Tuesday, September 28, 2021
Homeदेश-समाजदैनिक भास्कर समूह के सिर्फ वित्तीय लेनदेन पर नजर, संपादकीय से जुड़े फैसले लेने...

दैनिक भास्कर समूह के सिर्फ वित्तीय लेनदेन पर नजर, संपादकीय से जुड़े फैसले लेने का आरोप गलत: आयकर विभाग

“ये आरोप लगाए जा रहे हैं कि एक पब्लिकेशन के दफ्तरों में सर्च के दौरान IT के अफसरों ने खबरों में बदलाव करने के लिए कहा और एडिटोरियल से जुड़े फैसले खुद लेने लगे। ये आरोप बिल्कुल झूठे हैं और आईटी विभाग द्वारा इसका स्पष्ट रूप से खंडन किया जाता है।”

आयकर विभाग ने टैक्स चोरी के आरोपों में मीडिया समूह दैनिक भास्कर के विभिन्न शहरों में स्थित परिसरों पर गुरुवार (22 जुला, 2021) को छापे मारे। ये छापेमारी भोपाल, जयपुर, अहमदाबाद और कुछ अन्य स्थानों पर की गई है।

इस छापेमारी के बाद दैनिक भास्कर के एडिटर ओम गौड़ का एक इंटरव्यू वायरल हो रहा है, जिसमें वो कह रहे हैं कि आईटी विभाग ने उन्हें उनका काम करने से रोका। गौड़ कहते हैं, “वो आए और बैठ गए। उन्होंने खबर पब्लिश करने से पहले दिखाने के लिए कहा। उन्होंने स्टोरी देखी, बदलाव करने के लिए कहा और उसके बाद ही पब्लिश की गई।”

वीडियो वायरल होने के बाद आयकर विभाग ने सिलसिलेवार ट्वीट करते हुए इन आरोपों को खारिज कर दिया कि उनके अधिकारियों ने समाचारों में ‘परिवर्तन का सुझाव दिया’। हालाँकि उन्होंने अपने ट्वीट में किसी भी मीडिया समूह (दैनिक भास्कर का भी नहीं) का नाम नहीं लिया।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “कुछ मीडिया सेक्शंस की तरफ से ये आरोप लगाए जा रहे हैं कि एक पब्लिकेशन के दफ्तरों में सर्च के दौरान IT के अफसरों ने खबरों में बदलाव करने के लिए कहा और एडिटोरियल से जुड़े फैसले खुद लेने लगे। ये आरोप बिल्कुल झूठे हैं और आईटी विभाग द्वारा इसका स्पष्ट रूप से खंडन किया जाता है।”

ट्वीट में आगे कहा गया, विभाग के प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए जाँच टीम ने सिर्फ वित्तीय दस्तावेजों और लेन-देन की पड़ताल की है।”

आयकर विभाग ने ट्वीट में मीडिया समूह के राष्ट्रीय संपादकों द्वारा कुछ समाचार चैनलों को दिए गए साक्षात्कार का भी जिक्र किया। विभाग ने कहा, ‘‘मीडिया को दिए साक्षात्कार के मुताबिक ओम गौड़ लखनऊ में हैं। आयकर विभाग ने स्पष्ट किया कि लखनऊ कार्यालय पर छापेमारी ही नहीं की गई है, ओम गौड़ से सवाल-जवाब भी नहीं किए गए हैं। जो आरोप लगाए जा रहे हैं वे निराधार हैं और प्रायोजित लग रहे हैं।”

गौरतलब है कि दिल्ली और मुंबई की आयकर विभाग की विभिन्न टीमों द्वारा गुरुवार (22 जुलाई 2021) को तड़के 4:30 बजे दैनिक भास्कर के भोपाल, इंदौर, जयपुर, अहमदाबाद और महाराष्ट्र में स्थित 40 से ज्यादा ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई की गई। मीडिया समूह द्वारा टैक्स चोरी की सूचना मिलने पर आयकर विभाग ने यह कार्रवाई की।

हालाँकि टैक्स से संबंधित अनियमितता के मामले में छापामारी होने पर एक बार फिर से वही ‘प्रेस की आजादी पर कायरतापूर्ण हमला’ और ‘आपातकाल’ का रोना शुरू हो गया। कॉन्ग्रेस नेता रणदीप सिंह सूरजेवाला और लिबरल मीडियाकर्मी रोहिणी सिंह ने आयकर विभाग की कार्रवाई को सरकार की कायरतापूर्ण कार्रवाई बताया।

वहीं मीडिया समूहों ‘दैनिक भास्कर’ और ‘भारत समाचार’ पर आयकर के छापों को लेकर विपक्षी दलों के आरोपों के बीच सरकार ने गुरुवार को कहा कि एजेंसियाँ अपना काम करती हैं और ‘इनमें हमारा कोई हस्तक्षेप नहीं होता।’ सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने इस बारे में संवाददाताओं के सवालों के जवाब में यह बात कही। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पूरी जानकारी जरूर लेनी चाहिए। कई बार जानकारी के अभाव में भी बहुत सारे विषय ऐसे आते हैं जो सत्य से परे होते हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महंत नरेंद्र गिरि के मौत के दिन बंद थे कमरे के सामने लगे 15 CCTV कैमरे, सुबूत मिटाने की आशंका: रिपोर्ट्स

पूरा मठ सीसीटीवी की निगरानी में है। यहाँ 43 कैमरे लगाए गए हैं। इनमें से 15 सीसीटीवी कैमरे पहली मंजिल पर महंत नरेंद्र गिरि के कमरे के सामने लगाए गए हैं।

अवैध कब्जे हटाने के लिए नैतिक बल जुटाना सरकारों और उनके नेतृत्व के लिए चुनौती: CM योगी और हिमंता ने पेश की मिसाल

तुष्टिकरण का परिणाम यह है कि देश के बहुत बड़े हिस्से पर अवैध कब्जा हो गया है और उसे हटाना केवल सरकारों के लिए कानून व्यवस्था की चुनौती नहीं बल्कि राष्ट्रीय सभ्यता के लिए भी चुनौती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,823FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe