Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजकन्हैया मित्तल पर पंजाब में ईसाई संगठनों ने दर्ज कराई FIR, कहा- चर्च में...

कन्हैया मित्तल पर पंजाब में ईसाई संगठनों ने दर्ज कराई FIR, कहा- चर्च में आ कर माँगे माफी: भजन गायक ने आरोपों को बताया सनातन की सेवा से हटाने की साजिश

कन्हैया मित्तल का कहना है कि उनके खिलाफ शिकायत करने वाले पास्टर आम आदमी पार्टी से जुड़े हुए हैं। लेकिन पास्टर ने इससे इनकार किया है। कहा है कि मित्तल को चर्च आकर माफी माँगनी होगी।

प्रसिद्ध भजन गायक कन्हैया मित्तल के खिलाफ पंजाब के जालंधर में ईसाई संगठनों की शिकायत पर FIR दर्ज की गई है। उन पर ईसाई मत को नीचा दिखाने और अपमानित करने का आरोप लगाया है। भजन गायक ने इसे अपने खिलाफ साजिश करार दिया है।

FIR मंगलवार (26 सितंबर 2023) को दर्ज की गई। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह केस जालंधर के थाना लांबड़ा में दर्ज किया गया है। शिकायतकर्ता पंजाब क्रिश्चियन लीडरशिप के चेयरमैन पास्टर हरजोत सेठी और पंजाब के अध्यक्ष सुरजीत थापर हैं।

FIR में कन्हैया मित्तल के दिल्ली के रोहिणी इलाके में 12 अगस्त 2023 को हुए एक कार्यक्रम का जिक्र है। आरोप है कि इस कार्यक्रम में कन्हैया मित्तल ने ईसामसीह को छोटा साबित करने के लिए आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया था। इस कायर्क्रम की वीडियो क्लिप भी सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। शिकायतकर्ताओं ने खुद को कन्हैया मित्तल के शब्दों से आहत बताया है।

पुलिस को दी गई शिकायत में इस बात का भी जिक्र है कि कन्हैया मित्तल लोगों से 25 दिसंबर यानी क्रिसमस के दिन तुलसी का पौधा लगाने की अपील करते हैं। मित्तल के भाषणों की वीडियो क्लिप भी शिकायतकर्ताओं ने पेन ड्राइव में अपलोड कर पुलिस को सौंपी है। पंजाब पुलिस ने पेश सबूतों को पर्याप्त मानते हुए IPC की धारा 295- A के तहत केस दर्ज किया है। आगे की जाँच के लिए केस दिल्ली पुलिस को ट्रांसफर कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि कन्हैया मित्तल ने अपने कायर्क्रम में महादेव शिव को ईसा मसीह का भी पिता कहा था।

ऑपइंडिया ने इस मामले में विस्तृत जानकारी के लिए जालंधर पुलिस को सम्पर्क करने की कई बार कोशिश की। लेकिन बात नहीं हो पाई। ऑपइंडिया ने इस मामले में भजन गायक कन्हैया मित्तल से भी बात की। उन्होंने इन आरोपों को राजनीति से प्रेरित बताया। कहा कि सनातन का कार्य करने से उन्हें रोकने के लिए ये साजिश रची जा रही है। लेकिन वे आजीवन हिन्दू धर्म के प्रति समर्पित रहेंगे। उसकी सेवा करते रहेंगे।

उन्होंने यह भी बताया कि जालंधर पुलिस कमिश्नर की कॉल आने के बाद उन्होंने वीडियो बना कर क्षमा याचनी की थी। इससे ईसाइयों का एक धड़ा संतुष्ट भी था।

केस के पीछे AAP नेता

कन्हैया मित्तल ने हमें बताया कि जिस हरजोत सेठी की शिकायत पर उनके ऊपर FIR दर्ज हुई है, वह आम आदमी पार्टी (AAP) का नेता है। भजन गायक ने आरोपों से खुद के बेहद आहत बताते हुए सरकार से संरक्षण की माँग की है।

हरजोत कर रहे इंकार पर फेसबुक पर AAP का प्रचार

ऑपइंडिया ने पास्टर हरजोत सेठी से भी बात की। उन्होंने आप के साथ संबंधों से इनकार किया है। उन्होंने कहा, “मैं एक पादरी हूँ और मेरा काम राजनीति के बजाय ईसाइयत की शिक्षा देना है।” हालाँकि जब हमने हरजोत सिंह की फेसबुक प्रोफ़ाइल खंगाली तो आम आदमी पार्टी के पोस्टरों में बाकायदा उनकी फोटो दिखी। 3 जुलाई 2021 को शेयर की गई एक तस्वीर को तो उन्होंने बाकायदा कवर फोटो भी बना रखा है।

इसके अलावा भी कई अन्य फेसबुक पोस्ट में पास्टर हरजोत सेठी आम आदमी जिंदाबाद का हैशटैग भी दिए हैं।

चर्च में आ कर माफ़ी माँगे कन्हैया मित्तल

हरजोत सेठी ने ऑपइंडिया से बात करते हुए यह भी बताया कि कन्हैया मित्तल जिस कथित माफ़ी माँगे जाने का दावा कर रहे हैं वो वीडियो किसी कार में बैठ कर बनाई गई है। ऐसी वीडियो को स्वीकार न किए जाने की बात कहते हुए हरजोत सेठी ने कहा कि कन्हैया मित्तल को चर्च में आ कर माफ़ी माँगनी चाहिए। उन्होंने पुलिस से कन्हैया मित्तल की गिरफ्तारी की माँग की।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -