Friday, May 24, 2024
Homeदेश-समाजहल्द्वानी में खुद की ही गोली से मरा फईम कुरैशी, चश्मदीद ने किया खुलासा:...

हल्द्वानी में खुद की ही गोली से मरा फईम कुरैशी, चश्मदीद ने किया खुलासा: हिंदुओं को पीटने वाली भीड़ में शामिल था मृत मुस्लिम युवक का भाई

हल्द्वानी हिंसा की बहुत सारी वीडियो सोशल मीडिया पर देखने को मिल रही है। इन्हीं में से एक में दिख रहा है कि बनभूलपुरा में हिंसा की शुरुआत से पहले मुस्लिम भीड़ एक हिंदू युवक को पकड़कर उसको पीट रही है। दावा है कि हल्द्वानी हिंसा के समय जो फायरिंग हुई उसमें उसका भाई भी मरा है। कुछ लोग जहाँ इस मौत पर पुलिस को बदनाम कर रहे हैं वहीं चश्मदीदों का कहना कुछ और ही है।

हल्द्वानी हिंसा की एक्सक्लूसिव वीडियो ऑपइंडिया को मिल गई हैं। इनमें से एक में दिख रहा है कि बनभूलपुरा में हिंसा की शुरुआत से पहले एक जगह मुस्लिम भीड़ एक हिंदू युवक को पकड़कर उसको पीट रही है। इस भीड़ में एक हरी टीशर्ट में युवक भी दिख रहा है। दावा है कि हल्द्वानी हिंसा के समय जो फायरिंग हुई उसमें उसका भाई फईम कुरैशी (26) भी मरा है। कुछ लोग जहाँ इस मौत पर पुलिस को बदनाम कर रहे हैं वहीं चश्मदीदों का कहना कुछ और ही है।

ऑपइंडिया को प्राप्त वीडियो में फईम कुरैशी पुलिस को हाथ दिखाते दिख रहा था। वहीं उसका भाई हिंदू युवक को पीटने वाली भीड़ में शामिल था। हमने जब चश्मदीदों से घटना पर बात की तो गाँधी नगर में एक दलित समुदाय के युवक ने बताया- “जो मरे वो किसी की गोली से नहीं मरे। हुआ क्या कि जब वो गोली चला रहा था तो उसे उसकी ही गोली लग गई।”

नीचे वीडियो में आप चश्मदीद की बात सुन सकते हैं।

चश्मदीद के बयान के अलावा ऑपइंडिया के पास फईम कुरैशी की वीडियो भी मौजूद है जिसका जिक्र चश्मदीद ने किया। वीडियो में देख सकते हैं कि पीली शर्ट में वो लड़का पहले अपनी भीड़ के साथ सड़क के बीच में खड़ा होता है और फिर जाकर किनारे में खड़ा हो जाता है। जब पुलिस उसके सामने से गुजरती है तो वो उन्हें हाथ हिलाकर ललकारने वाले अंदाज में कुछ कहता दिखता है। वहीं बाकी भीड़ पुलिस को देखने लगती है।

बता दें कि हल्द्वानी में 8 फरवरी 2024 को एक अवैध मस्जिद हटाने की प्रक्रिया के दौरान इस्लामी कट्टरपंथियों की भीड़ ने पुलिस पर हमला किया था। पहले इस भीड़ ने पुलिस पर छतों से पत्थर फेंके थे, उसके बाद यह लोग पेट्रोल बम आदि लेकर सड़कों पर उतर आए थे। दंगाई भीड़ के पास असलहे भी थे। इन्होंने पुलिसकर्मियों को मारने और जलाने की कोशिश की थी। इसके अलावा थाने पर हमला करके उसे भी लूटा था। दंगाई भीड़ पर काबू पाने के बाद पुलिस ने इन पर कार्रवाई शुरू की तो अब तक इस मामले में 30 लोगों को गिरफ्तार किया है। पूरे प्रकरण में 3 एफआईआर दर्ज हुई हैं। सीसीटीवी आदि के माध्यम से बाकी आरोपितों को पकड़ने का प्रयास भी हो रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

राहुल पाण्डेय
राहुल पाण्डेयhttp://www.opindia.com
धर्म और राष्ट्र की रक्षा को जीवन की प्राथमिकता मानते हुए पत्रकारिता के पथ पर अग्रसर एक प्रशिक्षु। सैनिक व किसान परिवार से संबंधित।

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नाम – कृष्णा मोहिनी, जगह – द्वारका, एजेंडा – प्राइड मार्च वाला: Colors के सीरियल में LGBTQIA+ प्रोपेगंडा के लिए बच्चे का इस्तेमाल, लड़का...

सीरियल में जब बच्चा पूछता है कि 'प्राइड मार्च' क्या होता है, तो एक शख्स समझाता है कि वो लड़की पैदा हुई थी लेकिन उसे लड़के जैसा रहना पसंद है तो उसने खुद को लड़का बना दिया।

पहले दोस्ती की, फिर फ्लैट में ले गई… MP अनवारुल अजीम की हत्या में शिलांती रहमान पकड़ी गई, कसाई से कटवाया फिर हल्दी लगाकर...

बांग्लादेशी सांसद की हत्या मामला में वो महिला हिरासत में ले ली गई है जिसने उन्हें हनीट्रैप में फँसाकर फ्लैट में बुलवाया था। महिला का नाम शिलांती रहमान है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -