Saturday, July 13, 2024
Homeदेश-समाजअयोध्या में मनेगा जगद्गुरु रामभद्राचार्य का जन्मोत्सव, 14 से 22 जनवरी तक चलेगा अमृत...

अयोध्या में मनेगा जगद्गुरु रामभद्राचार्य का जन्मोत्सव, 14 से 22 जनवरी तक चलेगा अमृत महोत्सव: बोले आचार्य रामचंद्र दास- PM मोदी भी होंगे शामिल

"हमारे गुरु रामभद्राचार्य अयोध्या के राम मंदिर विवाद की तरह मथुरा मामले में भी कोर्ट में सबूत पेश करेंगे। यह ऐसे सबूत होंगे, जिनसे यह साफ हो जाएगा कि वहाँ पहले से मंदिर था और यह वो जगह है जहाँ भगवान श्री कृष्ण का जन्म स्थान है।"

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में भव्य राम मंदिर के लोकार्पण के साथ ही जगद्गुरु रामभद्राचार्य के जन्म का अमृत महोत्सव भी आयोजित होगा। पद्मविभूषण जगद्गुरु रामभद्राचार्य के शिष्यों की ओर से सूचना देते हुए यह बताया गया कि अमृत महोत्सव का आयोजन 14 से 22 जनवरी तक अयोध्या में होगा।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, 9 दिनों तक आयोजित होने वाले अमृत महोत्सव समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भी शामिल होने की बात कही जा रही है। रामभद्राचार्य के शिष्यों ने बताया कि पीएम मोदी समेत अलग-अलग दिनों में अमृत महोत्सव में शामिल होने वाले खास मेहमानों को औपचारिक तौर पर निमंत्रण भेजा जा चुका है।

जगद्गुरु रामभद्राचार्य के उत्तराधिकारी आचार्य रामचंद्र दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बताया कि इस अमृत महोत्सव में दुनिया भर के लाखों श्रद्धालुओं की अयोध्या आने की संभावना है। बता दें कि इसी दौरान अयोध्या में रामलला के भव्य मंदिर का लोकार्पण और प्राण प्रतिष्ठा समारोह भी होना है। ऐसे में आचार्य रामचंद्र दास का कहना है कि इस दौरान अयोध्या आने वाले श्रद्धालुओं को आनंद की दोहरी अनुभूति होगी। उन्हें गुरु और गोविन्द दोनों का लाभ मिल सकेगा। 

मुस्लिम पेश करें मिसाल 

वहीं काशी और मथुरा पर बात करते हुए आचार्य रामचंद्र दास ने कहा है कि काशी में ज्ञानवापी नाम आते ही यह साफ हो जाता है कि यह हिंदुओं की जगह है। इस मामले में अब मुस्लिमों को अपना दावा छोड़ कर मिसाल पेश करनी चाहिए। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि  एएसआई सर्वे के बाद खुद ही दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा। उनके मुताबिक मथुरा का विवाद भी गलत है। सभी जानते हैं कि वह जगह भगवान श्री कृष्ण का जन्म स्थान है।

आचार्य रामचंद्र दास ने दावा किया कि हमारे गुरु रामभद्राचार्य अयोध्या के राम मंदिर विवाद की तरह मथुरा मामले में भी कोर्ट में सबूत पेश करेंगे। यह ऐसे सबूत होंगे, जिनसे यह साफ हो जाएगा कि वहाँ पहले से मंदिर था और यह वो जगह है जहाँ भगवान श्री कृष्ण का जन्म स्थान है। उन्होंने कहा कि देश में अब धार्मिक स्थलों को लेकर बेवजह के विवाद नहीं खड़े करने चाहिए। क्योंकि, हिंदुओं ने कभी भी मक्का-मदीना पर कोई दावा पेश नहीं किया।

कौन है जगद्गुरु रामभद्राचार्य 

राम मंदिर मामले में कोर्ट में सबूत पेश करने वाले जगद्गुरु रामभद्राचार्य का जन्म उत्तर प्रदेश के जौनपुर में सरयूपारीण ब्राह्मण परिवार में मकर संक्राति के दिन 14 जनवरी, 1950 में हुआ था। जगद्गुरु रामभद्राचार्य 2 महीने की उम्र में आँखों की रोशनी जाने के बाद भी 4 साल की उम्र से ही कविताएँ करने लगे और 8 साल की छोटी सी उम्र में उन्होंने भागवत व रामकथा करनी शुरू कर दी थी। जगद्गुरु रामभद्राचार्य को भारत सरकार ने उनकी रचनाओं के लिए उन्हें 2015 में पद्मविभूषण से भी सम्मानित किया गया है। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव में NDA की बड़ी जीत, सभी 9 उम्मीदवार जीते: INDI गठबंधन कर रहा 2 से संतोष, 1 सीट पर करारी...

INDI गठबंधन की तरफ से कॉन्ग्रेस, शिवसेना UBT और PWP पार्टी ने अपना एक-एक उमीदवार उतारा था। इनमें से PWP उम्मीदवार जयंत पाटील को हार झेलनी पड़ी।

नेपाल में गिरी चीन समर्थक प्रचंड सरकार, विश्वास मत हासिल नहीं कर पाए माओवादी: सहयोगी ओली ने हाथ खींचकर दिया तगड़ा झटका

नेपाल संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में अविश्वास प्रस्ताव पर हुए मतदान में प्रचंड मात्र 63 वोट जुटा पाए। जिसके बाद सरकार गिर गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -