Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजहैदराबाद के बालाजी मंदिर ने लड़कियों- महिलाओं की रक्षा के लिए तैयार की 'जटायु...

हैदराबाद के बालाजी मंदिर ने लड़कियों- महिलाओं की रक्षा के लिए तैयार की ‘जटायु सेना’

मंदिर के पुजारी ने बताया कि इस दौरान कई पुरूष श्रद्धालुओं ने जटायु सेना का सदस्य बनने का संकल्प लिया। जिसके बाद वह लड़कियों और महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध रोकने के लिए सक्रिय रहेंगे।

हैदराबाद के प्रसिद्ध चिलकुर बालाजी मंदिर ने महिलाओं और लड़कियों के ख़िलाफ़ अत्याचार रोकने के लिए मंगलवार (अगस्त 13, 2019) को ‘जटायु सेना’ का गठन किया।

बता दें जटायु हिंदू धर्मग्रंथ रामायण का प्रसिद्ध पात्र है, जिसने पंछी होने के बावजूद रावण द्वारा सीताहरण के समय रावण से सीता को छुड़ाने के लिए अपनी आखिरी साँस तक प्रयास किया।

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार इस सेना के गठन के दौरान चिलकुर बालाजी मंदिर के प्रधान पुजारी सी एस रंगराजन ने बताया कि विशेष अनुष्ठान में मंदिर में महिलाओं और लड़कियों की कलाइयों पर धागे बाँधे गए और लड़कियों तथा महिलाओं की हिफाजत के लिए जटायु सेना की प्रतीकात्मक शुरूआत की गई।

मंदिर के पुजारी ने बताया कि इस दौरान कई पुरूष श्रद्धालुओं ने जटायु सेना का सदस्य बनने का संकल्प लिया। जिसके बाद वह लड़कियों और महिलाओं के ख़िलाफ़ अपराध रोकने के लिए सक्रिय रहेंगे।

जानकारी के मुताबिक इस दौरान मंदिर के पुजारियों ने करवान इलाके के नदीम को सम्मानित भी किया, क्योंकि हैदराबाद के वो पहले शख्स थे जिन्होंने तेलंगाना के रंग रेड्डी गाँव में मोइनबाद मंडल के पास एक छोटी बच्ची का बलात्कार होने से बचाया था। पुजारियों ने उन्हें इस दौरान आशीर्वाद के साथ ‘जटायु सेना’ का पहला सदस्य होने का सम्मान दिया।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राक्षस के नाम पर शहर, जिसे आज भी हर दिन चाहिए एक लाश! इंदौर की महारानी ने बनवाया, जयपुर के कारीगरों ने बनाया: बिहार...

गयासुर ने भगवान विष्णु से प्रतिदिन एक मुंड और एक पिंड का वरदान माँगा है। कोरोना महामारी के दौरान भी ये सुनिश्चित किया गया कि ये प्रथा टूटने न पाए। पितरों के पिंडदान के लिए लोकप्रिय गया के इस मंदिर का पुनर्निर्माण महारानी अहिल्याबाई होल्कर ने करवाया था, जयपुर के गौड़ शिल्पकारों की मेहनत का नतीजा है ये।

मार्तंड सूर्य मंदिर = शैतान की गुफा: विद्यार्थियों को पढ़ाने वाला Unacademy का जहरीला वामपंथी पाठ, जानिए क्या है इतिहास

मार्तंड सूर्य मंदिर को 8वीं शताब्दी ईस्वी में बनाया गया था और यह हिंदू धर्म के प्रमुख सूर्य देवता सूर्य को समर्पित है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -