Sunday, September 26, 2021
Homeदेश-समाजरामभक्त गुलशन की फेसबुक ID डिलीट... पुलिस कस्टडी में? कौन चला रहा है?

रामभक्त गुलशन की फेसबुक ID डिलीट… पुलिस कस्टडी में? कौन चला रहा है?

गुलशन के स्क्रीनशॉट सार्वजानिक होने के बाद यह अकाउंट ही गायब हो गया है। सोशल मीडिया पर गुलशन के जरिए हिन्दुओं की साजिश और गाँधी-गोडसे जैसी बहस तेज हो गई हैं।

जामिया प्रदर्शन के दौरान बन्दूक लहराते हुए गोली चलाने वाले कथित ‘रामभक्त गुलशन’ का फेसबुक अकाउंट गायब हो चुका है। दरअसल, गुलशन द्वारा नारे लगाने के बाद उसकी एक फेसबुक ID सामने आई थी, जिसमें उसने चंदन गुप्ता की मौत का बदला लेने की बात कही थी।

साथ ही पत्रकारों द्वारा जब गिरफ्तारी के समय गुलशन से नाम पूछा गया तो उसने सिर्फ गुलशन न कहकर अपना नाम ‘रामभक्त गुलशन’ बताया। यह भी चर्चा करते देखे जा रहे हैं कई शायद गुलशन जानता था कि उसे ‘रामभक्त गुलशन’ के नाम से आसानी से सोशल मीडिया पर सर्च किया जा सकता है।

ज्ञात हो कि गुलशन की गिरफ्तारी के बाद उसके फेसबुक अकाउंट के सामने आने के बाद लिबरल मीडिया और लिबरल गिरोह ने सॉइल मीडिया पर गुलशन की गिरफ्तारी को हिन्दू आतंकवाद जैसे शब्दों से जोड़ना शुरू कर दिया था। इसके बाद गुलशन की फेसबुक ID के गायब हो जाने से यह सारा प्रकरण सन्देश में आ गया है।

लोग संदेह जता रहे हैं कि आखिर पुलिस की कैद में होने के बाद यह अकाउंट अपने आप कैसे गायब हो गया। इस अकाउंट में की गयी सभी गतिविधियाँ मात्र जनवरी 2020 के बाद ही देखी गईं हैं। इससे पहले अक्टूबर 2020 में गुलशन के इस अकाउंट से सिर्फ एक कवर फोटो ही अपडेट की गई है और बाकी अन्य जानकारियाँ छुपाई गई थी।

गुलशन के स्क्रीनशॉट सार्वजानिक होने के बाद यह अकाउंट ही गायब हो गया है। सोशल मीडिया पर गुलशन के जरिए हिन्दुओं की साजिश और गाँधी-गोडसे जैसी बहस तेज हो गई हैं। ऐसे में गुलशन के अकाउंट का ही गायब पूरे नाटकीय घटनाक्रम पर सवाल उठा रहा है। साथ ही, कुछ लोग यह भी पूछ रहे हैं कि उसने अपने प्रोफाइल से जो पेज लाइक किए हुए थे उसमें ‘एजाज़ खान’ और ‘भीम आर्मी का शेर’ शामिल हैं।

गज़ब की बात यह है कि एक ID डिलीट होने के बाद दूसरी ID सामने आ गई है।

अपडेट: नई सूचनाओं के आने से हमें पता चला है कि जामिया में गोली चलाने का आरोपित नाबालिग है, अतः सम्बद्ध कानूनों के अनुसार उसका नाम बदल दिया गया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राकेश टिकैत ने कृषि कानून वापस नहीं लेने पर चुनावी राज्यों में मोर्चा खोलने की केंद्र को दी धमकी, 27 सितंबर को भारत बंद...

कॉन्ग्रेस, आम आदमी पार्टी और आंध्र प्रदेश सरकार ने 27 सितंबर को बुलाए गए ‘भारत बंद’ का पूर्ण समर्थन किया है। वाम दलों और तेलुगू देशम पार्टी ने पहले ही समर्थन देने की घोषणा की है।

अंग्रेजों ने कैसे भारतीय महिलाओं को बनाया ‘सेक्स स्लेव’: 12-15 महिलाएँ 1000 ब्रिटिश सैनिकों की पूरी रेजिमेंट को देती थीं सेवाएँ

ब्रिटिश शासन में सैनिकों के लिए भारतीय महिलाओं को सेक्स स्लैव बनाया गया था। 12-15 महिलाएँ 1,000 सैनिकों को देती थीं सेवाएँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,542FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe