Wednesday, July 24, 2024
Homeदेश-समाजलाश, कुत्ते, डिलीवरी ब्वॉय… ऐसे खुला रेणुका स्वामी की हत्या का राज, छिपाने के...

लाश, कुत्ते, डिलीवरी ब्वॉय… ऐसे खुला रेणुका स्वामी की हत्या का राज, छिपाने के लिए एक्टर दर्शन ने दिए थे ₹30 लाख: ऑटोप्सी रिपोर्ट से नए खुलासे

गिरफ्तारी के बाद दर्शन ने का था कि उसने हत्या की रात पहने कपड़े उसके घर पर छोड़े थे। ऐसे में पुलिस दर्शन को घर लेकर गई, जहाँ छानबीन में पहले कुछ नहीं मिला। बाद में टेरेस पर देखा तो वहाँ कपड़ों को धोकर सूखने के लिए डाल दिया गया था।

कर्नाटक के फैन हत्याकांड मामले में कुछ नए खुलासे हुए हैं। सबसे पहले तो रेणुका स्वामी की ऑटोप्सी रिपोर्ट से पता चला है कि रेणुका को अपहरण के बाद मार-मारकर इतना टॉर्चर किया गया था कि उसके शरीर से अत्यधिक खून बहने के कारण वो शॉक में चला गया था और उसका हैमरेज हो गया था। इसके अलावा इस मामले में पुलिस की जाँच से ये भी सामने आया है कि आरोपितों ने हत्या के बाद खून से सने कपड़े बदलने के लिए रिलायंस स्टोर से जाकर कपड़े खरीदे थे। पुलिस ने एक्टर के कपड़े और अन्य सबूत उसके आरआर नगर स्थित आवास से किए हैं।

गिरफ्तारी के बाद दर्शन ने बताया था कि उसने हत्या की रात पहने कपड़े उसके घर पर छोड़े थे। ऐसे में पुलिस दर्शन को घर लेकर गई, जहाँ छानबीन में पहले कुछ नहीं मिला। बाद में टेरेस पर देखा तो वहाँ कपड़ों को धोकर सूखने के लिए डाल दिया गया था। पुलिस ने सारे कपड़े, जूते भी घर से बरामद किए हैं। दर्शन की रिमांड कॉपी से ये भी जानकारी सामने आ रही है कि अभिनेता ने इस मामले में अपने नाम को रफा-दफा कराने के लिए आरोपित प्रदोष को कुल 30 लाख रुपए दिए थे। इस रकम में बाकी आरोपितों को दी गई 5-5 लाख रुपए की राशि भी सम्मिलित थी। पुलिस को पड़ताल में आरोपितों के घर से इन रुपयों में से कुछ रुपए बरामद भी हुए हैं।

वहीं आरोपितों ने पूछताछ में बताया है कि उन्होंने रेणुका स्वामी को पीटने के लिए लाठी, पेड़ की टूटी छड़ और बोतल का इस्तेमाल किया था। छानबीन में घटनास्थल से पुलिस को रेणुकास्वामी के कपड़े बरामद हुए हैं। पुलिस ने घटना को अंजाम देने के लिए प्रयोग में लाई गई स्कॉर्पियो भी जब्त कर ली है। कार की बैक सीट पर खून के धब्बे मिले हैं। पुलिस ने अब तक कुल 10 फोन को फॉरेंसिक जाँच के लिए भेजा है।

ये भी मालूम चला है कि आरोपित प्रदोश और राघवेंद्र ने मृतक के मोबाइल फोन को नाले में फेंक सबूत मिटाने की कोशिश की। इसके बाद राघवेंद्र ने मृतक के कपड़ों को आरआर नगर की खाली जगह पर ठीकाने पर लगाया। इसके बाद शव को भी नाले के पास फेंक दिया गया, जिसे कुत्तों को नोचते एक फूड डिलीवरी ब्वॉय ने देखा और फिर उसने इस संबंध में जानकारी दी, तब जाकर मामला खुला।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एंजेल टैक्स’ खत्म होने का श्रेय लूट रहे P चिदंबरम, भूल गए कौन लेकर आया था: जानिए क्या है ये, कैसे 1.27 लाख StartUps...

P चिदंबरम ने इसके खत्म होने का श्रेय तो ले लिया, लेकिन वो इस दौरान ये बताना भूल गए कि आखिर ये 'एंजेल टैक्स' लेकर कौन आया था। चलिए 12 साल पीछे।

पत्रकार प्रदीप भंडारी बने BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता: ‘जन की बात’ के जरिए दिखा चुके हैं राजनीतिक समझ, रिपोर्टिंग से हिला दी थी उद्धव...

उन्होंने कर्नाटक स्थित 'मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी' (MIT) से इलेक्ट्रॉनिक एवं कम्युनिकेशंस में इंजीनियरिंग कर रखा है। स्कूल में पढ़ाया भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -