Sunday, July 21, 2024
Homeदेश-समाजFIR रद्द करने पर राजी हुआ प्रशासन, 'किसानों' ने कोविड प्रोटोकॉल की धज्जियाँ उड़ाते...

FIR रद्द करने पर राजी हुआ प्रशासन, ‘किसानों’ ने कोविड प्रोटोकॉल की धज्जियाँ उड़ाते हुए मनाया जश्न: वीडियो वायरल

कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन ये तथाकथित किसान इसे लेकर बिल्कुल भी गंभीर नहीं दिखाई दिए। वीडियो को करीब से देखने पर पता चलता है कि इनमें से किसी ने भी जश्न के दौरान ना तो मास्क पहना हुआ है और ना ही ये सभी कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते नजर आए।

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) ने सोमवार (24 मई 2021) को ट्विटर पर एक वीडियो साझा किया, जिसमें ‘किसान’ नाचते और जश्न मनाते नजर आ रहे हैं। बीकेयू ने कहा कि हिसार के फरीदपुर गाँव में तब से जश्न चल रहा है, जब से नगरीय प्रशासन ने किसानों के खिलाफ सभी एफआईआर को रद्द करने और उनके क्षतिग्रस्त वाहनों की मरम्मत करवाने के लिए हामी भरी है।

भारत में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन ये तथाकथित किसान इसे लेकर बिल्कुल भी गंभीर नहीं दिखाई दिए। वीडियो को करीब से देखने पर पता चलता है कि इनमें से किसी ने भी जश्न के दौरान ना तो मास्क पहना हुआ है और ना ही ये सभी कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते नजर आए।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने 16 मई को कोविड-19 रोगियों के लिए 500 बिस्तरों वाले अस्पताल के उद्घाटन के लिए हिसार का दौरा किया था। इसी दौरान बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी किसान कार्यक्रम स्थल में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे थे, जिसको लेकर पुलिसकर्मियों से उनकी झड़प हो गई। हरियाणा पुलिस के अनुसार, ”हिसार के चौधरी देवीलाल संजीवनी अस्पताल के बाहर विरोध के बहाने बदमाशों ने पुलिसकर्मियों पर हमला कर पथराव कर दिया था। इस हमले में घायल हुए 5 महिलाओं सहित 20 पुलिसकर्मियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।”

इसको लेकर किसानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी। किसान नेताओं और प्रशासन के अधिकारियों ने हिसार में इस मामले पर बैठक की थी। घटना के एक हफ्ते के बाद यानी 24 मई को प्रशासन किसानों के खिलाफ एफआईआर वापस लेने को राजी हो गया।

इस मामले पर बीकेयू नेता गुरनाम सिंह ने कहा, “उन्होंने एफआईआए वापस लेने के लिए पूरी प्रक्रिया को पूरा करने के लिए एक महीने का समय माँगा है।” उन्होंने आगे कहा कि प्रशासन ने आश्वासन दिया है कि किसानों के क्षतिग्रस्त वाहनों की मरम्मत भी कराई जाएगी। एसडीएम यहाँ गारंटी देने आए थे कि इसमें कोई भी बदलाव नहीं किया जाएगा। इस दौरान गुरनाम के साथ राकेश टिकैत भी मौजूद थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काशी विश्वनाथ मंदिर और महाकालेश्वर मंदिर परिसर के दुकानदारों को लगाना होगा नेम प्लेट: बिहार के बोधगया की दुकानों में खुद ही लगाया बोर्ड,...

उत्तर प्रदेश के बाद मध्य प्रदेश के महाकालेश्वर मंदिर परिसर में स्थित दुकानदारों को अपना नेम प्लेट लगाने का आदेश दिया गया है।

‘मध्य प्रदेश और बिहार में भी काँवर यात्रा मार्ग में ढाबों-ठेलों पर लिखा हो मालिक का नाम’: पड़ोसी राज्यों में CM योगी के फैसलों...

रमेश मेंदोला ने कहा कि नाम बताने में दुकानदारों को शर्म नहीं बल्कि गर्व होना चाहिए। हरिभूषण ठाकुर बचौल बोले - विवादों से छुटकारा मिलेगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -