैं। इसलिए हमने OTT प्लेटफॉर्म को कहा है कि वो सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करें।"

370 हटने के बाद लद्दाख का पहला चुनाव, BJP ने मारी बाजी: 26 में 15 सीटों पर जीत, AAP को जीरो

लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिलने के बाद यह पहला चुनाव था। लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (LAHDC) के चुनाव में...

माँ-बाप दाेनों रहे CM फिर भी पास नहीं कर पाए मैट्रिक: तेजस्वी पर योगी आदित्यनाथ की टीम ने यूँ कसा तंज

“ये है तेजस्वी यादव की सभाओं में भीड़ का सच। गुस्साए लोगों ने कहा, 500 रुपए देकर 5 साल राज करना चाहता है तेजस्वी। वोट मोदी को ही देंगे...”

गोहत्या: 18 घटनाएँ, जहाँ रंगेहाथ पकड़े गए 87 गौ-तस्कर, जिनसे मिले कुल 2604 गौवंश अवशेष

उच्च न्यायालय ने निर्दोष व्यक्तियों को फँसाने के लिए उत्तर प्रदेश गोहत्या निरोधक कानून के प्रावधानों के लगातार दुरुपयोग पर चिंता व्यक्त की।

प्रचलित ख़बरें

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

ससुर-नौकर से Sex करती है ब्राह्मण परिवार की बहू: ‘Mirzapur 2’ में श्रीकृष्ण की कथाएँ हैं ‘फ़िल्मी बातें’

यूपी-बिहार के युवाओं से लेकर महिलाओं तक का चित्रण ऐसा किया गया है, जैसे वो दोयम दर्जे के नागरिक हों। वेश्याएँ 'विधवाओं के गेटअप' में आती हैं और कपड़े उतार कर नाचती हैं।

एक ही रात में 3 अलग-अलग जगह लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वाला लालू का 2 बेटा: अब मिलेगी बिहार की गद्दी?

आज से लगभग 13 साल पहले ऐसा समय भी आया था, जब राजद सुप्रीमो लालू यादव के दोनों बेटों तेज प्रताप और तेजस्वी यादव पर छेड़खानी के आरोप लगे थे।

IAS अधिकारी ने जबरन हवन करवाकर पंडितों को पढ़ाया ‘समानता का पाठ’, लोगों ने पूछा- मस्जिद में मौलवियों को भी ज्ञान देंगी?

क्या पंडितों को 'समानता का पाठ' पढ़ाने वाले IAS अधिकारी मौलवियों को ये पाठ पढ़ाएँगे? चर्चों में जाकर पादिरयों द्वारा यौन शोषण की आई कई खबरों का जिक्र करते हुए ज्ञान देंगे?

मंदिर तोड़ कर मूर्ति तोड़ी… नवरात्र की पूजा नहीं होने दी: मेवात की घटना, पुलिस ने कहा – ‘सिर्फ मूर्ति चोरी हुई है’

2016 में भी ऐसी ही घटना घटी थी। तब लोगों ने समझौता कर लिया था और मुस्लिम समुदाय ने हिंदुओं के सामने घटना का खेद प्रकट किया था

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"
- विज्ञापन -

15000 स्क्वायर किलोमीटर जंगल भी बढ़े और आदिवासी तरक्की के रास्ते में विकास के पार्टनर भी: प्रकाश जावड़ेकर

"बदलाव हम हर साल एफलिएशन में करते हैं। वो 1100 शिक्षक के सुझाव पर आधारित हैं। वो इतने सार्थक हैं कि 900 पेज का बदलाव हुआ, लेकिन..."

पैगंबर मुहम्मद के कार्टूनों का सार्वजानिक प्रदर्शन, फ्रांस के एम्बेसेडर को पाकिस्तान ने भेजा समन

पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने इस मुद्दे पर कहा कि फ्रांस के राष्ट्रपति का बयान बेहद गैर ज़िम्मेदाराना था और ऐसे बयान से सिर्फ आग को हवा मिलेगी।

राहुल बन नाबालिग लड़की से की दोस्ती, रेप के बाद बताया – ‘मैं साजिद हूँ, शादी करनी है तो धर्म बदलो’

आरोपित ने खुद ही पीड़िता को बताया कि उसका नाम राहुल नहीं बल्कि साजिद है। साजिद ने पीड़िता से यह भी कहा कि अगर शादी करनी है तो...

‘बिहार में LJP वोटकटुआ का काम करेगी, इससे परिणाम पर कोई असर नहीं पड़ेगा’- प्रकाश जावड़ेकर

"बिहार में भाजपा समर्थक सवाल उठा रहे कि वहाँ पर भाजपा अकेले चुनाव क्यों नहीं लड़ती? क्या इस मुद्दे पर केंद्रीय नेतृत्व में बातचीत होती है?"

ताजमहल में फहराया भगवा झंडा, गंगा जल छिड़क कर किया शिव चालीसा का पाठ

ताजमहल परिसर में दाखिल होते ही उन्होंने वहाँ पर गंगा जल का छिड़काव किया और भगवा झंडा फहराया। शिव चालीसा का पाठ भी किया गया।

24 घंटे में रिपब्लिक TV के दिल्ली-नोएडा के पत्रकारों को मुंबई के पुलिस थाने में हाजिर होने का आदेश

अर्नब गोस्वामी ने मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह और महाराष्ट्र की उद्धव सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि नाइंसाफी की इस लड़ाई में...

‘OTT प्लेटफॉर्म सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करे, फेक न्यूज पर PIB अच्छा कर रही है’ – प्रकाश जावड़ेकर

“इसके अच्छे और बुरे दोनों तरह के नतीजे आ रहे हैं। इसलिए हमने OTT प्लेटफॉर्म को कहा है कि वो सेल्फ-रेग्युलेशन की अच्छी व्यवस्था करें।"

370 हटने के बाद लद्दाख का पहला चुनाव, BJP ने मारी बाजी: 26 में 15 सीटों पर जीत, AAP को जीरो

लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा मिलने के बाद यह पहला चुनाव था। लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद (LAHDC) के चुनाव में...

माँ-बाप दाेनों रहे CM फिर भी पास नहीं कर पाए मैट्रिक: तेजस्वी पर योगी आदित्यनाथ की टीम ने यूँ कसा तंज

“ये है तेजस्वी यादव की सभाओं में भीड़ का सच। गुस्साए लोगों ने कहा, 500 रुपए देकर 5 साल राज करना चाहता है तेजस्वी। वोट मोदी को ही देंगे...”

गोहत्या: 18 घटनाएँ, जहाँ रंगेहाथ पकड़े गए 87 गौ-तस्कर, जिनसे मिले कुल 2604 गौवंश अवशेष

उच्च न्यायालय ने निर्दोष व्यक्तियों को फँसाने के लिए उत्तर प्रदेश गोहत्या निरोधक कानून के प्रावधानों के लगातार दुरुपयोग पर चिंता व्यक्त की।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,314FollowersFollow
338,000SubscribersSubscribe