Wednesday, July 17, 2024
Homeदेश-समाजUP: ग्राम प्रधान शहनाज परवीन की शपथ पर आतिशबाजी, शौहर नजाकत अली सहित 40...

UP: ग्राम प्रधान शहनाज परवीन की शपथ पर आतिशबाजी, शौहर नजाकत अली सहित 40 पर FIR

कोरोना की वजह से पंचायत चुनाव जीतने वाले ग्राम प्रधानों को वर्चुअल माध्यम से शपथ दिलाई गई। लेकिन शपथ के बाद कोविड प्रोटोकॉल का लिहाज नहीं रखा गया।

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण को नियंत्रित करने के प्रयास लगातार चल रहे हैं। इन्हीं प्रयासों के चलते पंचायत चुनाव जीतने वाले ग्राम प्रधानों को वर्चुअल माध्यम से शपथ दिलाई गई। हालाँकि मुरादाबाद के पाकबड़ा में शपथ लेने के बाद कोविड प्रोटोकॉल का जमकर उल्लंघन किया गया। इसके बाद ग्राम प्रधान शहनाज परवीन के पति समेत 40 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

खबरों के मुताबिक घटना मुरादाबाद के पाकबड़ा थाना क्षेत्र के रतनपुर कलाँ गाँव की बताई जा रही है। रतनपुर कलाँ गाँव की प्रधान शहनाज परवीन के शपथ लेने के बाद उनके समर्थकों ने देर रात तक जमकर आतिशबाजी की और Covid-19 के प्रोटोकॉल्स का उल्लंघन किया। लॉकडाउन के उल्लंघन के मामले में पुलिस ने परवीन के पति नजाकत अली समेत 40 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।

आपको बता दें की Covid-19 महामारी के चलते पहली बार उत्तर प्रदेश में नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों और पंचायत सदस्यों के लिए शपथ ग्रहण समारोह वर्चुअली आयोजित करने का निर्देश दिया गया था। इसके लिए ग्राम सभाओं में व्यवस्था भी की गई थी। साथ ही शुक्रवार (28 मई) को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी वर्चुअल माध्यम से ही नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों से संवाद किया।

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के प्रयासों के कारण आज प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार थम रही है। पिछले 24 घंटों में राज्य में मात्र 2402 संक्रमण के नए मामले सामने आए। वर्तमान में उत्तर प्रदेश में संक्रमण के सक्रिय मरीजों की संख्या लगभग 50,000 ही रह गई है। नए आँकड़ों के मुताबिक राज्य में 2 ऐसे जिले हैं जहाँ संक्रमण का कोई केस नहीं मिला, जबकि 16 जिलों में मामलों की संख्या 10 से कम और 53 जिलों में संक्रमण के मामलों की संख्या 100 से कम है। सिर्फ 4 जिले ही ऐसे हैं जहाँ संक्रमित मरीजों की संख्या 100 से अधिक रही।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -