Thursday, July 25, 2024
Homeदेश-समाजएनकाउंटर में मारा गया ₹1 लाख का इनामी बदमाश जावेद, दिल्ली पुलिस के जवान...

एनकाउंटर में मारा गया ₹1 लाख का इनामी बदमाश जावेद, दिल्ली पुलिस के जवान की हत्या में था वॉन्टेड

दिल्ली पुलिस के सिपाही मनीष यादव की हत्या का मुख्य आरोपित था जावेद। जब दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल और यूपी पुलिस ने जावेद की कार को रोका तो वो फायरिंग करने लगे। इसके बाद...

उत्तर प्रदेश के बागपत में पुलिस और अपराधियों के बीच मुठभेड़ हुई। ये मुठभेड़ बिनौली पुलिस चौकी से कुछ दूर स्थित बाईपास पर मंगलवार (फ़रवरी 2, 2021) की देर रात हुई। दोनों ओर से हुई गोलीबारी में 1 लाख का इनामी बदमाश जावेद मारा गया। बड़ौत क्षेत्र में मारा गया जावेद दिल्ली पुलिस के एक सिपाही की हत्या के मामले में पहले से ही वॉन्टेड था। घटनास्थल से कार्बाइन और पिस्तौल भी बरामद हुई है।

कोतवाल अजय कुमार शर्मा ने जानकारी दी है कि वो पुलिस टीम के साथ रात को बिनौली रोड पर वाहनों की चेकिंग करने में लगे हुए थे। दिल्ली पुलिस के सब इंस्पेक्टर आदेश भी उनके ही साथ थे। तभी वहाँ से एक सेंट्रो कार गुजरी। जब पुलिस ने उसे रोकने का प्रयास किया तो उसमें बैठे अपराधी फायरिंग करने लगे। इसके बाद वो कार लेकर आगे भाग गए। पुलिस ने भी जवाबी गोलीबारी की, जिसमें एक अपराधी को गोली लगी और वो घायल हो गया।

घायल अपराधी को पुलिस ने अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया, जहाँ डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। उसके पास से कार्बाइन, पिस्टल और 50 कारतूस बरामद किए गए हैं। इस मुठभेड़ में पुलिस अधिकारी भी बाल-बाल बचे। कोतवाल अजय कुमार शर्मा और सब-इंस्पेक्टर आदेश की बुलेटप्रूफ जैकेट में भी गोली धँस गई। मृत अपराधी जावेद गाजियाबाद के लोनी का रहने वाला था। उस पर कई मामले दर्ज हैं।

बागपत मुठभेड़ में मारा गया जावेद अक्टूबर 2020 में सिंघावली थाना क्षेत्र में दिल्ली पुलिस के सिपाही मनीष यादव की हत्या के मामले में मुख्य आरोपित था। वो मेरठ के जानी थाना क्षेत्र के डालूहेड़ा गाँव के रहने वाले थे। वो दिल्ली से बाइक पर अपने घर लौट रहे थे, तभी उनकी हत्या कर दी गई थी। इसी मामले में जावेद पर 1 लाख रुपए का इनाम रखा गया था। उस पर 20 मामले दर्ज थे। उसका साथी फरार होने में कामयाब रहा, जिस पर 50 हजार रुपए का इनाम था।

अब मुठभेड़ में मारे गए जावेद के पोस्टमॉर्टम की प्रक्रिया पूरी की जा रही है। वहीं उसके साथ की तलाश में पुलिस ने कई जगहों पर दबिश दी है, लेकिन वो अब तक हत्थे नहीं चढ़ सका है। दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल और यूपी पुलिस ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया। स्पेशल टीम के भी सभी पुलिसकर्मी मेरठ के ही निवासी हैं। स्पेशल सेल की टीम में इंस्पेक्टर शिव कुमार, दरोगा अनिल ढाका, राजेश शर्मा, आदेश यादव और अनिल चड्ढा शामिल थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘दरबार हॉल’ अब कहलाएगा ‘गणतंत्र मंडप’, ‘अशोक हॉल’ बना ‘अशोक मंडप’: महामहिम द्रौपदी मुर्मू का निर्णय, राष्ट्रपति भवन ने बताया क्यों बदला गया नाम

राष्ट्रपति भवन ने बताया है कि 'दरबार' का अर्थ हुआ कोर्ट, जैसे भारतीय शासकों या अंग्रेजों के दरबार। बताया गया है कि अब जब भारत गणतंत्र बन गया है तो ये शब्द अपनी प्रासंगिकता खो चुका है।

जिसका इंजीनियर भाई एयरपोर्ट उड़ाने में मरा, वो ‘मोटू डॉक्टर’ मारना चाह रहा था हिन्दू नेताओं को: हाई कोर्ट से माँग रहा था रहम,...

कर्नाटक हाई कोर्ट ने आतंकी मोटू डॉक्टर को राहत देने से इनकार कर दिया है। उस पर हिन्दू नेताओं की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -