Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजआरोपितों को पता था कार में फँसी है लड़की, तेज़ म्यूजिक वाली बात निकली...

आरोपितों को पता था कार में फँसी है लड़की, तेज़ म्यूजिक वाली बात निकली झूठ: कंझावला केस में कबूलनामा, कहा – डरे हुए थे, कुछ समझ नहीं आ रहा था

आरोपितों ने कबूल किया है कि उन्हें गाड़ी के नीचे मृतक अंजलि के फँसे होने की जानकारी थी। आरोपितों ने पुलिस को बताया है कि उन्हें इस बात का डर था कि यदि उन्हें कार से लड़की को निकालते हुए किसी ने देख लिया तो वह फँस जाएँगे।

दिल्ली के कंझावला में हुए एक्सीडेंट मामले में आरोपितों ने बड़ा खुलासा किया है। पुलिस से हुई पूछताछ में आरोपितों ने कहा है कि उन्हें यह पता था अंजलि कार के नीचे फँसी हुई है। लेकिन, वे लोग डर गए थे इसलिए उन्होंने बॉडी नहीं निकाली।

मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से दावा किया गया है कि आरोपितों ने कबूल किया है कि उन्हें गाड़ी के नीचे मृतक अंजलि के फँसे होने की जानकारी थी। आरोपितों ने पुलिस को बताया है कि उन्हें इस बात का डर था कि यदि उन्हें कार से लड़की को निकालते हुए किसी ने देख लिया तो वह फँस जाएँगे। उनके ऊपर हत्या का केस लग जाएगा।

आरोपितों ने यह भी कहा है कि लड़की के कार में फँसने के बाद वे बेहद डर गए थे। उन्हें यह समझ नहीं आ रहा था कि कहाँ जाएँ। हालाँकि, उन्हें यह लग रहा था कि लगातार कार चलाने से लड़की निकल जाएगी इसलिए वे कार को दौड़ाते रहे। यही कारण है कि उन्होंने सुल्तानपुरी से कंझावला तक कई बार यू-टर्न लिया था। आरोपितों ने यह भी कबूल किया है कि उन्होंने पुलिस को तेज म्यूजिक सिस्टम वाली जो बात बताई थी, वह पूरी तरह झूठी थी।

गौरतलब है कि 1 जनवरी, 2023 की रात भयानक कार एक्सीडेंट में अंजलि नामक लड़की की मौत हो गई थी। जब, वह होटल से अपने घर लौट रही थी तब एक कार ने उसकी स्कूटी को टक्कर मार दी थी। टक्कर के बाद, वह कार में ही फँस गई थी।

आरोपित उसे कार से निकालने के बजाए 12 किलोमीटर तक लगातार घसीटते रहे। इससे उसके पैर तक कट गए थे। बाद में, उसकी बॉडी नग्नावस्था में बरामद हुई थी। अजंलि अपने घर में कमाने वाली इकलौती थी। इस मामले में, पुलिस ने दीपक खन्ना, अमित खन्ना, कृष्ण, मिथुन, मनोज मित्तल, आशुतोष और अंकुश खन्ना को आरोपित बनाया है। इनमें से एक आरोपित अंकुश खन्ना को जमानत मिल गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बांग्लादेश में आरक्षण खत्म: सुप्रीम कोर्ट ने कोटा व्यवस्था को रद्द किया, दंगों की आग में जल रहा है मुल्क

प्रदर्शनकारी लोहे के रॉड हाथों में लेकर सेन्ट्रल डिस्ट्रिक्ट जेल पहुँच गए और 800 कैदियों को रिहा कर दिया। साथ ही जेल को आग के हवाले कर दिया गया।

‘कमाल का है PM मोदी का एनर्जी लेवल, अनुच्छेद-370 हटाने के लिए चाहिए था दम’: बोले ‘दृष्टि’ वाले विकास दिव्यकीर्ति – आर्य समाज और...

विकास दिव्यकीर्ति ने बताया कि कॉलेज के दिनों में कई मुस्लिम दोस्त उनसे झगड़ा करते थे, क्योंकि उन्हें RSS के पक्ष से बहस करने वाला माना जाता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -