‘राम के नाम पर बनी है सरकार, जल्द ही होगा भव्य राम मंदिर का निर्माण’

"भगवान राम के आशीर्वाद से ही भाजपा को प्रचंड बहुमत मिला है। सरकार पहले चरण में कश्मीर की धारा 370 और 35 ए को खत्म करेगी, इसके बाद राम मंदिर का निर्माण शुरू करेगी।"

भाजपा की जीत के ठीक दस दिन बाद अयोध्या में संतों ने राम मंदिर निर्माण को लेकर सोमवार (जून 3, 2019) को मणिराम दास की छावनी में बैठक की। इस बैठक की अध्‍यक्षता रामजन्मभूमि न्यास अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास द्वारा की गई। इस दौरान मंदिर बनाने के वैकल्पिक रास्तों पर चर्चा हुई। सभी संतों ने मंदिर के निर्माण में देरी न हो, इसे लेकर एकमत राय दी। बैठक में कहा गया कि ये समय इस विषय पर फैसला लेने का सही समय है, क्योंकि राम के नाम पर ही सरकार बनी है।

इस बैठक में राम मंदिर निर्माण के मुद्दे को 15 जून को होने वाले ‘संत सम्मेलन’ में उठाने का निर्णय लिया गया। साथ ही सलाह दी गई कि जरूरत पड़े तो संतों के प्रतिनिधिमंडल को प्रधानमंत्री से मिलकर इस मुद्दे पर बात करनी चाहिए। महांत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी कमल नयन दास ने इंडियन एक्सप्रेस से हुई बातचीत में बताया है कि चुनाव खत्म हो चुके हैं। राम के नाम पर और राम का नाम लेने से सरकार का भी निर्माण हो चुका है। ऐसे में अब समय आ गया है कि राम के नाम पर काम भी किया जाए।

बैठक में शामिल हुए विश्व हिंदू परिषद के नेताओं ने संतों को आश्वस्त किया कि अब सब कुछ ठीक चल रहा है। उन्होंने ये भी कहा कि मंदिर निर्माण के लिए बहुत ज्यादा प्रतीक्षा नहीं करनी पड़ेगी। जल्द ही भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

न्यास के वरिष्ठ सदस्य रामविलास वेदांती ने इस दौरान कहा कि राम मंदिर को लेकर इस वर्ष यह संतों की पहली बैठक है। उनका कहना है कि भगवान राम के आशीर्वाद से ही भाजपा को प्रचंड बहुमत मिला है। उनके मुताबिक सरकार पहले चरण में कश्मीर की धारा 370 और 35 ए को खत्म करेगी, इसके बाद राम मंदिर का निर्माण शुरू करेगी। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट राम मंदिर के पक्ष में फैसला सुनाएगा क्योंकि खसरा और खतौनी दोनों ही राम के नाम पर है।

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक मणिराम छावनी के महंत कमल नारायण ने इस बैठक के बारे में कहा कि बैठक हालाँकि महंत नृत्य गोपाल दास के जन्मदिवस समारोह के लिए आयोजित हुई थी, लेकिन इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि जब संत आपस में मिलते हैं तो राम मंदिर का मुद्दा उठता है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कश्मीरी पंडित, सुनंदा वशिष्ठ
"उस रात इस्लामी आतंकियों ने 3 विकल्प दिए थे - कश्मीर छोड़ दो, धर्मांतरण कर लो, मारे जाओ। इसके बाद गिरिजा टिक्कू का सामूहिक बलात्कार कर टुकड़ों में काट दिया। बीके गंजू को गोली मारी और उनकी पत्नी को खून से सने चावल (वो भी पति के ही खून से सने) खाने को मजबूर किया।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

113,599फैंसलाइक करें
22,628फॉलोवर्सफॉलो करें
119,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: