Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजमेवात में फँसी हजारों हिंदू महिलाओं को पुलिस ने निकाला: जलाभिषेक यात्रा पर कट्टरपंथी...

मेवात में फँसी हजारों हिंदू महिलाओं को पुलिस ने निकाला: जलाभिषेक यात्रा पर कट्टरपंथी मुस्लिमों के हमले के बाद इंटरनेट बंद, धारा 144 लागू

नूहं के एक शिव मंदिर में शरण लेने वाले लगभग 2,500 महिलाओं और बच्चों को पुलिस ने रेस्क्यू कर लिया है। कट्टरपंथी मुस्लिम आतंकियों द्वारा महिलाओं को लगभग 5 घंटे तक बंधक बनाकर रखा गया।

हरियाणा के मेवात में सावन महीने के सोमवार को हिंदू भक्तों की यात्रा पर कट्टरपंथी मुस्लिमों ने हमला किया। सोमवार (31 जुलाई 2023) को निकली इस यात्रा में विश्व हिंदू परिषद (VHP) के लोग भी भक्ति-भाव से शामिल थे। इस शोभायात्रा में हजारों की संख्या में महिलाएँ भी शामिल थीं। कट्टरपंथी मुस्लिम आतंकियों द्वारा महिलाओं को लगभग 5 घंटे तक बंधक बनाकर रखा गया। आखिरकार पुलिस ने उन्हें सकुशल निकाल लिया है।

मेवात के नूहं से शुरू हुई हिंसा गुरुग्राम के सोहना तक फैलने के बाद राज्य की भाजपा सरकार ने मेवात, गुरुग्राम, फरीदाबाद और रेवाड़ी जिलों में धारा 144 लागू कर दिया है। इसके साथ ही यहाँ इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई है। किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। नूहं में अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है।

वहीं, ब्रजमंडल जलाभिषेक यात्रा पर मुस्लिम भीड़ ने हमला कर इसमें हजारों की संख्या में शामिल हिंदू महिलाओं एवं उनके साथ छोटे बच्चों को घेर लिया था। ये महिलाएँ एक पहाड़ी इलाके में घिरी हुई थीं और उस इलाकों ने मुस्लिमों ने चारों तरफ से घेर रखा था। आखिर ADG ममता सिंह के नेतृत्व में कड़ी मशक्कत के बाद उन्हें निकाल लिया गया।

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने कहा कि नूहं के एक शिव मंदिर में शरण लेने वाले लगभग 2,500 महिलाओं और बच्चों को पुलिस ने रेस्क्यू कर लिया है। उन्होंने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की। वहीं, मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने कहा कि लोगों को ‘हरियाणा एक हरियाणवी एक’ के सिद्धांत को याद रखना चाहिए।

इस हिंसा में कई दर्जन गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया है। वहीं, फायरिंग में होमगार्ड के दो जवान और एक नागरिक की मौत हो गई है। मुस्लिमों की हिंसा में 20 से अधिक पुलिसकर्मियों के भी घायल होने की खबर है। होडल के डीएसपी सज्जन सिंह के सिर में गोली मारी गई। वहीं, एक इंस्पेक्टर के पेट में गोली लगी है। गो-तस्करी और लूटपाट के लिए कुख्यात मुस्लिम बहुल मेवात एरिया पर प्रशासन की नजर बनी हुई है।

कट्टरपंथी मुस्लिम आतंकियों के हमले को मीडिया में दबाने के लिए इसे मोनू मानेसर से जोड़ा जा रहा है। मीडिया रिपोर्टिंग के अनुसार बजरंग दल कार्यकर्ता मोनू मानेसर ने 30 जुलाई 2023 को एक वीडियो बनाकर लोगों से अपील की थी कि इस शोभायात्रा में अधिक से अधिक संख्या में शामिल हों। मोनू ने इस शोभायात्रा में खुद शामिल होने की बात कही थी, लेकिन वह शामिल नहीं हुआ था। मोनू मानेसर पर गो-तस्कर जुनैद और नासिर की हत्या का आरोप है।

आपको बता दें कि हरियाणा के मेवात के नूहं में सावन महीने के सोमवार को हिंदू भक्तों की इस यात्रा में भाजपा की जिला प्रमुख गार्गी कक्कड़ भी थीं। नूहं के खेडला मोड़ के पास मुस्लिमों ने इस यात्रा को रोक लिया। इसी बीच शोभायात्रा में शामिल लोगों पर पथराव और फायरिंग कर दिया गया और गाड़ियों में आग लगा दी गई।

यात्रा में शामिल करीब 2500 लोगों ने इलाके के नल्हड़ महादेव मंदिर में शरण ली। इसके बाद मुस्लिमों ने इसे चारों तरफ से घेर लिया। पत्रकार आदित्य राज कौल ने वीडियो शेयर कर दावा किया है कि नल्हड़ महादेव मंदिर में 2500 से अधिक लोग फँसे हुए हैं। वहीं, वीडियो में एक व्यक्ति कह रहा है कि मुस्लिमों ने 100 गाड़ियों को जला दिया और 3 लोगों को जिंदा जला दिया है। इसके बाद वह लोगों को बचाने की अपील करता सुना जा सकता है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शुक्र है मीलॉर्ड ने भी माना कि वो इंसान हैं! चाइल्ड पोर्नोग्राफी देखने को मद्रास हाई कोर्ट ने नहीं माना था अपराध, अब बदला...

चाइल्ड पोर्नोग्राफी को अपराध नहीं बताने वाले फैसले को मद्रास हाई कोर्ट के जज एम. नागप्रसन्ना ने वापस लिया और कहा कि जज भी मानव होते हैं।

आरक्षण के खिलाफ बांग्लादेश में धधकी आग में 115 की मौत, प्रदर्शनकारियों को देखते ही गोली मारने के आदेश: वहाँ फँसे भारतीयों को वापस...

बांग्लादेश में उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने के भी आदेश दिए गए हैं। वहाँ हिंसा में अब तक 115 लोगों की जान जा चुकी है और 1500+ घायल हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -