Tuesday, July 16, 2024
Homeदेश-समाजचीन-जापान से आने वालों के लिए RT-PCR टेस्ट, क्वारंटाइन वाला नियम भी वापस आया:...

चीन-जापान से आने वालों के लिए RT-PCR टेस्ट, क्वारंटाइन वाला नियम भी वापस आया: चीन में 1 दिन में 3.70 करोड़ हो सकते हैं कोरोना पॉजिटिव

पिछले 24 घंटों में देश भर में कोरोना के 201 नए मामले सामने आए हैं। वहीं चीन में हालात बिगड़ते जा रहे हैं। चीन के लगभग सभी बड़े शहर कोरोना की चपेट में हैं।

चीन के साथ-साथ जापान और अमेरिका समेत दुनिया के अन्य देशों में भी कोरोना के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है। ऐसे में भारत में भी लोगों से सतर्कता बरतने की अपील की जा रही है। भले ही हमारे देश में कोरोना के मामले में उछाल नहीं देखा गया है, लेकिन कोविड के खतरे से इनकार भी नहीं किया जा सकता। यही वजह है कि केंद्र सरकार अलर्ट मोड में आ गई है।

शुक्रवार (23 दिसंबर, 2022) को कोरोना वायरस को लेकर केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ मीटिंग की। इस दौरान केंद्र ने ट्रिपल टी (टेस्टिंग, ट्रेसिंग और ट्रीटमेंट) का फॉर्मूला दिया। सरकार ने राज्य सरकारों से केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी किए गए एडवाइजरी का कड़ाई से पालन करवाने की अपील की है। सरकार ने 27 दिसंबर, 2022 से सभी राज्यों को मॉकड्रिल करने की अपील की है।

शनिवार (24 दिसंबर, 2022) को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कुछ नए दिशानिर्देशों की घोषणा की है। विदेश से आने वाले यात्रियों की एयरपोर्ट पर जाँच अनिवार्य कर दी गई है। सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन्स के मुताबिक, 12 साल से कम उम्र के बच्चों को रैंडम कोरोना वायरस टेस्ट से छूट दी गई है। गाइडलाइन्स के मुताबिक, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, हॉन्गकॉन्ग और थाईलैंड से भारत आने वाले यात्रियों के लिए RT-PCR टेस्ट जरूरी कर दी गई है।

इस दौरान यदि किसी यात्री में कोरोना के लक्षण मिले तो उन्हें आइसोलेशन में रखा जाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से यह भी कहा गया है कि एयरपोर्ट पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी होगा। साथ ही एयरपोर्ट पर थर्मल स्क्रीनिंग भी की जाएगी।

पिछले 24 घंटों में देश भर में कोरोना के 201 नए मामले सामने आए हैं। वहीं चीन में हालात बिगड़ते जा रहे हैं। चीन के लगभग सभी बड़े शहर कोरोना की चपेट में हैं। अस्पतालों में लोग बेड के लिए तरस रहे हैं। ‘ब्लूमबर्ग’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, चीन में लगभग 37 मिलियन, यानी 3 करोड़ 70 लाख लोग एक ही दिन में कोरोना पॉजिटिव हो सकते हैं। अनुमान के मुताबिक चीन दुनिया के अब तक के सबसे बुरे हालात का सामना करने जा रहा है।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग की हुई एक बैठक के हवाले से बताया गया है कि दिसंबर के पहले 20 दिनों में लगभग 24.8 करोड़ लोग, या लगभग 18 प्रतिशत आबादी के वायरस से संक्रमित होने की संभावना है। ख़बरें हैं कि चीन में कोरोना पॉजिटिव आने वाले ऐसे लोगों को काम पर जाने की इजाजत दी गई है जिनमें कोरोना के लक्षण नहीं हैं। इससे हालात बिगड़ने का अनुमान लगाया जा रहा है। यदि अनुमान सही साबित होते हैं तो चीन में संक्रमण दर जनवरी 2022 में स्थापित लगभग 40 लाख के पिछले दैनिक रिकॉर्ड को तोड़ देगी।

ब्रिटेन स्थित रिसर्च कंपनी एयरफिनिटी (Airfinity) ने भी दावा किया है कि चीन में हर दिन कोरोना इंफेक्शन (Corona) के लगभग 10 लाख नए मामले आ रहे हैं। वहीं, हर रोज 5000 लोगों की मौत हो रही है। एयरफिनिटी का दावा है कि उसने चीन के क्षेत्रीय आँकड़ों के आधार पर अपनी रिपोर्ट तैयार की है। फर्म का दावा है कि चीन में मौजूदा दैनिक संक्रमण एक मिलियन (10 लाख) से अधिक है, जो जनवरी के आखिर तक 37 लाख तक पहुँच सकती है। एयरफिनिटी का अंदाजा है कि कोरोना के इस लहर से चीन में 10 लाख से भी ज्यादा लोगों की मौत हो सकती है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘जम्मू-कश्मीर की पार्टियों ने वोट के लिए आतंक को दिया बढ़ावा’: DGP ने घाटी के सिविल सोसाइटी में PAK के घुसपैठ की खोली पोल,...

जम्मू कश्मीर के DGP RR स्वेन ने कहा है कि एक राजनीतिक पार्टी ने यहाँ आतंक का नेटवर्क बढ़ाया और उनके आका तैयार किए ताकि उन्हें वोट मिल सकें।

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -