Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजमदरसे में पढ़ने जाता था 12 साल का बच्चा, बेहोश करके सेक्स करता था...

मदरसे में पढ़ने जाता था 12 साल का बच्चा, बेहोश करके सेक्स करता था मौलवी: दिल्ली का मामला, पुलिस को मोहम्मद इसरान की तलाश

उधर झारखंड से भी 12 दिसंबर 2022 को ऐसा ही एक मामला सामने आया था, जहाँ मदरसा के इमाम ने आठ साल की बच्ची के साथ बलात्कार किया था। इस घटना के सामने आने के बाद पुलिस ने आरोपित मौलाना को गिरफ्तार कर लिया था।

दिल्ली के सराय रोहिल्ला इलाके में मोहम्मद इसरान नाम का एक मौलवी ने मदरसे में पढ़ने वाले लड़के के साथ कुकर्म किया है। मौलवी पर आरोप है कि उसने लड़के को बेहोश करके कई बार उसके साथ कुकर्म किया। पुलिस ने मामला दर्जकर बलात्कारी मौलवी की तलाश शुरू कर दी है।

मोहम्मद इसरान जिस बच्चे को अपनी हवस का शिकार बना रहा था, उसकी उम्र 12 साल है। उत्तर दिल्ली के DCP सागर सिंह कलसी ने बताया कि छात्र को बेहोश करके मौलवी अप्राकृतिक सेक्स करता था। आरोपित मौलवी पर पॉक्सो एक्ट और IPC की धारा 377/506 के तहत मामला दर्ज किया गया है। फिलहाल मौलवी फरार है।

यह पहला मौका नहीं है जब राजधानी दिल्ली से इस तरह की खबर सामने आई है। इसके पहले 13 अक्टूबर 2022 को भी ऐसा ही एक मामला सामने आया था। दिल्ली के करावल नगर स्थित मदीना मस्जिद के मौलाना ने भी 11 साल के एक बच्चे के साथ अप्राकृतिक दुष्कर्म किया था।

बच्चे के घरवाले को इसका पता तब लगा जब बच्चा मदरसे से भाग कर घर पहुँचा और अपने परिवारवालों को आपबीती बताई। बच्चे की माता ने पुलिस को दिए अपने बयान में कहा था कि 11 अक्टूबर 2022 को उसका बेटा मदरसे से भाग निकला और घर पहुँच गया। इसके बाद घरवालों के सामने बच्चे ने मौलाना मोहम्मद जावेद की काली करतूत का खुलासा किया।

बच्चे ने अपने परिजनों को बताया कि अगस्त महीने में जब स्वतंत्रता दिवस की तैयारी चल रही थी, तब मौलाना मोहम्मद जावेद ने बच्चे को अपने कमरे में बुलाकर दुष्कर्म किया। मौलाना ने बच्चे को डरा-धमका कर कई बार उसके साथ रेप किया।

उधर झारखंड से भी 12 दिसंबर 2022 को ऐसा ही एक मामला सामने आया था, जहाँ मदरसा के इमाम ने आठ साल की बच्ची के साथ बलात्कार किया था। इस घटना के सामने आने के बाद पुलिस ने आरोपित मौलाना को गिरफ्तार कर लिया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -