Sunday, June 13, 2021
Home देश-समाज क्लीनचिट के बावजूद कमिश्नर और MS ने सरेआम बताया चोर: हिन्दूराव हॉस्पिटल के डॉ....

क्लीनचिट के बावजूद कमिश्नर और MS ने सरेआम बताया चोर: हिन्दूराव हॉस्पिटल के डॉ. पीयूष की प्रताड़ना क्यों?

जब रेजिडेंट डॉक्टरों की यही राय थी, एनजीओ ने पीपीई किट डोनेट किया और वितरण के समय वहाँ मौजूद था, तो फिर कमिश्नर वर्षा जोशी को क्या दिक्कत आ गई? डॉक्टर पीयूष पुष्कर के करियर के साथ क्यों खेला जा रहा है?

डॉक्टर पीयूष पुष्कर दिल्ली के हिन्दू राव हॉस्पिटल में रेजिडेंट डॉक्टर हैं। वे लगातार प्रताड़ना के शिकार हैं। उन्हें प्रताड़ित कोई और नहीं बल्कि उनका ही कॉलेज और नॉर्थ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन कर रहा है। सोशल मीडिया पोस्ट्स को लेकर उनके ख़िलाफ हॉस्पिटल में साजिश रची जाती है। हालॉंकि सरकार के ख़िलाफ़ उन्होंने कुछ नहीं लिखा है।

डॉ. पीयूष पुष्कर का कहना है कि वे सरकार के साथ मिलकर काम करना चाहते हैं। कोरोना से निपटने में सरकार की मदद करना चाहते हैं। तमाम संघर्ष करते हुए उन्होंने पीपीई किट के लिए सीधा मैन्युफैक्चरर से संपर्क किया और अपने स्तर से जितना हो सकते ख़रीद कर डॉक्टरों की मदद की।

कथित तौर पर नॉर्थ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन की कमिश्नर वर्षा जोशी उन्हें सार्वजानिक तौर पर ‘चोर’ और ‘धोखेबाज’ कह कर संबोधित करती हैं। एनबीई (नेशनल बोर्ड ऑफ एक्सामिनेशन्स) से क्लीनचिट मिलने के बावजूद उनके साथ ऐसा हो रहा। इसकी वजह से डॉ. पीयूष डिप्रेशन के शिकार रहे हैं। वे कई रातों से सोए तक नहीं हैं।

इस संबंध में बात करते हुए डॉ. पीयूष पुष्कर भावुक हो जाते हैं और रो पड़ते हैं। वे कोरोना से निपटने में सरकार की मदद कर रहे हैं, लेकिन प्रशासन उन्हें ही दुष्प्रचार करने वाला बताता है। उन्हें बार-बार अपमानित किया जाता है। क्लीनचिट मिलने के बाद वर्षा जोशी ने फिर से उनके लिए अभद्र भाषा का प्रयोग किया। हॉस्पिटल की एमएस (मेडिकल सुपरिटेंडेंट) उन्हें ‘गेट लॉस्ट’ कह कर बिना कुछ कहे-सुने भगा देती हैं।

डॉक्टर पीयूष पुष्कर हिन्दू राव हॉस्पिटल में डीएनबी ऑर्थोपेडिक सर्जरी रेजिडेंट हैं। वे ‘रेजिडेंट डॉक्टर्स ऑफ हिन्दू राव’ के अध्यक्ष भी हैं। कुछ दिनों पहले की बात है, जब एक एनजीओ ने हॉस्पिटल को कुछ पीपीई किट डोनेट किया। उन्होंने इसे रिसीव किया और डॉक्टरों के बीच वितरित किया।

लेकिन, वर्षा जोशी को यह पसंद नहीं आया। उन्होंने इसे अपने इगो का मामला बना लिया और हाथ धो के डॉक्टर पुष्कर के पीछे पड़ गईं। उन्हें सोशल मीडिया पर चोर तक कहकर सम्बोधित किया गया और हॉस्पिटल की गरिमा पहुँचाने का आरोप लगाया गया।

इसके बाद डॉक्टर पीयूष पुष्कर के टर्मिनेशन का ऑर्डर जारी कर दिया गया। लेकिन, वर्षा जोशी ने जैसा सोचा था, एकदम से वैसा नहीं हुआ। ‘दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन’ सहित देश के कई अन्य हिस्सों में डॉक्टरों ने उनके इस क़दम का विरोध किया। इस मामले को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन के समक्ष भी उठाया गया।

‘नेशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशंस’ ने उनके टर्मिनेशन ऑर्डर को रद्द कर दिया। लेकिन, ऊपर से आदेश आने के बावजूद हॉस्पिटल उन्हें ड्यूटी ज्वाइन नहीं करने दे रहा है। नीचे आप ‘डॉक्टर मोनिका फाउंडेशन’ द्वारा डोनेट किए गए पीपीई किट से संबंधित कागज़ देख सकते हैं:

डोनेशन पूरे पारदर्शी तरीके से किया गया

डॉ. पीयूष पुष्कर के टर्मिनेशन का आदेश नॉर्थ दिल्ली म्युनिसिपल कॉरपोरेशन की तरफ से आया। इसमें लिखा है कि ऑर्थोपेडिक डिपार्टमेंट के डीएनबी छात्र डॉक्टर पीयूष पुष्कर को हॉस्पिटल की गरिमा को ठेस पहुँचाने के आरोप में उनकी सेवा से टर्मिनेट किया जाता है। आदेश के साथ ही उनके त्वरित टर्मिनेशन की बात लिखी हुई है। नीचे आप डीएमसी द्वारा जारी किए गए टर्मिनेशन ऑर्डर को देख सकते हैं, जिस पर हिन्दू राव हॉस्पिटल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट का हस्ताक्षर हैं:

डीएमसी द्वारा जारी किया गया टर्मिनेशन का आदेश

इस आदेश को रिसीव करने वालों में डॉक्टर पीयूष का नाम इसीलिए है, क्योंकि वो DRA के अध्यक्ष भी हैं। इस पर अप्रैल 15, 2020 की तारीख अंकित है। डोनेशन वाले दस्तावेज पर भी डॉक्टर पुष्कर का नाम है। वो प्रक्रिया पूरे वैध तरीके से हुई थी।

हालाँकि, इसके बाद NBE ने इस टर्मिनेशन ऑर्डर को रद्द कर दिया। एनबीई ने लिखा कि डॉक्टर पुष्कर हिन्दू राव हॉस्पिटल में ‘स्पेशलिटी ऑफ ऑर्थोपेडिक सर्जरी’ में पोस्ट एमबीबीएस डीएनबी सीट मिली है। दिसंबर 2019 में उन्होंने फाइनल थ्योरी एग्जाम दी थी।

एनबीई ने हॉस्पिटल द्वारा दिए गए सारे दस्तावेजों की जाँच के बाद पाया कि इस मामले को टर्मिनेशन से पहले ‘ग्रीवांस रेड्रेसल कमिटी’ के पास नहीं ले जाया गया, जो कि इस प्रक्रिया की सबसे बड़ी खामी की ओर इशारा करता है। यानी, ‘प्रिंसिपल नेचर ऑफ़ जस्टिस’ को नज़रंदाज़ किया गया। इसी आधार पर उनका टर्मिनेशन ग़लत पाया गया और उन्हें फिर से बहाल कर दिया गया।

उन्हें 20 अप्रैल से फिर से अपनी ड्यूटी ज्वाइन करने को कहा गया। लेकिन, हॉस्पिटल ने अड़ंगा लगाना शुरू कर दिया और उन्हें ज्वाइन करने नहीं दिया जा रहा है।

यह भी कहा जा रहा है कि बिना जाँच के सीधा टर्मिनेट कर देना एक बहुत ही क्रूर निर्णय था। उन्हें रिजाइन करने को भी कहा जा सकता था। एनबीई के आदेश के बावजूद हॉस्पिटल उन्हें वापस नहीं ले रहा है, जो फिर से नियमों का उल्लंघन है। टर्मिनेट करने से पहले उनसे कोई स्पष्टीकरण भी नहीं माँगा गया था। न तो उन्हें अपनी बात रखने का मौका दिया गया और न ही उचित जाँच की गई।

वहीं वर्षा जोशी का आरोप है कि डॉ. पीयूष पुष्कर ने एनजीओ से हॉस्पिटल अथॉरिटी बनकर कांटेक्ट किया, जबकि मेडिकल सुपरिटेंडेंट पहले से ही संपर्क में थीं। उनके आरोप हैं कि पीपीई के स्टॉक का वितरण करना उनके अधिकार क्षेत्र में नहीं आता है।

एनबीई ने बीएमसी के आदेश पर लगाईं रोक, फिर से बहाल किया

एक वकील ने इस संबंध में मुख्य न्यायाधीश जस्टिस बोबडे को भी पत्र लिखा। उन्होंने सीजेआई से इस मामले में हस्तक्षेप की माँग की थी। इधर डॉक्टर पीयूष पुष्कर ने आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि उस एनजीओ ने ही उनसे संपर्क किया था। उन्होंने इस सम्बन्ध में हॉस्पिटल के पदाधिकारियों को सूचित कर दिया था।

उन्होंने कहा कि अगर कोई एनजीओ उनके नाम पर कुछ डोनेट करता है तो क्या उन्हें उसके वितरण का अधिकार नहीं है? वर्षा जोशी का कहना है कि पहले पीपीई किट हॉस्पिटल स्टोर में जाना चाहिए था। वहीं डॉक्टर पुष्कर का कहना है कि रेजिडेंट डॉक्टरों ने ऐसा करने से मना किया था, क्योंकि स्टोर में जाने के बाद उसका ठीक से वितरण हो ही नहीं पाता है।

यहाँ बात ये है कि जब रेजिडेंट डॉक्टरों की यही राय थी, एनजीओ ने पीपीई किट डोनेट किया और वितरण के समय वहाँ मौजूद था, तो फिर कमिश्नर वर्षा जोशी को क्या दिक्कत आ गई? एक डॉक्टर के करियर के साथ क्यों खेला जा रहा है?

डॉक्टर पीयूष कहते हैं कि वो हॉस्पिटल के भले की सोच रहे हैं। अगर ऐसा नहीं होता तो वो अपने रुपयों से पीपीई किट नहीं ख़रीदते। उन्होंने इतना कुछ होने के बावजूद सार्वजनिक तौर पर कभी हॉस्पिटल के ख़िलाफ़ कुछ नहीं कहा, फिर उन्हें बदनाम क्यों किया जा रहा है?

उन्होंने पीपीई के बारे में पूरा अध्ययन किया। ‘कोरोना टास्क फोर्स’ में उन्होंने अपनी टीम के साथ ड्यूटी के इतर समय और संसाधन देकर जनसेवा की और सरकार की मदद करने का प्रयास किया।

डॉक्टर पीयूष ने बताया कि उन्हें 5 महीने से कोई सैलरी नहीं मिली है। वो घर से रुपए माँग कर काम कर रहे हैं। उनके घर पर उनकी माँ काफी परेशान है। बावजूद इसके लगातार उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि वो भले ही वापस ज्वाइन कर लें, लेकिन उन्हें फिर से प्रताड़ित किया जाएगा। उनके ख़िलाफ़ कुछ और मुद्दे खोज कर निकाले जाएँगे, ताकि उन्हें फिर से किसी बहाने बाहर निकाला जा सके। ‘ग्रिवांस एड्रेसल सेल’ में भी कमिश्नर, एमएस और उनके लोग ही बैठे हुए हैं। ऐसे में वहाँ से न्याय की उम्मीद ही नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘शर्म आनी चाहिए 370 पर इतना बड़ा झूठ बोलते हुए…’: दिग्विजय सिंह को कश्मीरी एक्टिविस्ट डॉ अग्निशेखर ने लताड़ा

डॉ अग्रनिशेखर ने दिग्विजय सिंह की निंदा की। साथ ही अपनी व तमाम कश्मीरी पंडितों की ओर कॉन्ग्रेसी नेता के बयान का खंडन कर इसे बिलकुल गलत बताया।

‘राजस्थान में गहलोत सरकार करा रही पायलट खेमे के विधायकों की फोन टैपिंग और जासूसी’: MLA वेद प्रकाश सोलंकी

सोलंकी ने कहा कि इस मामले के सामने आने के बाद विधायकों में दहशत है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ लोकतंत्र के लिए ये सब ठीक नहीं है।

‘आग लगाओ आग’: मेवात में जुनैद की मौत के बाद भीड़ ने किया पुलिस पर हमला; लाठी-डंडे-पत्थर फेंकने के बाद लगाई आग

“मेवात में आज जुनैद के मौत के बाद पुलिस वालों को शांतिदूतों ने मारा पीटा थाने को आग के हवाले कर दिया पुलिस की गाड़ियों को तोड़ा फोड़ा गया।”

‘किसान’ आंदोलन में गैंगरेप, बात दबाने के लिए शव यात्रा: 2 महिलाओं ने भी नहीं की पीड़िता की मदद

गैंगरेप की बात को लेकर 'किसान' आंदोलन में महिलाओं ने भी पीड़िता को धोखा दिया। उन्होंने पीड़िता की आपबीती का वीडियो बनाकर...

न जॉब रही, न कार्टून बिक रहे… अब PM मोदी को कोस रहे: ट्विटर के मेल के सहारे वामपंथी मीडिया का प्रपंच

मंजुल के सहयोगी ने बताया कि मंजुल अपने इस गलत फैसले के लिए बाहरी कारणों को दोष दे रहे हैं और आशा है कि जो पब्लिसिटी उन्हें मिली है उससे अब वो ज्यादा पैसे कमा रहे होंगे।

UP के ‘ऑपरेशन’ क्लीन में अतीक गैंग की ₹46 करोड़ की संपत्ति कुर्क, 1 साल में ₹2000 करोड़ की अवैध प्रॉपर्टी पर हुई कार्रवाई

पिछले 1 हफ्ते में अतीक गैंग के सदस्यों की 46 करोड़ रुपए की संपत्ति कुर्क की गई और अब आगे 22 सदस्य ऐसे हैं जिनकी कुंडली प्रयागराज पुलिस लगातार खंगाल रही है।

प्रचलित ख़बरें

सस्पेंड हुआ था सुशांत सिंह का ट्रोल अकाउंट, लिबरलों ने फिर से करवाया रिस्टोर: दूसरों के अकाउंट करवाते थे सस्पेंड

जो दूसरों के लिए गड्ढा खोदता है, वो उस गड्ढे में खुद गिरता है। सुशांत सिंह का ट्रोल अकाउंट @TeamSaath के साथ यही हुआ।

सुशांत ड्रग एडिक्ट था, सुसाइड से मोदी सरकार ने बॉलीवुड को ठिकाने लगाया: आतिश तासीर की नई स्क्रिप्ट, ‘खान’ के घटते स्टारडम पर भी...

बॉलीवुड के तीनों खान-सलमान, शाहरुख और आमिर के पतन के पीछे कौन? मोदी सरकार। लेख लिखकर बताया गया है।

‘भाईजान’ के साथ निकाह से इनकार, बॉयफ्रेंड संग रहना चाहती थी समन अब्बास, अब खेत में दफन? – चचेरा भाई गिरफ्तार

तथाकथित ऑनर किलिंग में समन अब्बास के परिवार वालों ने उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी और उसके शव को खेत में दफन कर दिया?

‘तुम्हारी लड़कियों को फँसा कर रोज… ‘: ‘भीम आर्मी’ के कार्यकर्ता का ऑडियो वायरल, पंडितों-ठाकुरों को मारने का दावा

'भीम आर्मी' के दीपू कुमार ने कहा कि उसने कई ब्राह्मण और राजपूत लड़कियों का बलात्कार किया है और पंडितों और ठाकुरों को मौत के घाट उतारा है।

नुसरत जहाँ की बेबी बंप की तस्वीर आई सामने, यश दासगुप्ता के साथ रोमांटिक फोटो भी वायरल

नुसरत जहाँ की एक तस्वीर सामने आई है, जिसमें उनकी बेबी बंप साफ दिख रहा है। उनके पति निखिल जैन पहले ही कह चुके हैं कि यह उनका बच्चा नहीं है।

11 साल से रहमान से साथ रह रही थी गायब हुई लड़की, परिवार या आस-पड़ोस में किसी को भनक तक नहीं: केरल की घटना

रहमान ने कुछ ऐसा तिकड़म आजमाया कि सजीथा को पूरे 11 साल घर में भी रख लिया और परिवार या आस-पड़ोस तक में भी किसी को भनक तक न लगी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
103,451FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe